Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
बेटी के बिदाई पर पिता का अपने बेटी से आग्रह

🙌🏽 राधे राधे 🙌🏽
अमर हो जाने का अर्थ आयु का बढ़ जाना नहीं है अपितु कीर्ति का चारों तरफ फ़ैल जाना है। आदमी मर कर भी अमर हो सकता है और जीते जी भी मर सकता है।
जो जीवन समाज के लिए अनुपयोगी बन जाता है उसका जीवन उस जड़ वृक्ष से भी तुच्छ है जो फल ना दे कम से कम छाया तो प्रदान करता है। फूल की आयु ज्यादा लम्बी नहीं होती। वह कुछ समय के लिए खिलता है और अपना सौन्दर्य बिखेरकर चला जाता है।
जितना समय आप परमार्थ में जीते हैं उतनी आयु आपकी स्वतः अमर हो जाती है और दूसरों के लिए किया गया वो कर्म भी लोगों के दिल में रहता है। जितना जीओ मै और मेरे से ऊपर उठकर जिओ। यही अमरता है।

ना गन्दगी पसंद है ना बन्दगी पसंद है।
दूध सी धुली-धुली फूल सी खिली- खिली
जिंदगी पसंद है॥

https://youtu.be/owr_PaTlh88

Post has attachment

Post has attachment
किसी से बदला लेना बहुत आसान है मगर किसी का बदला चुकाना बहुत ही मुश्किल। उन्हें भुलाना अच्छी बात नहीं जो विपत्ति में आपका साथ दिया करते हैं। पैसों पर ज्यादा घमंड मत करना उनसे सिर्फ बिल चुकाया जा सकता है बदला नहीं।
सब कुछ होने पर भी यदि आपको संतोष नहीं है तो फिर आपको अभाव सतायेगा और सब कुछ मिलने पर भी यदि आप चुप नहीं रह सकते तो फिर आपको स्वभाव सतायेगा। यदि फिर आपके मन में अपने पास बहुत कुछ होने का अहम आ गया तो सच मानो फिर आपको आपका ये कुभाव सतायेगा।
दौलतवान न बन सको तो कोई बात नहीं, दिलवान और दयावान बन जाओ, आनंद ही आनंद चारों तरफ हो जायेगा।

जिन्दगी बदलने के लिए लड़ना पड़ता है।
और आसान करने के लिए समझना पड़ता है।

छोटा बनके रहोगे तो मिलेगी हर रहमत प्यारों
बड़ा होने पर तो माँ भी गोद से उतार देती है॥
वीडियो देखे, चॅनेल सब्सक्राइब करे, वीडियो शेयर करे
🙌🏽 राधे राधे 🙌🏽

Post has attachment
!!हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे!!
!!हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे !!*
💃🔹🌿🔹👫🔹🌿🔹💃🔹

हमारा मन वहीं लगता है, जहाँ हमारी अभिलाषित वस्तु होती है, जहाँ हमें अपनी रूचि के अनुकूल सुख, सौंदर्य, माधुर्य, ऐश्वर्य आदि दिखायी देते हैं।

विचार करके देखने से पता लगता है कि जगत में हम जो प्रिय वस्तु, सुख, सौन्दर्य, माधुर्य, ऐश्वर्य आदि देखते है, उन सभी का पूर्ण अमित अनन्त भण्डार श्री भगवान हैं।

समस्त वस्तुएँ, समस्त गुण, समस्त सुख-सौन्दर्य भगवान् के किसी एक अंश के प्रतिबिम्बमात्र हैं; उस महान अनन्त अगाध सागर के सीकर-कण की छायामात्र हैं।

हमें जो वस्तु जितनी चाहिए, जब चाहिए, वही वस्तु उतनी ही और उसी समय भगवान् में मिल सकती है; क्योंकि वे सदा-सर्वदा उनसे अनन्तरूप से भरी हैं और चाहे जितनी निकाल ली जानेपर भी कभी उनकी अनन्तता में कमी नहीं आती।

अतएव हमारा मन जिस किस में लगता हो, उसी को दृढ विश्वास के साथ भगवान् में देखना चाहिए।

फिर हम कभी भगवान् से अलग नहीं होंगे और भगवान् हमसे अलग नहीं होंगे; क्योंकि सबकुछ भगवान् से, भगवान् में है तथा भगवत्स्वरूप ही है।

भगवान् ने कहा है:-

🍂यो मां पश्यति सर्वत्र सर्वं च मयि पश्यति।
तस्याहं न प्रणश्यामि स च मे प्रणश्यति॥🍃

📗📕📘(गीता ६।३०)

‘जो पुरुष सम्पूर्ण भूतों में सबके आत्मरूप मुझ वासुदेव को ही व्यापक देखता है और सम्पूर्ण भूतों को मुझ वासुदेव के अंतर्गत देखता है, उसके लिए मैं अदृश्य नहीं होता और वह मेरे लिए अदृश्य नहीं होता; भाव यह कि वह मुझे देखता रहता है और मैं उसे देखता रहता हूँ।’

इसी के साथ हमें अपने को ऐसा बनाना चाहिए, जो भगवान् को अत्यन्त प्रिय हो।

गीता में १२वें अध्याय के १३वें से १९वें श्लोक तक भगवान् ने अपने प्रिय भक्त के लक्षणों का वर्णन किया है और अंत में कहा है:-

🍂ये तु धर्म्यामृतमिदं यथोक्तं पर्युपासते।
श्रद्दधाना मत्परमा भक्तास्तेऽतीव मे प्रिया:॥🍃

_📘📕📗( गीता १२।२०)

‘परन्तु जो श्रद्धायुक्त पुरुष मेरे परायण होकर इस ऊपर कहे हुए धर्ममय अमृत को निष्काम प्रेमभाव से सेवन करते हैं अर्थात् उस प्रकार का अपना जीवन बनाने में तत्पर होते हैं, वे भक्त मुझको अतिशय प्रिय हैं।’

इसलिए हमें अपने में उन सब भावों की दृढ़ स्थापना करनी चाहिए, जो भगवान् को प्रिय हैं।

ऐसा होने पर जब भगवान हमसे प्रेम करने लगेंगे, उनका मन हम में लगा रहेगा (प्रेम तो वे अब भी करते हैं, परन्तु हमें उनका अनुभव नहीं होता, उनके अनुकूल आचरण करने से अर्थात् उन सब प्रिय गुणों को जीवन में उतरने से हमें भगवान् के प्रेम का अनुभव होने लगेगा) तब हमारा मन भी उसमें लगा रहेगा।

हमें तो बस, विनोदपूर्वक भगवान् से यही भाव रखना चाहिए और यही मन-ही-मन कहना चाहिए कि ‘प्रभो, न तो मैं दूसरों को देखूंगा और न आपको देखने दूंगा।’

🍂"आवहु मेरे नयन में पलक बन्द करि लेउँ।
ना मैं देखौं और कौं ना तोहि देखन देउँ॥🍃

🍂नारायण जाके हृदै सुन्दर श्याम समाय।
फूल-पात-फल-डार में ता कौं वही दिखाय॥"🍃

🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻🙌🏻
🙌🏻☺हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे।
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥☺🙌🏻

→→→→→(🌿)←←←←←
सदा जप करें……और प्रसन्न रहें ☺
💃🔹🌿🔹👫🔹🌿💃🔹

Post has attachment
https://youtu.be/BMjXr8b-KE8

👆🏼👌🏽👌🏽👂🏼👀
Feb 8:
👍Propose Day
हे प्रभु आप मुझे सन्मार्ग पे ले चलें

Feb 9:
🍫Chocolate Day
प्रभु को नैवेध्य अर्पण करें
.
Feb 10:
🐻Teddy Day
मुलायम सा ह्रदय प्रभु के वास का रखें
.
Feb 11:
👍Promise Day
प्रभु भक्ति का संकल्प हों
.
Feb 12
😞Hug Day
भेद भाव दूर कर,सभी को ह्रदय से लगायें
.
Feb 13
🔅Kiss Day _
प्रभु रज तथा चरणामृत पान हो
.
Feb 14
💗Valentine प्रीत प्रेम तथा आन्नद कि प्राप्ति प्रभु सुमिरन मे हो
वीडियो देखे सब्सक्राइब करे, वीडियो शेयर करे
राधे राधे

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded