Post has attachment
डबल बैड पर आडी तिरछी अवस्था में पडी वह लडकी दुनिया जहान से बेखबर सोयी पडी थी! काली जिन्स और लाल टॅाप मे वह बला की हसीन थी! बैड पर उल्टी पोजीसन मे उसका चेहरा चमक रहा था और बता रहा था कि वह बेहद हसीन थी ,बेहद खूबसूरत! एक हाथ उसका आधा बैड से लटक रहा था जिसकी वजह से उसके हाथ में पहना बेशकीमती ब्रेसलेट ,जो कि सोने का था , लटक रहा था! ब्रेसलेट काफी चौडा था और उस पर लिखा था अग्रेंजी में 'R' जो सामने वाले को बरबस ही अपनी तरफ आकर्षित करता था!
तभी बैड के पीछे खिडकी पर आहट हुई बहुत धीरे से !फिर शान्ति छा गई! लडकी पर कोई प्रतिक्रिया नही हुई वो अब भी बेखबर सी सोई हुई थी! कमरे में नाइट बल्ब की रोशनी छाई हुई थी! खिडकी पर पुन: कुछ सरसराहट हुई! खिडकी के शीशे के अन्दर से एक हाथ अन्दर आया और उसने खिडकी की चिटकनी धीरे से खोल दी! हल्की सी आवाज जरूर हुई मगर लडकी पर कोई असर नही वह अब भी ज्यो की त्यो सोई हुई थी!
खिडकी को खोलकर नकाबपोश धीरे से कमरे के अन्दर कूद गया और कुछ सैकिन्ड के लिये उसी अवस्था में रहा ! ओवरकोट पहने नकाबपोश सिर पर फैल्ट हैट पहने हुवे थाऔर अपना चहरा भी नकाब से ढक रखा था! कुल मिलाकर किसी भी तरह से कोई उसे पहचान नही सकता था! वह सर से पाव तक भीगा हुआ था ! पानी टपक कर फर्श पर बिखर रहा था! धीरे धीरे वह लडकी की तरफ बढने लगा! एक हाथ उसका ओवरकोट की जेब में था! वह लडकी के पास पहुचा ! जब उसका हाथ जेब से बाहर आया तो उसमे रिवाल्वर चमक रहा था! उसने लडकी का कधां पकडकर पलट दिया ! लडकी ने कुनमुनाकर आखे खोल दी और बस उसकी आँखे फटी की फटी रह गई! नीन्द पूरी तरह से उड चुकी थी आखिर रिवाल्वर उसी को घूर रही थी! सैकिन्ड के सौवे हिस्से उसके तमाम मसानो ने पसीना उगलना शुरु कर दिया! वह चीखना चाह रही थी मगर खौफ से वह चीख नही पा रही थी!
नकाबपोश बडे आराम से उसकी हालत का मजा ले रहा था! कहा उसने भी कुछ नही!
"कौ...न.. हो ..तुम..? "लडकी की लडखडाती आवाज बडी मुश्किल से मुहँ से निकली ! नकाबपोश ने फिर भी कुछ नही कहा!.........
"कत्ल नही होने दूंगा", को प्रतिलिपि पर पढ़ें :
http://hindi.pratilipi.com/lucky-nimesh-lucky/katl-nahi-hone-dunga?utm_source=android&utm_campaign=content_share
भारतीय भाषाओँ में अनगिनत रचनाएं पढ़ें, लिखें और दोस्तों से साझा करें, पूर्णत: नि:शुल्क
मेरी कहानी को जरूर पढें सस्पैन्स, थ्रिलर से भरपूर यह कहानी आपको जरूर पसन्द आएगी ,,,,

कत्ल नही होने दूंगा / katl nahi hone dunga « लकी निमेष
pratilipi.com
Wait while more posts are being loaded