Post has shared content
Aaj bhi Bharat ki Media Deshdrohi Muslim ke

Against kuch bhi nhi Bolti aur nahi Dikhati he

Sirf or sirf Hinduo ko Target krti he , ૐ
Photo

Post has shared content
गुरदासपुर : सेना की वर्दी पहन देहली में हमले की तयारी में सात धर्मांध मुस्लिम आतंकवादी
देहली में आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए इंदिरा गांधी हवाई अड्डे और मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिली सूचना के अनुसार, ७ आतंकी किसी तरह सेना की वर्दी हासिल करने में कामयाब हो गए हैं। आईबी ने कहा कि, ७ आतंकी चकरी और गुरदासपुर बॉर्डर पोस्ट के बाहर देखे गए हैं। उन्हें भारतीय सेना के सूबेदार और कैप्टन रैंक के अफसरों की वर्दियां मिल गई हैं, जिनका उपयोग वह घुसपैठ के लिए कर सकते हैं।

हवाई अड्डे और मेट्रो स्टेशनों के अलावा पंजाब में चुनावों की ड्यूटी के लिए तैनात जवानों को भी अलर्ट रहने को कहा गया है। सीआईएसएफ के एक अधिकारी ने कहा कि, गणतंत्र दिवस को देखते हुए अंतिम चरण की सुरक्षा लगाई गई है और हवाई अड्डे की सुरक्षा भी २ गुना बढ़ाई गई है। इसके अलावा मेट्रो स्टेशनों की सुरक्षा में भी बढ़ाई गर्इ है।

सीआईएसएफ ने यह भी आदेश दिया है कि, बोर्डिंग वाली जगह पर भी बैग की तलाशी ली जाए। बल के डायरेक्टर जनरल ओपी सिंह ने कहा कि हमने हवाई अड्डे आने वाली सड़क की सुरक्षा बढ़ाई है और ब्रेकर्स लगाए हैं ताकि गाड़ियों की रफ्तार कम हो सके। हमने विमान कंपनियों से भी कहा है कि, विमान में यात्रियों के घुसने से पहले एक चेकिंग पॉइंट शुरू किया जाए।

आपको बता दें कि, कई चरणों में चेकिंग तभी होती है जब खतरा बहुत ज्यादा बड़ा हो और विमान में घुसने से पहले यात्रियों को कई बार सुरक्षा जांच से गुजरना होता है। फिलहाल कुछ ही एयरलाइंस खासकर अमेरिका जाने वाली ही कई चरणों में यात्रियों की तलाशी लेती हैं।
https://www.hindujagruti.org/hindi/news/92573.html
Photo

Post has shared content
मोदी की खिलाफत में फतवा का कोहराम, हिंदुओं ने काफिर को घेरा, एक इशारे पर होगा नरसंहार

फट गयी बरकती की

कोलकाता की टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम सैयद मोहम्मद नूरुर्रहमान बरकती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ फतवा जारी किया था। बरकती के जारी किए वीडियो में सैयद मोहम्मद नूरुर्रहमान बरकती पीएम मोदी के बारे के लिए बेहद अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था, जिसे प्रकाशित नहीं किया जा सकता। इसके बाद यूपी के मेरठ से उपदेश राणा नाम के शख्स ने इमाम बरकती के खिलाफ सीधी लड़ाई का ऐलान कर दिया है।
पीएम मोदी के खिलाफ फतवा नोटबंदी के विरोध में जारी किया गया था। इसमें इमाम बरकती कह रहे हैं कि मोदी ने देश को नोटबंदी के नाम पर बेवकूफ़ बनाया है और लोग अब उन्हें प्रधानमंत्री नहीं देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि ममता बनर्जी देश की प्रधानमंत्री बने।

एक वीडियो सन्देश द्वारा उपदेश राणा ने ऐलान है कि बरकती कि दाड़ी पर एक भी बाल नही छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि आज रेल और प्लेन द्वारा लगभग 150 हिन्दू (बिहार,उत्तरप्रदेश,महाराष्ट्र) से कोलकाता पहुंचे।

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=BtNSzu8_ids]
इसके पश्चात कोलकाता पुलिस जोकि पहले से ही बरकती कि सुरक्षा में तैनात है उन्होंने इन सभी हिन्दुओं को रोक लिया परन्तु अभी भी यह सभी कोलकाता में ही मौजूद है और मांग कर रहे है कि बरकती हाथ जोड़ कर माफ़ी मांगे। इस पर बरकती की तरफ से कोई बयान नहीं आया है और कहा जा रहा है कि वह कहीं बाहर भी नही निकल रहा है।

उपदेश का कहना है कि ना तो हम मुगल काल में और ना ही किसी मुस्लिम राष्ट्र में रह रहे है जहाँ कोई भी इमाम आकर फ़तवा सुना सकता है और वो भी देश के प्रधानमंत्री पर तो बिलकुल भी नहीं।

देखना यह है कि मोदी के खिलाफ फतवा सुनाने वाला इमाम अब कब तक अपने बिल में छुपकर बैठा रहता है। इसकी तो केवल 150 हिन्दुओ को देख कर रही निकल गयी है। बताया जा रहा है कि कल भारी सुरक्षा बलों के बीच बरकती प्रेस कांफ्रेंस करेंगे और वही उपदेश यह कह रहे है कि वो बरकती को मारे बिना वापिस नही जायेंगे।

नोटबंदी के फैसले पर पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ फतवा जारी करने वाले बरकती को साक्षी महाराज ने आस्तीन का सांप बताया था। उन्होंने बरकती को आतंकवादी बताते हुए कहा कि ये वे लोग हैं, जो जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं
Photo

Post has shared content
सभी मुस्लिम मित्रों से अनुरोध है कि पहचानो अपने पूर्वजों पर किये अत्याचार को, तुमहारे ही पूर्वजों को मारकाट, हत्या , बलात्कार का शिकार मुसलमानों ने किया थाअब क्या तुम उन्ही अत्याचारियों का धर्म अपनाकर अपने पूर्वजों का अपमान नहीं कर रहे ? आ जाओ, अपने पवित्र सनातन धर्म में वापस , छोड़ दो हत्यारे, बलात्कारी मोहम्मद के गंदे मजहब को।
भारत में रहने वालों मुस्लिम का सच......
➖➖➖➖➖➖➖
कोई भी ये सबूत के साथ साबित करे की मुस्लिम में जातियाॅ और संप्रदाय नहीं होते....
निचे लिखी जातियों से 2 बातें सिद्ध होती हैं:
1.मुस्लिमों में जातियां होती हैं।
2.ये सभी जातियों के उपनाम surname पहले हिन्दू ही थे
➖➖➖➖➖➖➖➖
जजिया कर
अकबर के जजिया कर से बने हिन्दु से मुसलमान
हिन्दुओं पर लगे जज़िया १५६२ में अकबर ने हटा दिया, किंतु १५७५ में वापस लगाना पड़ा | जज़िया कर गरीब हिन्दुओं को गरीबी से विवश होकर इस्लाम की शरण लेने के लिए लगाया जाता था। यह मुस्लिम लोगों पर नहीं लगाया जाता था। इस कर के कारण बहुत सी गरीब हिन्दू जनसंख्या पर बोझ पड़ता था, जिससे विवश हो कर वे इस्लाम कबूल कर लिया करते थे।
➖➖➖➖➖➖
हिन्दु से मुस्लिम बनी जातियाॅ
भारत वर्ष की कई हिंदू जातीय मध्यकालीन भारत में हिंदू धर्म छोड़ कर मुस्लिम धर्म में चली गयी थी | भारत में पाई जाने वाली विभिन्न मुस्लिम जातियों, जो अपना मूल हिंदू धर्म को मानती हे, इसका संक्षिप्त विवरण निम्नांकित हे
➖➖➖➖➖➖➖
*पटेल : गुजरात में पाई जाने वाली प्रमुख मुस्लिम जाति | १५ वि सदी में मुख्यत: इस जाति के लोगो ने मुस्लिम धर्म को स्वीकार कर लिया | ये अपना मूल हिंदू धर्म को मानते हे | हिंदुओं में भी पटेल जाति पाई जाती हे | आज भी ये लोग कई हिंदू परम्परा को ये मानते हे, इनकी गोत्र गंगात, दलाल, देसी मुंशी आदि हिंदू सम्कक्ष में भी मिलते हे | यह जाति मुख्यत: अपने समाज में ही शादी करती[7]|
➖➖➖➖➖➖
हिन्दु से मुस्लिम बनें
*पिंजारा या पिनारा :रुई की धुनाई का कार्य करने वाली मुस्लिम जाति हे | ये लोग ११ वि सदी में औरंगजैब के समय मुस्लिम धर्म में परिवर्तित हुए थे | किन्तु कुछ हिंदू धर्म के रीतियो और अपने बिरादरी में ही शादी करने की प्रथा हिंदू मूल को इंगित करती हे, ये लोग गो मांस नहीं खाते हे और हिंदू रस्म, खोल भारवो को मानते हे[7]|
कुछ गुजराती मुस्लिम जातीय जेसे लोहना मेमन आदि भी हिंदू धर्म से ही परिवर्तित हुए हे |
-➖➖➖➖➖➖➖➖
*वघेर : एक मुस्लिम जाति जिसका शाब्दिक अर्थ हे चमर से हवा देने वाली - ये भी हिंदू धर्म से परिवर्तित मुस्लिम जाति और हिंदू समकक्ष वाघेर जाति भी गुजरात में पे जाती हे | ये लोग गो मांस नहीं खाते और सिर्फ अपनी समाज में ही शादी करते | इनकी गोत्र शेठ, जडेजा, सोलंकी जो की प्रमुख राजपूत गोत्रों के समान जान पड़ती[7] |
➖➖➖➖➖➖➖
हिन्दु से मुस्लिम जातियाॅ
*सिंधी मुस्लिम : थे अपने आपको हिंदुओं से परिवर्तित मानते हे और अपना मूल हिंदू राजपूत से मानते हे | इनके प्रमुख अटक या गोत्र इस प्रकार राव, टाक, देवड़ा, चोहान[7] अतर - महाराष्ट्र में पाई जाने वाली एक मुस्लिम जाति हे| ये लोग १२९४ से १६७४ इस्वी में धर्म परिवर्तित हुए थे[8] |
➖➖➖➖➖➖
*मांग गरुडी :मुस्लिम समाज में भी मांग गरु डी जाति पाई जाती | पेज ६२२[8]
➖➖➖➖➖➖
*मुस्लिम भांड :यह भी एक मुस्लिम जाति हे जो कहानिया कहती हे, यह जाति सिर्फ बिरादरी में ही शादी करती हे| पेज २५२[8]
*मुस्लिम भांड :यह भी एक मुस्लिम जाति हे जो कहानिया कहती हे, यह जाति सिर्फ बिरादरी में ही शादी करती हे| पेज २५२[8]
-➖➖➖➖➖
*मंसूरी या रंगरेज :ये लोग अपना मूल राजपूत जाति को मानते हे | इनके अनुसार रण स्वरुप सिंह के समय ये राजस्थान से गुजरात आए और यहाँ पर धर्म्नातरन कर लिया | आज भी इनकी प्रमुख गोत्र - राव, देवड़ा, टाक चोहान भाटी जोकि राजपूत गोत्र भी हे |[7]
-➖➖➖➖➖➖➖
*बोहरा : यह पश्चिमी भारत में पाई जाने वाली एक मुस्लिम जाति जो शिया समुदाय को मानती हे | यह एक व्यापार आदि में सलग्न रहती हे | असगर अली इंजिनियर के अनुसार बोहरा समुदाय स्थानीय भारतीय जातियों के धर्म परिवर्तन से ही बनी हे | ये लोग अपने समाज में ही शादी करते हे | आज भी कई हिंदू प्रथाओं को इनके जीवन में देखा जा सकता | पेज १९५[8]
➖➖➖➖➖
*देशवली ये लोग राजपूत जातियों से परिवर्तित मने जाते, देशवाली का अर्थ होता हे देश के रक्षक | इन लोग का धर्म परिवर्तन मोह. गोरी के समय हुआ था ऐसा मन जाता हे | ये लोग गो मांस नहीं खाते हे |पेज ३१२[7]
➖➖➖➖😋
*चेजरा :इन्हें मिस्त्री जाति के नाम से भी जाना जाता |ये लोग राजपुत जाति से परिवर्तित, जो मो. गोरी के समय परिवर्तित हुऐ थे | ये लोग गो मांस नहीं खाते | इनकी प्रमुख गोत्र चोहन, सोलंकी सिसोदिया हे जोकि प्रमुख राजपूत जातियों की गोत्रे भी हे |[7]
Photo

Post has shared content
इस्लाम में नारी का शोषण व् दयनीव स्तिथि।शरिया और कुरान सिर्फ महिला शोषण और उत्पीड़न का माध्य्म है।इसकी कड़िया अति घृणीत है।
_______

1.कुरान सूरा 2:223

औरत तुम्हारे खेत जैसी है ।उसमे मर्द जैसे चाहे वैसे हल चलाये।

इसका अर्थ सेक्स के दौरान की स्तिथि (position)से है।


बूखारी हदीथ:यदि औरत सेक्स से मना करे तो फ़रिश्ते उस से नाराज हो जायेंगे ।

__________

2.कुरान 2:228

मर्द औरत से दर्जे में कहीं ऊपर है।

__________

3.बुखारी हदीथ:पैगम्बर ने कहा की मैंने नर्क की और जब देखा ;तो मैंने उसमे औरतों की संख्या ज्यादा देखी।

___________

4.कुरान सूरा 4:11

उत्तराधिकार में मर्द का हिस्सा औरत से दुगना होगा ।

_________

5.कुरान सूरा 2:282

औरत की गवाही मर्द की आधी मानी जायेगी।

___

6.कुरान सूरा 2:230

यदि तलाक के बाद दोनों दोबारा शादी करना चाहे तो औरत को किसी और से शादी ,सेक्स और फिर तलाक लेना होगा ।

उसके बाद ही पहला पति उससे दोबारा शादी कर सकता है ।इसपर फ़िल्म निकाह भी बनी थी।
______

7.दासी औरत मर्द मालिक की सम्पत्ति है।कुरान 4:24.

__________

8.कुरान 4:3 .एक मर्द 4 पत्नियां रख सकता है।

परंतु ध्यान देने योग्य है की मोहम्मद पर ये 4 की भी शर्त लागू नहीं थी ।उसे कितनी भी करने की छूट थी।कुरान सूरा 33:50.

________

9.पति जब चाहे पत्नी को पीट सकता है।कुरान 4:34.

______

10.कुरान सूरा 65:1.वयस्क adult मर्द उस बच्ची से भी शादी और सेक्स कर सकता है जिसका अभी menses भी शुरू न हुआ हो।

_________

11यदि एक बेचारी महिला का बलात्कार हो जाये तो महिला को 4 गवाह पेश करने होंगे कुरान 24:4।

नहीं तो महिला को ही व्यभिचारी माना जायेगा और पत्थर मार मार कर उसे मृत्यु दी जायेगी।
______

12.आदमी तलाक लेना चाहे तो उसे सिर्फ 3 बार तलाक बोलना है ।यदि औरत को चाहिए (जिसे खोला कहते हैं)तो उसे काजी के पास अर्जी देनी होगी।फिर उस बेचारी महिला का तलाक काजी अति जटिल बना देता है।
Photo

Post has shared content
थाने में मुझे बम फोड़ने वाला एक आतंकवादी मिला, मैंने पूछा की बम क्यों फोड़ते हो?

उसने बोला खुदा का काम कर रहा था जी ।
.
एक 84 साल का बुड्ढा , 11 साल की बच्ची से निकाह कर रहा था ?
मैंने पूछा ऐसा गंदा काम करते तुम्हें शर्म नहीं आती ।
उसने बोला पैगंबर ने भी तो यही किया था ।
.
मैंने पंचर बनाने वाले से पूछा की बच्चों से काम क्यों करवाते हो ?
उसने बोला मोहम्मद तो आईशा से धंधा करवाता था। काम नहीं करेंगे तो खाएँगे क्या ?
.
मैंने पूछा की इतने बच्चे क्यों पैदा करते हो?
उसने बोला अल्लाह की मेहरबानी है जी
.
झूठ क्यों बोलते हो जी ?
उसने बोला खुदा कसम आज तक झूठ नहीं बोला जी ।
.
लड़कियां छेड़ने वाले झुंड को जब डांटा तो बोला
यही तो हमारा मनोरंजन का साधन है , इसे तहरुश कहते हैं। अरब में यही खेल खेला जाता है।
ओलिम्पिक में ये खेल आ जाए तो हमे ही Gold+Silver+Bronze मिलेगा।
.
गला क्यों काट रहे हो ?
इसे हलाल करना कहते हैं , अल्लाह बड़ा खुश होगा।
.
अब बताओ की ये किस मजहब वाले होते हैं जो बम फोड़ते हैं ?
Photo

Post has shared content
मित्रो।आपको पता ही है कि मुस्लिम अपने चाचा मामा और बुआ की बेटी (first cousin) ;जिसे हम अपनी बहन ही मानते है ,उनके साथ विवाह करके बच्चे उत्पन्न करते हैं।
इसे अंग्रेजी में inbreeding कहते है ।
ये इनका 1400 वर्ष से चल रहा है ।
इनके पिगम्बर मोहम्मद ने भी अपनी सगी बुआ की बेटी जैनाब से विवाह किया था।
कुरान की आयत 4:23 में इसकी अनुमति दी गई है ।
परंतु इस inbreeding के कारण मुस्लिमों में भयंकर शारीरिक व् मानसिक विकृत्यां उत्पन्न हो रही है ;जिसे पुरे विश्व के विशेषज्ञो को भी चिंतित कर दिया है ।
इसी मानसिक विकृति के कारण ये लोग हिंसक और सेक्स के पागल .....बिलकुल पशु समान होते जा रहे हैं।
प्रत्येक नई पीढ़ी दर पीढ़ी inbreeding करने के कारण :इन विकृतियों का प्रभाव दुगना चौगुना होता जाता है ।


कृपया नीचे दिए वैज्ञानिक सन्दर्भ पढेँ:
http://www.barnhardt.biz/the-one-about/the-one-about-muslims-being-inbred/

http://dcgazette.com/muslim-inbreeding-may-genetic-catastrophe/

http://www.telegraph.co.uk/culture/hay-festival/8544359/Hay-Festival-2011-Professor-risks-political-storm-over-Muslim-inbreeding.html

http://islamversuseurope.blogspot.co.uk/2013/05/psychologist-serious-consequences-of.html?m=


Photo

Post has shared content
अल्लाह एक काल्पनिक चरित्र है

यदि कुरान और हदीसों को ध्यान से पढ़ें,  तो उसमे अल्लाह के द्वारा जितने भी आदेश दिए गए हैं, सब में केवल जिहाद ह्त्या लूट बलात्कार और अय्याशी से सम्बंधित है.

कोई भी बुद्धिमान व्यक्ति इनको ईश्वर के आदेश मानने से इंकार कर देगा. आप देखेंगे की अल्लाह हमेशा मुहम्मद का पक्ष लेता है, मुहम्मद के हरेक कुकर्म को किसी न किसी आयात से जायज बता देता है. मुहम्मद के लिए औरतों का इंतजाम करता है, मुहम्मद के घरेलु विवाद सुलझाता है, मुहम्मद के पापों पर पर्दा डालता है  आदि आदि.
➖➖➖➖➖➖➖➖➖
यूरोप के विद्वान् इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि वास्तव में अल्लाह एक कल्पित चरित्र है. अल्लाह का कोई अस्तित्व नहीं है. अल्लाह और कोई नहीं मुहम्मद ही था. जो अल्लाह का रूप धरकर पाखण्ड कर रहा था  और लोगों को मूर्ख बनाकर अपनी मनमर्जी चला रहा था और अय्याशी कर रहा था.
➖➖➖➖➖➖➖
कुरान अल्लाह की किताब नहीं, बल्कि मुहम्मद, आयशा और वर्क बिन नौफल की बेतुकी बातों का संग्रह है  और हदीसें मुहम्मद के साथियों द्वारा चुगली की गयी बातें हैं.
⏺यहाँ पर उन्हीं तथ्यों की समीक्षा की जा रही है, जिस से साबित होता है  की मुहम्मद अलाह की खाल ओढ़कर अपनी चालें कैसे चलता था.

इसके लिए प्रमाणिक हदीसों और कुरान से हवाले लिए गए हैं

1⃣1 अल्लाह को केवल 🐗मुहम्मद ही जानता था

"रसूल ने कहा कि केवल मुझे ही अलह के बारे में पूरी पूरी जानकारी है ,कि अल्लाह कैसा है ,और कहाँ रहता है ,और भवष्य में क्या करने वाला है " सही मुस्लिम किताब 30 हदीस 5814."

"आयशा ने कहा कि ,जब भी मोमिन रसूल के पास आकर,उन से अल्लाह और रसूल के अधिकारों ,के बारे में कोई सवाल करता था ,तो रसूल एकदम भड़क जाते थे ,और कहते थे कि ,मैं अल्लाह को अच्छी तरह पहिचानता हूँ .मुझ में और अल्लाह में कोई फर्क नहीं है .मैं अल्लाह के बारे में तुम सब से अधिक जानता हूँ " - बुखारी जिल्द 1 किताब 2 हदीस 19".

"सईदुल खुदरी ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,जन्नत में केवल उन्हीं लोगों को ऊंचा स्थान मिलेगा जो ,अल्लाह के साथ मुझे भी आदर देंगे और मुझे चाहेंगे " - बुखारी जिल्द 4 किताब 54 हदीस 478" .


2⃣2 अल्लाह मुहम्मद को औरतें भेजता था

"खौला बिन्त हकीम नामकी एक औरत रसूल के पास गयी ,रसूल ने उस से सहवास कि इच्छा प्रकट की ,लेकिन आयशा को यह पसंद नहीं आया .इस पर रसूल ने कहा कि ,आयशा क्या तुम नहीं चाहती हो ,आल्लाह मुझे औरतें भेजकर मुझे ख़ुशी प्रदान नहीं करे .इस औरत को अल्लाह ने मेरे लिए ही भेजा है ". बुखारी जिल्द 7 किताब 62 हदीस 48" .


3⃣3 अल्लाह मुहम्मद का पक्ष लेता था

"अब्ब्बास बिन अब्दुल मुत्तलिब ने कहा कि ,रसूल से मैंने सुना कि रसूल ने कहा अल्लाह हमेशा मेरा ही पक्ष लेता है .और मेरी हरेक बात को उचित ठहरा देता है .मेरे मुंह से अल्लाह ही बोलता है "सहीह मुस्लिम किताब 1 हदीस 54 ".


4⃣4 मुहम्मद को गाली,अल्लाह को गाली

"अबू हुरैरा ने कहा कि ,जब कुरैश के लोग रसूल को मुहम्मद कि जगह "मुहम्मम "कहकर चिढाते थे तो,रसूल ने कहा क्या तुम लोग यह नहीं जानते हो कि ,तुम अल्लाह को चिढ़ा रहे हो .इस से तुम पर अजाब पड़ेगा "बुखारी जिल्द 4 किताब 56 हदीस 773".


5⃣5 मुहम्मद कि जुबान अल्लाह कि जुबान

"अबू मूसा ने कहा कि ,रसूल ने कहा ,मैं जो भी कहता हूँ वह मेरी नहीं बल्कि अल्लाह कि जुबान है .जिसने मेरी बात मानी समझ लो उसने अल्लाह कि बात को मान लिया "अबू दाऊद-किताब 3 हदीस 5112".

"आयशा ने कहा कि ,हिन्दा बिन्त उतबा रसूल के पास शिकायत लेकर आई और बोली कि ,मुझे अबू सुफ़यान से खतरा है ,क्या मैं अपना घर छोड़ कर चली जाऊं ,क्या सुफ़यान को अल्लाह का खौफ नहीं है .रसूल ने कहा तुम डरो नहीं ,तुम्हें कुछ नहीं होगा .यह मेरा नहीं अल्लाह का वायदा है "सहीह मुस्लिम किताब 18 हदीस 4254 ".


6⃣6 मुहम्मद को अल्लाह का डर नहीं था

"आयशा ने कहा कि ,एक बार जैसे ही रसूल घर में दाखिल हुए तो एक यहूदिन ने चिल्लाकर रसूल से कहा कि क्या तझे पता नहीं है कि कयामत के दिन अल्लाह तेरे गुनाहों के बारे में सवाल करेगा.
रसूल ने कहा कि मुझे इसका कोई डर नहीं है  मैं खुद अपने आप से सवाल क्यों करूंगा "मुस्लिम किताब 4 हदीस 1212".

"अम्र बिन आस ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,अल्लाह तो मेरा दोस्त है .और वह मुझसे या मेरे बाप दादाओं या मेरे साथियों से उनके गुनाहों के बारे में कोई सवाल नहीं करेगा .और मई सब गुनाह माफ़ कर दूंगा "मुस्लिम किताब 1 हदीस 417 .इब्ने माजा किताब 1 हदीस 93". -


7⃣7 मुहम्मद से नीची आवाज में बोलो

"हे ईमान वालो ,अपनी आवाजें रसूल की आवाजों से ऊंची नहीं करो ,और जो लोग रसूल के सामने अपनी आवाजें नीची रखते है .अल्लाह उनके लिए क्षमा और उत्तम बदला देगा "सूरा अल हुजुरात 49 :2 और 3".


8⃣8 अल्लाह के नाम पर मुहम्मद का कानून -
"जब अल्लाह का रसूल की फैसला कर दे ,तो किसी को कोई अधिकार नहीं रह जाता है कि ,वह रसूल कि वह रसूल के फैसले कि अवज्ञा कर सके ." सूरा अहजाब 33 :36 ".

"इब्ने अब्बास ने कहा कि ,जो रसुल के आदेश को कबूलकरेगा और मान लेगा समझ ले कि उसाने अल्लाह केअदेश को मान लिया .और जो रसूल के आदेश का विरोध करेगा वह अल्लाह का विरोध माना जाएगा "बुखारी जिल्द 5 किताब 59 हदीस 634" .


9⃣9 मुहम्मद का आतंक अल्लाह का आतंक  

"अबू हुरैरा ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,मैं लोगों ले दिलों में आतंक पैदा कर दूंगा .और जो आतंक होगा वह अल्लाह के द्वारा पैदा किया आतंक समझा जाये  - "सहीह मुस्लिम किताब 4 हदीस 1066 और 1067" .


🔟10 अल्लाह ने शादियाँ तय करवायीं

"जब मुहम्मद ने अपनी पुत्रवधू जैनब बिन्त से अपनी शादी करवाई थी ,वह शादी खुद अल्लाह ने ही करवायी थी .उस समय अल्लाह के आलावा कोई दूसरा नहीं रसूल ही थे "सहीह मुस्लिम -किताब 4 हदीस 1212 ".


1⃣1⃣11 अल्लाह के बहाने अली बोलता था

"जाबिर बिन अब्दुल्लाह ने कहा कि ,अक्सर जब रसूल कोई महत्वपूर्ण आयत सुनाने वाले होते थे तो ,सब को बुला लेते थे .फिर अपने घर के एक गुप्त कमरे में अली को बुला लेते थे .जबीर ने कहा कि इसी तरह एक बार रसूल ने हमें बुलाया ,फिर कहा कि एक विशेष आयत सुनाना है .फिर रसूल अली को एक कमरे में ले गए .आर कहा कि इस आयत में काफी समय लग सकता है इसलिए अप लोग रुके रहें ,हमने चुप कर देखा कि अली ,रसूल से अल्लाह की तरह बातें कर रहा था .वास्तव में कमरे में रसूल और अली के आलावा कोई नहीं था .अलह कि तरह बातें करने वाला और कोई नहीं बल्कि रसूल का चचेरा भाई अली था "शामए तिरमिजी हदीस 1590 ".

➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
इस सारे विवरणों से साफ पता चलता है कि ,अल्लाह का कोई अस्तित्व ही नहीं है .यह मुहम्मद की चालबाजी और पाखंड था .अरब के मुर्ख ,लालची लोग मुहाम्मद की बे सर पैर की बातों को अल्लाह का आदेश मान लेते थे .
आज भी कई ढोंगी बाबा ,फकीर इसी तरह से लोगों को ठगते रहते है .चूंकि आज विज्ञानं का प्रचार होने से लोग ऐसे ढोंगियों को जल्द ही भंडा फोड़ देते हैं .और पाखंडियों को जेल के अन्दर करा देते हैं .और ढोंगियों के जाल से बच जाते है .

आज इस बात की अत्यंत जरुरत है कि दुनिया के सबसे बड़े धूर्त ,पाखंडी ,और अल्लाह के नाम पर आतंक करने वाले स्यंभू रसूल का विश्व स्तर पर भंडा फोड़ा जाये .तभी लोग शांति से जी सकेंगे .
अल्लाह को मानाने या उस से डरने कि कोई जरुरत नहीं है .मुहम्मद ही अल्लाह बना हुआ था .
Photo

Post has shared content
आखिर क्यों मुस्लिम महिलाएं इस्लाम छोड़कर अपना रही है हिन्दू धर्म...?
आखिर क्यों मुस्लिम महिलाएं इस्लाम छोड़कर अपना रही है हिन्दू धर्म...?

आजकल ये बहुत देखने को मिल रहा है कि मुस्लिम महिलायें इस्लाम छोड़कर हिन्दू धर्म अपना रही है। आखिर ऐसा क्या है इस्लाम में जो उन्हें धर्म परिवर्तन अपनाने के लिए मजबूर कर रहा है। हाल ही में गाजियाबाद की शबनम नाम की मुस्लिम महिला हिन्दू धर्म अपनाकर दामिनी बन गई। दामिनी के बाद अब और भी पीड़ित मुस्लिम महिलाओं का हौसला बढ़ा है और वे हिन्दू धर्म कि ओर बढ़ रही है।

शबनम क्यों बनी दामिनी... ?
तीन तलाक और हलाला के नियम से दुखी शबनम ने हिंदू धर्म अपना कर दामिनी बन गई। दामिनी इस्लाम धर्म के नाम पर हो रही महिलाओं की दुर्दशा पर खुलकर उद्गार व्यक्त किए। 25 वर्षीय दामिनी ने कहा कि इस्लाम धर्म के नाम पर लगभग सभी मुस्लिम महिलाएं किसी न किसी प्रकार से यातनाएं झेल रही हैं।
कम उम्र में उनका निकाह कर दिया जाता है, फिर उन पर जल्दी जल्दी बच्चे पैदा करने का दबाव दिया जाता है। बच्चा न पैदा होने पर उन्हें तमाम शारीरिक यातनाएं दी जाती हैं और छोटी छोटी बातों पर तलाक दे दिया जाता है। तलाक देने के बाद महिलाओं की स्थिति और भी बदतर हो जाती है।
दामिनी का कहना है कि तलाक के बाद शौहर से दोबारा निकाह करने के लिए मुस्लिम समाज द्वारा चलाई गई प्रथा हलाला से गुजरना होता है। उसने बताया कि तलाक के बाद उसके शौहर ने फिर से साथ रहने के लिए उसका हलाला भी कराया और दोस्त के हवाले कर दिया। तीन महीने बाद जब वह पति के पास पहुंची तो उसे स्वीकार करने के बजाय पति ने वेश्यावृत्ति में धकेल दिया।

क्या है हलाला...
तलाक होने के बाद महिला को तीन माह तक पर्दे में रहकर इद्दत करनी होती है। इसके बाद उसे किसी अन्य व्यक्ति के साथ निकाह करना होता है। यह व्यक्ति महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाकर तलाक देगा। अब महिला को तीन माह की दोबारा से पर्दे में रहकर इद्दत करनी होगी। इसके बाद ही वह अपने पति से निकाह कर सकती है।

इन सब अत्याचारों से परेशान आकर शबनम ने हिन्दू अपना लिया और दामिनी बन गई।

तीन मुस्लिम महिलायें भी अपना सकती है हिन्दू धर्म
दामिनी के बाद तीन अन्य पीड़ित मुस्लिम महिलाएं भी तीन तलाक और हलाला के विरोध में सामने आई हैं। इनमें से दो महिलाओं को तो उनके पति ने बहुत ही मामूली सी बात पर तलाक दे दिया। उन्होंने तीन तलाक के खिलाफ अपनी आवाज को बुलंद करते हुए चेतावनी भी दे डाली कि अगर उनके साथ न्याय नहीं हुआ तो वो भी हिन्दू धर्म अपना लेगी।

मुरादनगर की रहने वाली सलमा, नगमा और अफसाना (बदले हुए नाम) ने अपनी आपबीती सुनाई और बताया कि बहुत ही मामूली बात पर उनके पतियों ने उन्हें तलाक दे दिया और उनके बच्चे भी अपने पास रख लिए। उनका कहना है कि तीन तलाक की यह कुप्रथा मुस्लिम महिलाओं की जिंदगी बर्बाद कर देती है। मुस्लिम समाज की यह कुप्रथा महिलाओं की जिंदगी नर्क बना रही है। तलाक होने के बाद अब अपने घर रह रही हैं, मगर वहां पर सम्मान नहीं मिल रहा।

क्या थी तीन तलाक देने कि वजहें
पीड़ित महिलाओं में एक का कहना है कि वह मायके से ससुराल आने में एक दिन लेट हो गई तो इसी बात पर उसे तलाक दे दिया गया। दूसरी महिला ने बताया कि वह नौकरी करती थी। उसके पति ने उसे बदचलन कह कर तलाक दिया। तीसरी युवती अपनी दास्तान नहीं सुना सकी और यह कह कर फूट फूट कर रोनी लगी कि उसके हालात बहुत बुरे रहे हैं। बयां नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि वे इसके खिलाफ शीघ्र ही अभियान चलाएगी और इसका विरोध करेगी। उनके विरोध के बाद भी यदि यह बुराई समाप्त नहीं होती है तो वह दामिनी की तरह धर्म परिवर्तन कर हिन्दू धर्म स्वीकार कर लेंगी।

मुस्लिम चाहते है इस्लामीकरण बढ़ाना
इस्लामीकरण क लिए मुस्लिम समुदाय महिलाओं क साथ अत्याचार कर रहा है। वे ज्यादा बच्चे पैदा करने के लिए एक से ज्यादा शादी करते है। वे तीन तलाक का सहारा लेकर अपनी बीवियों को छोड़ देते है और दूसरी शादी कर देते है। ये क्रम चलता रहता है। ये सब करने क पीछे उनका मकसद इस्लामीकरण को बढ़ाना है। मुस्लिम महिलाएं मात्र बच्चे पैदा करने कि मशीने बन कर रह गई है।

सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है मामला
आपको बता दे कि काफी लंबे समय से तीन तलाक मामले पर बहस चल रही है। जहां एक तरफ केन्द्र सरकार इसे महिलाओं के अधिकारों का हनन बता रही है, वहीं सुप्रीम कोर्ट में भी यह मामला चल रहा है। महिलाओं के हक के लिए कई मुस्लिम महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में एकतरफा तीन तलाक व बहुविवाह जैसी कुरीतियों के खिलाफ आवाज उठाई है।




Photo

Post has shared content
Wait while more posts are being loaded