Post has shared content
सर्वदा सर्वभावेन भजनीयो व्रजाधिपः
स्वस्यायमेव धर्मो हि नान्यः क्वापि कदाचन॥ (१)

भावार्थ : प्रत्येक क्षण सम्पूर्ण मन-भाव से ब्रज के अधिपति भगवान श्रीकृष्ण का ही स्मरण करना चाहिए, मनुष्य के लिए इसके अतिरिक्त और कुछ भी कर्म नहीं है, केवल यही एक मात्र धर्म है। (१)

एवं सदा स्वकर्तव्यं स्वयमेव करिष्यति।
प्रभुः सर्व समर्थो हि ततो निश्चिन्ततां व्रजेत् (२)

भावार्थ : भगवान ही सर्वशक्तिमान हैं, इस बात को ध्यान में रखते हुए चिन्ता मुक्त होकर सदैव अपने कर्तव्यों का ही पालन करते रहना चाहिए, । (२)

यदि श्रीगोकुलाधीशो धृतः सर्वात्मना हृदि।
ततः किमपरं ब्रूहि लोकिकैर्वैदिकैरपि॥ (३)

भावार्थ : सभी के आत्म-स्वरुप गोकुल के राजा भगवान श्रीकृष्ण को यदि आपने अपने ह्रदय में धारण किया हुआ है तो इससे बढ़कर अन्य कोई सांसारिक और वैदिक कार्य नहीं हो सकते हैं। (३)

अतः सर्वात्मना शश्ववतगोकुलेश्वर पादयोः।
स्मरणं भजनं चापि न त्याज्यमिति मे मतिः॥ (४)

भावार्थ : इसी कारण सभी के आत्म-स्वरुप गोकुल के अविनाशी ईश्वर श्रीकृष्ण के चरणों का स्मरण और भजन कभी नहीं छोड़ना चाहिए, ऐसा श्रीवल्लभाचार्य जी का कथन है। (४)
🌷जयश्रीकृष्ण🌷
Photo

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
श्री राधेकृष्णमय शुभ प्रभातम् जी
Photo

Post has attachment
🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩
🌞🌞🌞🔆 सुप्रभातम् 🔆🌞🌞🌞
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

शांताकारं भुजगशयनं पद्यनाभं सुरेशम् । विश्‍वाधारं गगन सदृशं मेघवर्णं शुभांगम् ।

लक्ष्मीकांतं कमलनयनं योगिभिर्ज्ञानगम्यम् । वंदे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैक नाथम् ॥

🌹🔱⚜💧भजनामृत💧⚜🔱🌹

मेरे रोम रोम में श्याम, मगन मैं नाचूँगी
मुझे दुनिया से क्या काम, मगन मैं नाचूंगी
नाचूंगी, मैं तो नाचूंगी, सलोने श्याम, रसीले श्याम

मैं गिरिधर की गिरिधर मेरे,
जनम जनम के हो गए फेरे ।
मेरा जुड़ गया इनसे नाम,
मगन मैं नाचूंगी ॥

मुझे नचावे उसकी मस्ती,
मुझको मिल गयी बिकुल सस्ती ।
ना कौड़ी लगा ना दाम,
मगन मैं नाचूंगी ॥

जब काहना की बाजे मुरलिया,
छम छम बाजे मोरी पायलिया ।
अब लोग करे बदनाम,
मगन मैं नाचूंगी ॥

ऐसी नज़र प्रेम की मारी,
सुध बुध बूल गयी मुझे सारी ।
और भूल गयी घर बार,
मगन मैं नाचूंगी ॥

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

  🌹: कृष्णा : श्री राधा प्रेमी : 🌹          
 https://plus.google.com/113265611816933398824

🌹एक बार प्रेम से बोलिए ...
🌹प्यारी श्री " राधे राधे "🌹💐💐
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
Photo

Post has attachment
🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩
🌞🌞🌞🔆 सुप्रभातम् 🔆🌞🌞🌞
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

राधा श्री राधा रटूं, निसि-निसि आठों याम ।
जा उर श्री राधा बसै, सोइ हमारो धाम ।।

🌹🔱⚜💧भजनामृत💧⚜🔱🌹

रसना राधे राधे गा ......
राधे राधे गाकर, जग में जीवन सफल बना ...

राधा नाम अमोलक प्यारे
जनम जनम के कष्ट निवारे
तू भी जपले, तू भी रटले, तू भी गाले, श्री राधा
रसना राधे राधे गा ......

राधा नाम सदा सुखदायी
जो गावे उसे मिले कन्हाई
मैं भी गावउँ, तुम भी गावो, सब मिल गावो श्री राधा
रसना राधे राधे गा ......

राधा कृष्ण है ,कृष्ण ही राधा
जो जाना वो सब कुछ साधा
फिर क्यों डोले ,उसका होले,क्यों न बोले श्री राधा
रसना राधे राधे गा ......

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

  🌹: कृष्णा : श्री राधा प्रेमी : 🌹          
 https://plus.google.com/113265611816933398824

🌹एक बार प्रेम से बोलिए ...
🌹प्यारी श्री " राधे राधे "🌹💐💐
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
Photo
Wait while more posts are being loaded