Post has attachment

Post has attachment

श्री चित्रगुप्त जी की आरती
जय चित्रगुप्त यमेश तव, शरणागतम शरणागतम।
जय पूज्य पद पद्मेश तव, शरणागतम शरणागतम।।
जय देव देव दयानिधे, जय दीनबन्धु कृपानिधे।
कर्मेश तव धर्मेश तव, शरणागतम शरणागतम।।
जय चित्र अवतारी प्रभो, जय लेखनी धारी विभो।
जय श्याम तन चित्रेश तव, शरणागतम शरणागतम।।
पुरुषादि भगवत अंश जय, कायस्थ कुल अवतंश जय।
जय शक्ति बुद्धि विशेष तव, शरणागतम शरणागतम।।
जय विज्ञ मंत्री धर्म के, ज्ञाता शुभाशुभ कर्म के।
जय शांतिमय न्यायेश तव, शरणागतम शरणागतम।।
तव नाथ नाम प्रताप से, छुट जायें भय त्रय ताप से।
हों दूर सर्व क्लेश तव, शरणागतम शरणागतम।।
हों दीन अनुरागी हरि, चाहे दया दृष्टि तेरी।
कीजै कृपा करुणेश तव, शरणागतम शरणागतम।।

Post has attachment

Post has attachment
पहले फंसाया प्यार में , फिर बनाया मुसलमान .. अंत में बन गया आतंकी और निकल पड़ा भारत से ही लड़ने .. एकदम नए तरह का लव जिहाद

Post has attachment
Photo

Post has shared content

Post has attachment
VERY IMPORTANT
Photo

Post has attachment
SOME HEALTH TIPS
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
2016-12-24
11 Photos - View album

Post has attachment
IMPORTANT HEALTH TIPS
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
2016-12-24
19 Photos - View album
Wait while more posts are being loaded