Post has attachment
🍃🍂कुछ इस तरह से......
साँसों का बंधन है तुमसे मेरा..
,,,
साँस लेते हो तुम वहाँ.....
तो जी लेते हैं हम यहाँ..!!

Photo

Post has attachment
💞💕
💫 •एक💭 सपने की °🎻तरह° तुझे 👧🏻 सज़ा 🌹के रखूं,°•🍃 चाँदनी ✨रात की 👀नज़रों से💓 छूपा 😞के रखूं.🍁. मेरी °•तक़दीर•🤕 में तुम्हारा ° 👧🏻👈साथ > नही, 👫 वरना° 😔सारी ✍उमर🙇🏻 तुझे 👉°अपना👧🏻 बना के💫 रखूं ...😘❤..°•!!
‪✍💞💕💜🍒⛱


Photo

Post has attachment
कितनों ने ही खरीदा सोना,
मैने एक 'सुई' खरीद ली,
सपनों को बुन सकूं जितनी,
उतनी 'डोरी' खरीद ली।
सब ने जरूरतों से ज्यादा
बदले नोट,
मैंने तो बस अपनी ख्वाहिशे
बदल ली'
'शौक- ए- जिन्दगी'
कुछ कम कर लिए,
फिर बगैर पैसों में ही
' सुकून-ए-जिन्दगी' खरीद ली...

Photo

Post has attachment
"तुम दिल में रहो इतना ही बहुत है🌴....!!

मुलाकात की हमें इतनी भी जरूरत नही....!!


Photo

Post has attachment

Post has attachment
पत्थर की दुनिया जज़्बात नहीं संभलती‪दिल‬ में क्या है वो बात नहीं समझतीतनहा तो ‪#‎चाँद‬ भी है ‪#‎सितारों‬ के बीच मेंपर चाँद का ‪#‎दर्द‬ वो रात नहीं समझती
Photo

Post has attachment
कितनी जल्दी ये शाम आ गई गुड नाईट कहने की बात याद आ गई हम तो बैठे थे सितारों की महफ़िल में चाँद को देखा तो आपकी याद आ गई!!! शुभ रात्री !! गुड नाईट !!!
Photo

जागो, जीवन के अभिमानी !जागो, जीवन के अभिमानी !लील रहा मधु-ऋतु को पतझर,मरण आ रहा आज चरण धर,कुचल रहा कलि-कुसुम,कर रहा अपनी ही मनमानी !जागो, जीवन के अभिमानी !ाँसों में उस के है खर दव,पद चापों में झंझा का रव,आज रक्त के अश्रु रो रही-निष्ठुर हृदय हिमानी !जागो, जीवन के अभिमानी !हुआ हँस से हीन मानसर,वज्र गिर रहे हैं अलका पर,भरो वक्रता आज भौंह में,ओ करुणा के दानी !जागो, जीवन के अभिमानी !

कब याद मे तेरा साथ नहीं, कब हाथ में तेरा हाथ नहीं;

साद शुक्र की अपनी रातो में अब हिज्र की कोई रात नहीं;



मुश्किल है अगर हालत वह, दिल बेच आए, जा दे आए;

दिल वालो कूचा-ए-जाना में, क्या ऐसे भी हालात नहीं;



जिस धज से कोई मकतल में गया, वो शान सलामत रहती है;

ये जान तो आनी-जानी है, इस जान की तो कोई बात नहीं;



मैदान-ए-वफ़ा दरबार नहीं, या नाम-ओ-नसब की पूछ कहाँ;

आशिक तो किसी का नाम नहीं, कुछ इश्क किसी की जात नहीं;



गर बाज़ी इश्क की बाज़ी है, ओ चाहो लगा दो दर कैसा;

गर जीत गए तो क्या कहने, हारे भी तो बाज़ी मात नहीं।

अगर कुछ सीखना ही है;
तो आँखों को पढ़ना सीख लो;
​वरना ​लफ़्ज़ों के मतलब तो;
​हजारों निकाल लेते है।
Wait while more posts are being loaded