Post has attachment
😁😀*GOOD NEWS* GOOD NEWS *GOOD NEWS*😁😀
🎁 बेरोजगारी को जड़ से मिटाटाने के लिये SUPER APP

जिससे आप घर बैठे कमायेगे
🎁 सिर्फ1.60 करोड़ लोगो ही JOIN कर लिया है इसलिये जल्दी1 JOIN करे seat full होने से पहले
✨☄✨☄✨☄✨☄✨
🎁 ​​​दोस्तो ये Application market मे dhoom मचा रही है Google play pe ye पहला application है जो mobile पर ही नौकरी और आजादी की पैसा देती है ।​​​
✨☄✨☄✨☄✨☄✨
🎁 ​अब घर बैठे पैसा कमाना इतना असान की आप सोच नही सकते 10000 से 50000+ प्रति महिना​
💫☄✨💫☄✨💫☄✨
​​​मेरे जितने भी दोस्त पहले इसको FAKe समझ कर download नही किए थे अब वही सब मुझे phone कर के बोलते है - thanks bhai इस कमाल की application के बारे मे बताने के लिए अब मुझ job के लिये इधर उधर भागना नही
✨☄✨☄✨☄✨☄✨
आपको विश्वास नही होगा की इस कंपनी का interviews National न्यूज वाले ले रहे और हैरान है एेसा system देख कर आप भी देख सकते ek interview देखने के लिये click kare-- https://youtu.be/cysWfO_TMdI
पुरे 230+ देश मे यह app धुम मचा रहा है|
करना क्या है
👇👇👇👇
🎁 VIDEO देखे पैसा कमाये
🎁 CLICK करे पैसा कमाये
🎁 GAME खेले पैसा कमाये
🎁 APP DOWNLOAD करे पैसा कमाये
🎁 WEB OFFER पुरा करे पैसा कमाये
🎁 RECHARGE करे पैसा कमाये
🎁 SHOPPING करे इस APP से FLIPKART,SNAPDEAL,AMZONE etc बडे company मे पैसा कमाये
🎁 ADS देखे पैसा कमाये
🎁 SURVEY पुरा करे पैसा कमाये
🎁 EARN MORE का टास्क पुरा करे पैसा कमाये
🎁किसी को joining कराये तो पैसा कमाये
और सिर्फ यही नही जब आपके *TEAM*का कोइ भी सदस्य इनमे से कोइ task या joining कराता है तो पैसा कमाये
etc. और भी बहुत कुछ सिर्फ एक APP मे यानी CHAMPCASH APP मे
🎁🎁🎁. 🎁🎁🎁. 🎁🎁🎁
और AAJ से आप या आपके TEAM जितना बार इस APP को open करेगी उतनी बार पैसा कमाये
तो अब देर किस बात की अभी JOIN करे
🎁 🎁 🎁 🎁. 🎁 🎁 🎁 🎁.
JOIN केसै करे
🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
🔸​सबसे पहले आपको अपने फोन के PLAY STORE में जाना है​ https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cash.champ
वहा से आपको एक Champcash Money Free Application search कर install करनी है
🔸अब app open करना और Sign up करना है जिसमे Name,Email,Password
,Date of Birth, Whatsapp Mobile No डालकर Proceed पे क्लीक करना है
🔸​अब आपसे sponsor ID पूछा जायेगा जिसमे आपको *Refer ID 14890915 डालना है​ उसके बाद Submit पे क्लीक करना है
🔸उसके बाद आपको इसमें एक Challnge मिलेगा ACCEPT करे
जिसमे आपको 7 से 9 एप्प्स डाउनलोड करनी है एक एक करके
वहा पर आपको 2 मिनट का एक ऑडियो सुनाई देगा उसे ध्यान से सुनना है
🔸जेसे ही आप Challnge को पूरा कर देते है आपके Champ Cash के अकाउंट में आपको आपके sign up का $1 डॉलर(62)रुपये बोनस मिल जाता है और आप का account ACTIVATE हो जायेगा
अब इसके बाद कमाऔ छप्पर फाड़ के
​Withdrawal के लिए इसमें 2 आप्सन है​
1 बैंक अकाउंट 💰
2 मोबाइल रिचार्ज 💰
आप किसी भी नंबर पर रिचार्ज भी कर सकते है
ते अब सोचाना क्या अभी join करिये क्योकी
सोचने और इंतजार करने वालो को उतना ही मिलता है जितना की कोशीश करने वाले छोड़ देते है
👌.✨🎁.✨🎁.✨🎁.✨👌.
🎁 Install and earn unlimited 🎁
🎁 Install and earn unlimited 🎁
⬇⬇⬇⬇. ⬇⬇⬇⬇. ⬇⬇⬇⬇
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cash.champ
🎁🌳🌳🎁
✨Refer id -14890915
✨Refer Id of Sponse Id -14890915
✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨📱Namber 9140281917
🎁✨ ✨🎁
🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁

😁💰नौकरी💰😀नौकरी😀💰नौकरी💰😁

🏘 📃 मुझे कुछ 500-1000 ऐसे लड़के - लड़कियों की ज़रुरत है जो की मेरे साथ टीम बना कर अपने घर पर बैठ कर काम कर सके।📃🏘

✨ काम सिर्फ फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर ऐड पोस्टिंग करके लोगों को join कराने का है ।✨

💸💸कमाई 10000 से 100000 रु. तक (बिना एक भी पैसा लगाए)💸💸

📩Join होने के लिए (WhatsApp) पर मैसेज करें📩
🖋🖋 लिखें JOB और भेज दें 7784805344 इस नंबर पर ।📩📩

नोट - जिनको मेहनत करना है वही संपर्क करे ।

Post has shared content
भगवान बुद्ध, राहुल और यशोधरा

गौतम बुद्ध ज्ञान को उपलब्‍ध होने के बाद घर वापस लौटे। बारह साल बाद वापस लौटे। जिस दिन घर छोड़ा था, उनका बच्‍चा,उनका बैटा एक ही दिन का था। राहुल एक ही दिन का था। जब आए तो वह बारह वर्ष का हो चुका था। और बुद्ध की पत्‍नी यशोधरा बहुत नाराज थी। स्‍वभावत:। और उसके एक बहुत महत्‍वपूर्ण सवाल पूछा। उसने पूछा कि मैं इतना जानना चाहती हूं;क्‍या तुम्‍हें मेरा इतना भी भरोसा न था कि मुझसे कह देते कि मैं जा रहा हूं? क्‍या तुम सोचते हो कि मैं तुम्‍हें रोक लेती? मैं भी क्षत्राणी हूं। अगर हम युद्ध के मैदान पर तिलक और टीका लगा कर तुम्‍हें भेज सकते है, तो सत्‍य की खोज पर नहीं भेज सकेत?तुमने मेरा अपमान किया है। बुरा अपमान किया है। जाकर किया अपमान ऐसा नहीं। तुमने पूछा क्‍यों नहीं? तुम कह तो देते कि मैं जा रहा हूं। एक मौका तो मुझे देते। देख तो लेते कि मैं रोती हूं, चिल्‍लाती हूं, रूकावट डालती हूं।

कहते है बुद्ध से बहुत लोगों ने बहुत तरह के प्रश्‍न पूछे होंगे। मगर जिंदगी में एक मौका था जब वे चुप रह गए। जवाब न दे पाये। और यशोधरा ने एक के बाद एक तीर चलाए। और यशोधरा ने कहा कि मैं तुमसे दूसरी यह बात पूछती हूं कि जो तुमने जंगल में जाकर पाया, क्‍या तुम छाती पर हाथ रख कर कह सकते हो कि वह यहीं नहीं मिल सकता था?

यह भी भगवान बुद्ध कैसे कहें कि यहीं नहीं मिल सकता था। क्‍योंकि सत्‍य तो सभी जगह है। और भ्रम वश कोई अंजान कह दे तो भी कोई बात मानी जाये, अब तो उन्‍होंने खुद सत्‍य को जान लिया है, कि वह जंगल में मिल सकता है, तो क्‍या बाजार में नहीं मिल सकता। पहले बाजार में थे तब तो लगता था सत्‍य तो यहां नहीं है। वह तो जंगल में ही है। वह संसार में कहां वह तो संसार के छोड़ देने पर ही मिल सकता है। पर सत्‍य के मिल जाने के बात तो फिर उसी संसार और बाजार में आना पडा तब जाना यहां भी जाना जा सकता था सत्‍य का नाहक भागे। पर यहां थोड़ा कठिन जरूर है, पर ऐसा कैसे कह दे की यहां नहीं है। वह तो सब जगह है। भगवान बुद्ध के पास इस बात का कोई उत्‍तर नहीं था। उन्‍होंने आंखे झुका ली।

और तीसर प्रश्न जो यशोदा ने चोट की, शायद यशोधरा समझ न सकी की बुद्ध पुरूष का यूं चुप रह जाना अति खतरनाक है। उस पर बार-बार चोट कर अपने आप को झंझट में डालने जैसा है, बुद्धों के पास क्‍या होता है। ध्‍यान-ध्‍यान-ध्‍यान और सन्‍यास। सो इस आखरी चोट में यशोदा उलझ गई। तीसरी बात उसने कहीं,राहुल को सामने किया और कहा कि ये तेरे पिता है। ये देख, ये जो भिखारी की तरह खड़ा है, हाथ में भिक्षा पात्र लिए। यहीं है तेरे पिता। ये तुझे पैदा होने के दिन छोड़ कर कायरों की तरह भाग गये थे। अंधेरे में अपना मुहँ छूपाये। जब तू मात्र के एक दिन का था। अभी पैदा हुआ नवजात। अब ये लौटे है, तेरे पिता, देख ले इन्‍हीं जी भर कर। शायद फिर आये या न आये। तुझे मिले या न मिले। इनसे तू अपनी वसीयत मांग ले। तेरे लिए क्‍या है इनके पास देने के लिए। वह मांग ले।

यह बड़ी गहरी चोट थी। बुद्ध के पास देने को था ही क्‍या। यशोधरा प्रतिशोध ले रही थी बारह वर्षों का। उसके ह्रदय के घाव जो नासूर बन गये थे। बह रहा था पीड़ा और संताप का मवाद। नहीं सूखा था वो जख्‍म जो बुद्ध उस रात दे कर चले गये थे। लेकिन उसने कभी सोचा भी नहीं था कि ये घटना कोई नया मोड़ ले लेगी। वह तो भाव में बहीं जा रही थी। बात को इतने आगे तक खींच लिया था अब उस का तनाव उसकी तरफ वापस लौटेगा। इस की और उसका ध्‍यान गया ही नहीं। भगवान जो इतनी देर से शांत बैठे थे उनके चेहरे पर मंद हंसी आई, यशोधरा का क्रोध और भभक उठा। उस इस बात का एहसास भी नहीं हो रहा था की वह बंद रही है मकड़ी की तरह अपने ही ताने बाने में।

भगवान ने तत्क्षण अपना भिक्षा पात्र सामने खड़े राहुल के हाथ में दे दिया। यशोधरा कुछ कहें या कुछ बोले। यह इतनी जल्‍दी हो गया। कि उसकी कुछ समझ में नहीं आया। इस के विषय में तो उसने सोचा भी नहीं था। भगवान ने कहा,बेटा मेरे पास देने को कुछ और है भी नहीं, लेकिन जो मैंने पाया है वह तुझे दूँगा। जिस सर्व सब के लिए मैने घर बार छोड़ा तुझे तेरी मां, और इस राज पाट को छोड़, और आज मुझे वो मिल गया है। मैं खुद चाहूंगा वही मेरे प्रिय पुत्र को भी मिल जाये। बाकी जो दिया जा सकता है। क्षणिक है। देने से पहले ही हाथ से फिसल जाता हे। बाकी रंग भी कोई रंग है। संध्‍या के आसमान की तरह,जो पल-पल बदलते रहते है। में तो तुझे ऐसे रंग में रंग देना चाहता हूं जो कभी नहीं छुट सकता। तू संन्‍यस्‍त हो जा।

बारह वर्ष के बेटे को संन्‍यस्‍त कर दिया। यशोधरा की आंखों से झर-झर आंसू गिरने लगे। उसने कहां ये आप क्‍या कर रहे है।
पर बुद्ध ने कहा,जो मरी संपदा है वही तो दे सकता हूं। समाधि मेरी संपदा है, और बांटने का ढंग संन्‍यास है। और यशोधरा, जो बीत गई बात उसे बिसार दे। आया ही इसलिए हूं कि तुझे भी ले जाऊँ। अब राहुल तो गया। तू भी चल। जिस संपदा का मैं मालिक हुआ हूं। उसकी तूँ भी मालिक हो जा।

और सच में ही यशोधरा ने सिद्ध कर दिया कि वह क्षत्राणी थी। तत्‍क्षण पैरों में झुक गई और उसने कहा, मुझे भी दीक्षा दें। और दीक्षा लेकर भिक्षुओं में, संन्‍यासियों में यूं खो गई कि फिर उसका कोई उल्‍लेख नहीं है। पूरे धम्मपद में कोई उल्‍लेख नहीं आता। हजारों संन्‍यासियों कि भीड़ में अपने को यूँ मिटा दिया। जैसे वो है ही नहीं। लोग उसके त्‍याग को नहीं समझ सकते। अपने मान , सम्‍मान, अहंकार को यूं मिटा दिया की संन्‍यासी भूल ही गये की ये वहीं यशोधरा है। भगवान बुद्ध की पत्‍नी।

बहुत कठिन तपस्‍या थी यशोधरा की। पर वो उसपर खरी उतरी। उसकी अस्‍मिता यूं खो गई जैस कपूर। बौद्ध शास्‍त्रों में इस घटना के बाद उसका फिर कोई उल्‍लेख नहीं आता। कैसे जीयी, कैसे मरी,कब तक जीयी, कब मरी, किसी को कुछ पता नहीं। हां राहुल का जरूर जिक्र आता है बौद्ध शास्‍त्रों में जब उसे ब्रह्म ज्ञान प्राप्‍त हुआ, शायद वह सोलह साल का था। उस रात उसे मार ने डराया, वह संन्‍यासियों की कतार में बहुत दूर सोता था। एक साधारण सन्‍यासी की तरह। उस रात वह जब मार ने उसे डराया, तब वह गंध कुटी के बहार आ कर सो गया।

भगवान बुद्ध की कुटिया को गंध कुटी कहते थे। उसी रात राहुल ब्रह्म ज्ञान को उपलब्‍ध हुआ। मात्र राहुल का भी बौद्ध ग्रंथों में यही वर्णन आता है। कठिन था जीवन, रोज-रोज भिक्षा मांग कर खानी होती थी। और जब आप अति विशेष हो तो आपको अपनी अति विशेषता को छोड़ना अति कठिन है। यशोधरा और राहुल ने छोड़ा, उन संन्यासियों की भिड़ में ऐसे गुम हो गये। यूं लीन हो गये, यूं डूब गये, इसको कहते है ज्ञान। कि आने के पद चाप भी आप न देख सके कोई ध्वनि भी न हुई, कोई छाया तक नही बनी। तभी कोई अपने घर आ सकता है। बेड़ बाजा बजा कर केवल आने का भ्रम पैदा कर देना है।

ओशो✨आपुई गई हिराय
Photo

Post has shared content

Post has shared content
विश्व का पहला इंजीनियर
Photo

Post has attachment
Good Evening friends
Photo

Post has attachment
अद्भुत डिजाइनर
Photo

Post has shared content
श्रावण मास को मासोत्तम मास कहा जाता है. यह माह अपने हर एक दिन में एक नया सवेरा दिखाता इसके साथ जुडे़ समस्त दिन धार्मिक रंग और आस्था में डूबे होते हैं. शास्त्रों में सावन के महात्म्य पर विस्तार पूर्वक उल्लेख मिलता है. श्रावण मास अपना एक विशिष्ट महत्व रखता है. श्रवण नक्षत्र तथा सोमवार से भगवान शिव शंकर का गहरा संबंध है. इस मास का प्रत्येक दिन पूर्णता लिए हुए होता है. धर्म और आस्था का अटूट गठजोड़ हमें इस माह में दिखाई देता है इस माह की प्रत्येक तिथि किसी न किसी धार्मिक महत्व के साथ जुडी़ हुई होती है. इसका हर दिन व्रत और पूजा पाठ के लिए महत्वपूर्ण रहता है.
हिंदु पंचांग के अनुसार सभी मासों को किसी न किसी देवता के साथ संबंधित देखा जा सकता है उसी प्रकार श्रावण मास को भगवान शिव जी के साथ देखा जाता है इस समय शिव आराधना का विशेष महत्व होता है. यह माह आशाओं की पुर्ति का समय होता है जिस प्रकार प्रकृति ग्रीष्म के थपेडों को सहती उई सावन की बौछारों से अपनी प्यास बुझाती हुई असीम तृप्ति एवं आनंद को पाती है उसी प्रकार प्राणियों की इच्छाओं को सूनेपन को दूर करने हेतु यह माह भक्ति और पूर्ति का अनुठा संगम दिखाता है ओर सभी की अतृप्त इच्छाओं को पूर्ण करने की कोशिश करता है.
जलाभिषेक के साथ पूजन |
भगवान शिव इसी माह में अपनी अनेक लीलाएं रचते हैं. इस महीनें में गायत्री मंत्र, महामृत्युंजय मंत्र, पंचाक्षर मंत्र इत्यादि शिव मंत्रों का जाप शुभ फलों में वृद्धि करने वाला होता है. पूर्णिमा तिथि का श्रवण नक्षत्र के साथ योग होने पर श्रावण माह का स्वरुप प्रकाशित होता है. श्रावण माह के समय भक्त शिवालय में स्थापित, प्राण-प्रतिष्ठित शिवलिंग या धातु से निर्मित लिंग का गंगाजल व दुग्ध से रुद्राभिषेक कराते हैं. शिवलिंग का रुद्राभिषेक भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है. इन दिनों शिवलिंग पर गंगा जल द्वारा अभिषेक करने से भगवान शिव अतिप्रसन्न होते हैं.
शिवलिंग का अभिषेक महाफलदायी माना गया है. इन दिनों अनेक प्रकार से शिवलिंग का अभिषेक किया जाता है जो भिन्न भिन्न फलों को प्रदान करने वाला होता है. जैसे कि जल से वर्षा और शितलता कि प्राप्ति होती है. दूग्धा अभिषेक एवं घृत से अभिषेक करने पर योग्य संतान कि प्राप्ति होती है. ईख के रस से धन संपदा की प्राप्ति होती है. कुशोदक से समस्त व्याधि शांत होती है. दधि से पशु धन की प्राप्ति होती है ओर शहद से शिवलिंग पर अभिषेक करने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है.
शिवलिंग पर जलाभिषेक का महत्व |
इस श्रावण मास में शिव भक्त ज्योतिर्लिंगों का दर्शन एवं जलाभिषेक करने से अश्वमेघ यज्ञ के समान फल प्राप्त करता है तथा शिवलोक को पाता है. शिव का श्रावण में जलाभिषेक के संदर्भ में एक कथा बहुत प्रचलित है जिसके अनुसार जब देवों ओर राक्षसों ने मिलकर अमृत प्राप्ति के लिए सागर मंथन किया तो उस मंथन समय समुद्र में से अनेक पदार्थ उत्पन्न हुए और अमृत कलश से पूर्व कालकूट विष भी निकला उसकी भयंकर ज्वाला से समस्त ब्रह्माण्ड जलने लगा इस संकट से व्यथित समस्त जन भगवान शिव के पास पहुंचे और उनके समक्ष प्राथना करने लगे, तब सभी की प्रार्थना पर भगवान शिव ने सृष्टि को बचाने हेतु उस विष को अपने कंठ में उतार लिया और उसे वहीं अपने कंठ में अवरूद्ध कर लिया.
जिससे उनका कंठ नीला हो गया समुद्र मंथन से निकले उस हलाहल के पान से भगवान शिव भी तपन को सहा अत: मान्यता है कि वह समय श्रावण मास का समय था और उस तपन को शांत करने हेतु देवताओं ने गंगाजल से भगवान शिव का पूजन व जलाभिषेक आरंभ किया, तभी से यह प्रथा आज भी चली आ रही है प्रभु का जलाभिषेक करके समस्त भक्त उनकी कृपा को पाते हैं और उन्हीं के रस में विभोर होकर जीवन के अमृत को अपने भीतर प्रवाहित करने का प्रयास करते हैं.🙏🏻🙏🏻
Photo

Post has attachment
भारतीय जुगाड़
Photo
Wait while more posts are being loaded