Post has attachment
अशांत मन और खाली समय जोड़ने वाला धागा Social Media होता है।
Photo

Post has attachment
नींद तो बचपन में आती थी। अब तो मोबाइल को रेस्ट देने के लिए सो जाते हैं।
Photo

Post has attachment
सुबह की चाय अमृत के समान होती है। वेदों में लिखना रह गया है।
Photo

जिदंगी में कभी, किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो,
इतना हौंसला जरुर रखना, की दिन बुरा था, जिंदगी नही।

बोलने से पहले सोच ले,
आप के शब्द किसी को कितना दर्द देंगे उससे आप का गम तो कम नहीं होगा लेकिन,
आप अपना कोई प्रिय खो बैठेंगे।

बेईज्जती हमेशा नाप तोल कर करना क्यूँकि,
ये वो उधार है जिसे हर कोई ब्याज सहित चुकाने
के लिए मोके की तलाश में रहता है।

ये कफन, ये जनाज़े, ये शमशान सिर्फ बातें हैं मेरे दोस्त,
वरना मर तो इंसान तभी जाता है, जब याद करने वाला कोई ना हो l

ईनाम के हकदार वो लोग भी है,
जो दारु पीने के बाद पूछते हैँ...
यार देखियो जरा,
मुँह से बदबू तो नहीँ आ रही!!!

जिदंगी में कभी, किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो,
इतना हौंसला जरुर रखना, की दिन बुरा था, जिंदगी नही।

गलतियां हमेशा क्षमा की जा सकती हैं,
अगर आपके पास उन्हें स्वीकारने का साहस हो|
Wait while more posts are being loaded