pyar kya Hai?

Meri nazar me pyar ek ehsaas hai,ek vishwash Hai ,ek Sach hai,pyar Bina jeevan adhura hai, hamare jeevan ki suruat hi pyar se hoti,humara pehla pyar humare maa-baap hote Hai,kyuki jab hum duniya me aate Hai sabse jyada khusi unhe hi hoti,wo hume jeevan ki har khusi dena chahte Hai,jisme Hume sanskaar milte Hai, duniya ko pehchanne ka nazaria milta hai,jaruri nahi pyar ke liye koi girlfriend​ ya boyfriend ho,pyar kabhi bhi Kisi se bhi ho sakta Hai,Kisi ki baaton se,Kisi ke vichaaro se,pyar ka matlab Kisi ke liye jaan dena nahi jeena hota hai,pyar jism se nahi Mann se hota hai,pyar koi dikhawa nahi hota..............




बाकी सबको खबर थी,
उसे ना थी कि मैं उसके प्यार में हूँ ...
अब बहुत दूर हैं हमारे किनारे,
पर मैं अभी तक भी मझदार में हूँ ...

आज तक दोबारा वो,
ख्वाबों में भी नहीं आई मेरे कभी ...
लगभग पाँच साल बीत गए,
और मैं अबतक उसके इन्तजार में हूँ ...

जख्मों का पूरा जंगल,
उग आया है दिल में मेरे ...
आने लगा है अब दहकने में भी मज़ा,
मैं उसकी यादों की मीठी अंगार में हूँ ...

उसकी निगाहों के जादू से,
आ जाती है बहार मेरे जीवन में ...
काश वो एक नजर इधर भी देख ले,
कई बरस बाद भी मैं अब तक कतार में हूँ ...

प्यार करना गुनाह है अगर,
तो अपराध कुबूल है मुझे भी अपना ...
वो चाहे सज़ा दे चाहो इनाम,
मैं सर झुकाए अबतक उसके दरबार में हूँ..

Wait while more posts are being loaded