Post has attachment
ईमानदार व कर्तव्यनिष्ठ व्यक्तित्व, देशप्रेमी और राष्ट्रभक्तों के ऊपर भ्रष्ट और स्वार्थी लोगों के प्रहार पर मेरी प्रतिक्रिया कुछ इस प्रकार है -----
Photo

Post has shared content
प्रिय मित्रों व् बच्चों ! 
                 आप लोगों से मेरी विनती है कि मेरी किसी भी पोस्ट को केवल पढ़ने के पश्चात ही लाइक या शेयर करें। मुझे अफ़सोस है कि मेरी किसी भी पोस्ट में आपके मनोरंजन की कोई भी बातें नहीं होती, बल्कि इनमें केवल अपने देश और देशभक्ति से जुड़ी हुई बातें ही होती हैं, इसलिए यदि आपने किसी मनोरंजन की तलाश में मुझे गलती से अपने सर्किल में ऐड कर लिया हो, तो आपको मेरी सलाह है मेरी इस पोस्ट के मैसेज को आगे पढ़ने में भी अपना समय बिलकुल भी व्यर्थ बर्बाद न करें, बल्कि अपने इस समय का प्रयोग भी मुझे अपने सर्किल से तुरंत रिमूव करने में ही करें। लेकिन यदि आप इस देश से ज़रा सा भी प्रेम करते हैं और यह भी मानते हैं कि इस देश का एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते इस देश के प्रति आपके भी कुछ कर्तव्य हैं, तब भी मेरे मैसेज को पूरा पढ़ने के बाद ही उस पर अपनी कोई भी प्रतिक्रिया देंI अन्यथा मेरा समय भी व्यर्थ बर्बाद न करें ! धन्यवाद।

सत्यम शिवम् सुन्दरम ! जय हिन्द, जय भारत ! वंदे मातरम ! 
          "विजयी विश्व तिरंगा प्यारा,  झंडा ऊंचा रहे हमारा"

प्रिय मित्रों एवं बच्चों ! 
                            ॐ नमः शिवाय ! हर हर महादेव ! भगवान शिव आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें ! ईश्वर आपको सदा सही राह पर चलायें, जिससे आपका प्रत्येक दिन मंगलमय हो ! 

मित्रों व् बच्चों ! 
                         यदि आप हिन्दू हैं और यह बिलकुल नहीं चाहते कि आने वाले समय में कभी भी आपको या आपके बच्चों को जबरन मुसलमान बनना पड़े, तो मेरे इस मैसेज को खासकर इसके महत्वपूर्ण सन्देश वाले भाग को एक बार ऊपर से नीचे तक अवश्य ही पढ़ें। और हाँ अगर आपको मेरी बात में सच्चाई नज़र आये अथवा सही लगे तो यह भी अवश्य ही बताएं कि इस खतरनाक आने वाले भविष्य से अपने सभी बंधु-बांधवों को भी सचेत करने के लिए क्या आप भी हमारे इस हिन्दू जन-जागृति अभियान का हिस्सा नहीं बनना चाहेंगे? अगर हाँ ! तो आप इस दिशा में क्या करेंगे? हो सकता है कि आपको मेरी यह भाषा कुछ अटपटी अवश्य लगे, लेकिन मेरी मज़बूरी है, इस प्रश्न ने (जिससे हम सभी की जिंदगी और हमारी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य जुड़े हुए हैं) पिछले कुछ अरसे से मेरी रातों की नींद को उड़ा रखा है। हालाँकि आपके इस सन्देश को पढ़ने या न पढ़ने से अभी मुझे तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा, क्यूँकि मैं तो स्वयं ही उम्र के उस पड़ाव पर हूँ, जहाँ से उस दौर को देख पाने का मौका शायद ही मिले। लेकिन हमारी भावी पीढ़ियों का भविष्य तो फिर भी उससे जुड़ा हुआ है। वैसे भी आप मुझसे तो झूठ भी बोल सकते हैं, लेकिन क्या अपने आप से या अपनी अंतरात्मा से भी झूठ बोल पाएँगे? इसलिए इसे पढ़ने के बाद भले ही फैसला कुछ भी करें, लेकिन एक बार पूरा जरूर पढ़ें, क्यूँकि तब आप न तो किसी थोथी धर्मनिरपेक्षता के अँधेरे में जियेंगे और न ही कभी किसी से कभी यह भी कह सकेंगे कि आपको वस्तुस्थिति का ज्ञान नहीं था। आखिर को यह हम सभी के अस्तित्व का प्रश्न जो है?
                 कहा जाता है कि जब कोई बात पढ़कर अथवा बोलकर बार-बार दोहराई जाती है, तब वो बात हमारे अवचेतन मन में गहरे तक बैठ जाती है। तब क्यों न हम अपनी भारतीय संस्कृति की नीचे लिखी हुई कुछ अच्छी बातों को दोहराएं, जिससे हमारे व्यक्तित्व का उचित विकास हो और हम अपने राष्ट्र के सर्वांगीण विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकें?

                 "श्रीमद भगवद्गीता में भगवान श्री कृष्ण ने स्पष्ट कहा है कि न्याय-अन्याय अथवा धर्म-अधर्म की लड़ाई में बीच का कोई मार्ग ही नहीं होता अर्थात कोई भी पक्ष जो न्याय का समर्थक है, तो उसे अन्याय के प्रतिकारस्वरूप पूरी तरह से न्याय के साथ खड़े होना चाहिए। इसी प्रकार जो कोई भी पक्ष धर्म या न्याय के पक्ष में नहीं है, तो उसे परोक्ष-अपरोक्ष रूप से अन्याय का समर्थन करने वाला ही मानना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण ने आगे इस बात को भी स्पष्ट किया है कि अधर्मियों से समाज एवं धर्म की रक्षा के लिए अधर्मियों के खिलाफ किये गए किसी भी प्रकार के छल-बल एवं हिंसा के प्रयोग को पाप की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता। लेकिन उसका उद्देश्य केवल और केवल धर्म की स्थापना ही होना चाहिए।"

                "कोई भी धर्म राष्ट्र-धर्म अथवा देशभक्ति से बड़ा नहीं होता। किसी भी प्रकार के देशद्रोह की केवल एक ही सजा मृत्यु-दंड होनी चाहिए। जिस देश अथवा राज्य की अधिकांश जनता कायर हो, वहां विदेशी शक्तियों अपना आधिपत्य अधिक आसानी से जमा पाती हैं। अन्याय करने वाले से उस अन्याय को चुपचाप सहने वाला अधिक दोषी होता है, जिसके कारण समाज में कायरता बढ़ती है और अन्यायी को बल मिलता है। अतः अन्याय का प्रतिकार अवश्य करें व् अपने बच्चों एवं छोटे भाई-बहनों को भी अन्याय का प्रतिकार करने की ही शिक्षा दें।" 

                "जैसे काली से काली घटाएँ भी सूर्य के प्रकाश को बिखरने से अधिक समय तक रोक नहीं सकती, उसी प्रकार झूठ को कैसी भी चाशनी में लपेट कर परोसने या सत्य को सात तालों के भीतर कैद करने पर भी सत्य को छिपाया अथवा दबाया नहीं जा सकता। और झूठ के सारे अंधकार को चीर कर एक न एक दिन सच का सूरज निकलता जरूर है। सत्य एवं अहिंसा के पथ पर चलना कुछ कठिन भले ही हो, लेकिन केवल सत्य और अहिंसा का मार्ग ही सर्वश्रेष्ठ होता है, इसलिए सदा सत्य बोलने की कोशिश करें। सत्य को बोलने का सबसे बड़ा फायदा ये है कि आपको कोई भी बात याद नहीं रखनी पड़ती, जबकि एक झूठी बात को छिपाने के लिए कभी-कभी सैंकड़ों झूठ बोलने पड़ते हैं। लेकिन एक बात अवश्य याद रखें कि सत्य और अहिंसा कायरों के हथियार नहीं, अतः अपनी कायरता को छिपाने के लिए इनका सहारा लेकर अपने बच्चों एवं समाज को मूर्ख बनाना अपने आपको धोखा देने जैसा ही है।"

               "साफ़ दिल, नेक नियत और सही इरादे से किये जाने वाले हर काम में परमात्मा स्वयँ आपके साथ रहते हैं !" 

               "दूसरों के साथ वो व्यवहार कभी न करें, जो आप स्वयं अपने लिए नहीं चाहते !" 

               "याद रखें कि हमारा चरित्र उस भव्य इमारत की भांति होता है, जिसे बनाने में तो कभी-कभी बरसों लग जाते हैं, लेकिन गिराने में केवल कुछ पल की ही देरी लगती है। ठीक उसी प्रकार चरित्र निर्माण हिमालय पर चढ़ने के समान दुर्गम है, परंतु गिरने के लिए केवल हमारा एक गलत कदम ही पर्याप्त है !"

               "प्रकृति का यह नियम है कि संसार में जो कुछ भी हल्का है, वही ऊपर उठता है। इसलिए अपने उत्थान के लिए अपने अंदर के अहंकार को निकाल कर अपने आपको हल्का करें !" 

               "वैसे तो कुछ भी बोलकर अपने शब्द वापस लेना दोगले नेताओं का ही चलन है, फिर भी आप अपने लफ़्ज़ों को तोलकर बोलिए ! ताकि कभी वापस भी लेने पढ़ें तो वजन न लगे !"

               "इस देश में पैदा होने, यहाँ की आबो-हवा में खेल-कूद कर पले बढे होने के कारण इस देश के प्रति हमारे कुछ फ़र्ज़ व् क़र्ज़ होते हैं। यदि आप के मन में अपने इस देश के प्रति प्रेम और आदर की भावना न हो, यदि यहाँ का नागरिक होने के बावजूद आप अपने उन कर्तव्यों का पालन ठीक से नहीं करते, अपने माता-पिता, बुजुर्गों एवं गुरुजनों को यथोचित सम्मान नहीं देते व् केवल दूसरों में मीन-मेख निकालकर ही आप अपना जीवन व्यतीत करते हैं, तो निश्चय ही आप इस देश की धरती पर बोझ और इंसानियत के नाम पर कलंक हैं !"

               "Inactivity and idleness is the sign of a dead body ! if you have got any free time, don't waste it. You can utilize the same for the sake of the betterment of society, mankind and work for the national interests." 
               "निष्क्रियता और आलस्य एक मृत शरीर की पहचान है ! यदि आप के पास खाली समय है, तो इसे व्यर्थ बर्बाद मत करो। आप अपने खाली समय का सदुपयोग समाज, मानवता की बेहतरी और राष्ट्रीय हितों के लिए काम करके भी कर सकते हैं !" 

प्रिय मित्रों एवं बच्चों ! 
                      आप सभी इस बात से भली भांति परिचित हैं कि नेताओं की बातों पर आँख मूँद कर विश्वास करने वालों का हश्र सदा बुरा ही होता है। सोचो कि भगवान ने हम सभी को बुद्धि और दिमाग किसलिए दिए हैं, यदि हम उनका इस्तेमाल ही न करें? और आप सब भी तो इस बात से सहमत हैं कि विश्व के समस्त नेताओं की प्रवृति तो गिरगिट जैसी होती है, पल-पल में ही बदल जाती है। इससे ज्यादा दुखद और क्या होगा कि भारतीय नेताओं के कारण तो बेचारे गिरगिटों को भी बहुत बड़ी मात्रा में आत्महत्या करनी पड़ रही है क्यूँकि उनका कहना है कि जितनी देर उन्हें ये सोचने में लगती है कि अपना अगला रंग क्या बदलूँ, उतनी देर में तो कुछ भारतीय नेता अपना बयान तीन बार बदल लेते हैं। 
                भारत एक हिन्दू बहुल देश होते हुए भी यहाँ कदम कदम पर हमारे हिन्दू धर्म को अपमानित होना पड़ता है, साथ ही कुव्यवस्था के कारण यह देश भी एक बार फिर से विनाश और विभाजन की ओर अग्रसर होता प्रतीत हो रहा है। इन सब बातों के अलावा कुछ मुस्लिम देशों में पिछले कुछ समय से हिन्दू व् गैर-मुस्लिम लोगों के साथ दुर्व्यवहार, सामूहिक जन-सँहार और जबरन धर्मान्तरण की अनगिनत घटनाओं के बाद इस देश को भी एक मुस्लिम देश बनाने की उठती मांग ने हमें सकते में डाल दिया है और सोचने पर मज़बूर कर दिया है कि नेहरू और गांधी की बेवकूफी और साज़िश के कारण क्या भारत और हिंदुत्व का अस्तित्व इस दुनिया से ही खत्म होने जा रहा है? 
                यह बात मात्र कपोल-कल्पना समझ कर सिर्फ लापरवाही में हंसी में ही उड़ा देने की नहीं है, अपितु इस पर ठन्डे दिमाग से बैठ कर मंथन करने की आवश्यकता है। क्यूँकि दुनिया का इतिहास इस बात का गवाह है कि दुनिया के नक़्शे में पहले जितने भी हिन्दू धर्म पर चलने वाले देश थे, भारत और नेपाल जैसे इक्का दुक्का देश के अलावा उन सभी का अस्तित्व आज खतम हो चूका है और वो सभी न सिर्फ आज कट्टर इस्लामिक में गिने जाते हैं, बल्कि जो देश हिन्दू जनसँख्या की बहुलता से हिन्दू देशो की श्रेणी में गिने जाते थे, आज वहाँ हिन्दू ढूंढने से भी नहीं मिलते, क्यूँकि वहां न सिर्फ हिन्दू सभ्यता और संस्कृति के प्रतीकों ही नष्ट किया गया, बल्कि वहाँ के मूल निवासी हिन्दुओं का अस्तित्व भी समाप्त कर दिया गया है। जो कुछ थोड़े बहुत अपनी जान बचाने में कामयाब भी हुए, उन्हें अपने अस्तित्व को बचाने के लिए अपने ही देश से अपनी समस्त चल-अचल संपत्ति को त्याग कर पलायन करना और संसार के विभिन्न हिस्सों में जा कर बसना पड़ा है। 
                  कांग्रेस और उसके सहयोगियों की कुनीतियों, मुस्लिम चाटुकारिता और दुर्व्यवस्था के कारण न सिर्फ मुस्लिम समाज के अपराधी प्रवृति के लोगों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं, जिसका सीधा असर हमारे हिन्दू समाज और उस की बहु-बेटियों की सामाजिक सुरक्षा पर पड़ रहा है। आये दिन देश में बढ़ते जा रहे सामूहिक बलात्कार के किस्से और थोड़े थोड़े अंतराल पर देश के विभिन्न भागों में होते दंगे इसके ज्वलंत उद्दाहरण हैं।


                                         महत्वपूर्ण सन्देश 

              भारत का एक जल्द से जल्द एक हिन्दू राष्ट्र बनना जरुरी क्यों?
क्या कीजियेगा, जब आज से 20-30 साल बाद भारत भी एक इस्लामिक देश बन जायेगा? आप अपनी जान देंगे, विदेश चले जायेंगे या कि अपने बच्चों सहित मुस्लिम बन जायेंगे? क्या आप नहीं जानते कि आज़ादी के बाद से आज तक भारत के छह करोड़ से भी अधिक हिन्दुओं को जोर-जबरदस्ती से या लालच देकर मुस्लिम अथवा क्रिश्चियन बनाया जा चूका है? लेकिन तब भी सुरक्षा की क्या गारंटी है, क्यूँकि जो सुन्नी मुस्लिम लोग आज अपने ही शिया समुदाय को ठिकाने लगाने पर तुले हुए हैं, जबकि शिया समुदाय तो उन्हीं के इस्लाम का सदियों पुराना हिस्सा है, फिर क्या भरोसा कि कल को वो धर्म परिवर्तन से अपनी जान बचाने वालों को भी जिन्दा छोड़ेंगे या नहीं? 
क्या आप नहीं जानते कि हिन्दू बहुल भारत होते हुए भी झारखण्ड के पहले से नक्सली पीड़ित रहे ख़ास भाग में आतंकवादियों द्वारा वहाँ रहने वाले हिन्दुओं को इलाका खाली करने या जान माल से हाथ धोने की धमकी भरे सन्देश भेजे जा चुके हैं, जिसकी चर्चा न्यूज़ चैनल की भी सुर्खियां बनी?
क्या कश्मीर को २५ साल पहले ही हिन्दुओं से खाली नहीं कराया जा चूका है? क्या आप नहीं जानते कि आज अरुणाचल और आसाम आदि राज्यों के कुछ मुस्लिम बहुल खास इलाकों में से भी लाखों की संख्या में हिन्दुओं का पलायन जारी है? 
क्या आप पश्चिम बंगाल, केरल, अरुणाचल और आसाम के कुछ मुस्लिम बहुल खास इलाकों में रहने वाले हिन्दुओं की सैंकड़ों-हज़ारों की संख्या में आगजनी आदि से हुई जान माल की क्षति की अनगिनत बार की घटनाओं से वाकिफ नहीं, जिसके कारण आज केरल में हिन्दू नाममात्र ही बचे हैं?
क्या आप नहीं जानते कि भारत के बहुसंख्यक हिन्दू समुदाय को अल्प संख्या में लाने और बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों द्वारा यहाँ भारत में मुस्लिम जनसँख्या को बढ़ाने की एक सोची समझी साज़िश चल रही है, जिसके तहत बांग्लादेश बनने अर्थात 1971 से अब तक इसी साज़िश को अंजाम देने के लिए बांग्लादेश से सात करोड़ से भी अधिक मुसलमानों को अनाधिकृत रूप से भारत में प्रवेश कराया जा चूका है, जिसका साथ लालू,मुलायम और मायावती और ममता बैनर्जी के अलावा सम्पूर्ण कांग्रेस के नेता भी बखूबी दे रहें हैं। इसीलिए ये सभी अक्सर ही उन बांग्लादेशी घुसपैठियों को वापस बांग्लादेश भेजने के प्रश्न पर भड़क जाते हैं, क्यूँकि उनमें से अधिकांश को तो अपना वोट बैंक बढ़ाने की खातिर ये लोग पहले ही भारत की नागरिकता दे भी चुके हैं। यदि बांग्लादेशी घुसपैठियों की वापसी पर सख्ती से अमल होता है, तो इन सबकी ये साज़िश भी सामने आ जाएगी।
क्या आप नहीं जानते कि बांग्लादेश में वहाँ रहने वाले बंगाली हिन्दुओं पर कैसे कैसे कहर ढाये जा रहे हैं, जिसके कारण वो लोग भी वहाँ से पलायन करने पर मज़बूर हैं?
क्या आप नहीं जानते कि पाकिस्तान में अपनी चल-अचल धन-संपत्ति छोड़कर अपनी जान बचाने की खातिर वहाँ के हिन्दुओं को लाखों की संख्या में भारत के राजस्थान आदि में शरण लेनी पड़ी है, जो किसी भी कीमत पर वापस पाकिस्तान जाने को तैयार नहीं? उन लाखों हिन्दुओं को तो यहाँ के मूल निवासी होने पर भी आज तक भारत की नागरिकता नहीं दी गई है, जबकि इन लालू, मुलायम मायावती और ममता बैनर्जी आदि के शासनकाल में और कांग्रेस शासित प्रदेशों में कांग्रेस के इशारे पर करोड़ों की संख्या में बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों को यहाँ की नागरिकता दे दी गई है, आखिर क्यों?  
         आप चाहे लड़कें हों या लड़की हों, आदमी हों या औरत हों, जवान हों या बूढ़े हों, अमीर हों या गरीब हों, नेता हों या अभिनेता हों, कर्मचारी हों या व्यापारी हों, जज हों या वकील हों, भले ही हम लोग कितने भी पढ़े लिखे हों या बिलकुल अनपढ़ हों लेकिन यदि हम हिन्दू हैं तो क्या यह हमारा फ़र्ज़ नहीं बनता कि हम अपने अपने लेवल पर हम में से हर एक का यह कर्तव्य बनता है कि अपने से मिलने जुलने वाले हर एक व्यक्ति से संसार के सभी 56 हिन्दू देशों के इस्लामिक देश बनने और वहां के मुस्लिम्स के  द्वारा वहां उन देशों में रहने वाले हिन्दुओं के ऊपर किये जा रहे जुल्मों-सितम व् अत्याचारों के बारे में अवश्य बातचीत अवश्य ही करें, क्यूँकि यह न केवल आपके और आपकी बल्कि उन सभी की आने वाली पीढ़ियों की भी जिंदगी का प्रश्न है,   जिनसे आप इस बारे में बातचीत करेंगे। कभी यहाँ की भोली भाली जवान व् खूबसूरत लड़कियों की मासूमियत और नासमझी/अनभिज्ञता का लाभ उठाकर उन्हें लव-जेहाद जैसे हथकंडों में फंसाया जाता है, जिसमें कभी कभी तो अपने आपको जरुरत से ज्यादा मॉडर्न व् समझदार समझने वाली पढ़ी-लिखी मगर हकीकत में निहायत ही बेवकूफ किस्म की लड़कियां भी फंस जाती हैं, जिनका परिणाम अक्सर ही समाचार-पत्रों में चर्चा का विषय बन जाया करता है तो कभी कभी उनकी यह आधुनिकता भरी समझ उन्हें आत्महत्या की कगार तक भी पहुँचा देती है। कभी इन लोगों के द्वारा कभी यहाँ हिन्दुओं के गरीब व् अनपढ़ तबके खासकर पिछड़ी जाति के लोगों को ऊँची जाति के लोगों के खिलाफ भड़काया जाता है। मुसीबत तो यह है कि इन तथाकथित पिछड़ी जातियों के पढ़े-लिखे लोग भी बिना कुछ सोचे समझे ही इन लोगो की हाँ में हाँ मिला देते हैं, जिसका परिणाम यह होता है कि उस समय वहाँ मौजूद अन्य गरीब व् अनपढ़ लोग उनकी बात को सही समझकर खुद अपने ही हिन्दू धर्म की जड़ें खोदने का काम शुरू कर देते हैं। कभी सोचा है कि ऐसा सिर्फ हिन्दू धर्म के लोगों के साथ ही क्यों किया जाता है?
  क्या आपको पता है कि समस्त संसार के अधिकांश देश या तो क्रिश्चियन हैं या इस्लामिक अथवा मुस्लिम देश। जबकि बहुसंख्यक हिन्दुओं का इकलौता देश यह भारत ही है या नाममात्र का छोटा सा गरीब देश नेपाल। इस्लाम व् क्रिश्चयन दोनों ही धर्म किसी भी प्रकार से समस्त संसार के ताकतवर देशो पर अपनी हुकूमत चाहते हैं, ताकि संसार के बाकी कमज़ोर देशों को अपनी आधीन कर सकें या इच्छानुसार चला सकें। और यही इच्छा इन दोनों धर्मों की भारत के बारे में भी है। इनका केवल एक ही मकसद है कि किसी भी प्रकार से किसी भी प्रकार से यहाँ के बहुसंख्यक हिन्दू आपस में लड़ें, कमज़ोर हों और उनका हिन्दू धर्म से मोह भंग हो सके और वो यहाँ के बहुसंख्यक हिन्दुओं को अल्प संख्यक बना सकें, ताकि अपनी सुविधानुसार जब जी चाहे इसे एक क्रिश्चियन या इस्लामिक देश में परिवर्तित किया जा सके। क्रिश्चियन देशों में और मुस्लिम देशों में सबसे बड़ा अंतर यही है कि क्रिश्चियन धर्म वाले देश अन्य गरीब देशों के लोगों को अपरोक्ष रूप से लूट-लूट कर अमीर बनना चाहते हैं, तो मुस्लिम धर्मानुयायी अपराध के रस्ते दूसरे धर्मानुयायियों की धन-संपत्ति आदि को हड़प कर के अमीर बनना चाहते हैं, जिसका सबसे बड़ा उद्दाहरण बांग्लादेश और पाकिस्तान सहित सभी मुस्लिम देशों में गैर-मुस्लिम लोगों खासकर हिन्दुओं को मार-पीट कर, उन्हें मारकर अथवा वहां से खदेड़ कर उनकी संपत्ति पर कब्ज़ा किया जाना है। भारत के कश्मीर से हिन्दू 25 साल पहले ही भगा दिए गए, जो आज तक देश के विभिन्न भागों में खानाबदोशों की जिंदगी बसर कर रहे हैं। केरल, आंध्र आदि में तो ओवैसी भाइयों की दादागिरी जगजाहिर है ही, इसके अलावा पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश व् महाराष्ट्र आदि राज्यों के बहुत बड़े भागों को आजकल वहाँ रहने वाले हिन्दुओं ने ही मिनी पाकिस्तान का नाम भी दे दिया है, क्यूँकि वहां केवल मुस्लिम्स की ही हुकूमत चलती है। कश्मीर पहले ही खाली करवा चुके हैं, झारखण्ड के बहुत बड़े भाग में तो ISIS के आतंकवादियों द्वारा हिन्दुओं को घर छोड़कर चले जाने की धमकी के पर्चे भी समाचारों में आ ही चुके हैं और अरुणाचल एवं आसाम आदि में से भी कश्मीर की तर्ज पर हिन्दुओं का पलायन लगातार जारी है। जबकि अमीर गरीब या ऊँच-नीच की ये जातिगत विसंगतियाँ किस धर्म में नहीं हैं? क्या क्रिश्चियन व् इस्लाम में नहीं हैं? क्या क्रिश्चियन धर्म में रोमन कैथोलिक व् प्रूटेस्टेंट नहीं होते? क्या उनमें आपस में शादियाँ आसानी से हो जाती हैं, फिर यह तोहमत केवल हिन्दू धर्म पर ही क्यों लगायी जाती है? क्या इस्लाम में शिया-सुन्नी नहीं होते, जिनमें संसार के सभी कोनों में अक्सर ही मुठभेड़ भी होती रहती हैं? क्या उनमें विभिन्न जातियां नहीं होती? और तो और जो लोग धर्म परिवर्तन करके मुसलमान बन भी जाते हैं, उन्हें भी इस्लाम को शुरू में ही अपनाने वाले लोग भी दोयम दर्जे का मुसलमान यांनी मुहाजिर कहते हैं। मुस्लिम वर्ग के लोग  दिल्ली तो इन मुठभेड़ों का खास गवाह रहा है, जब कुछ साल पहले तक भी मुहर्रम के अवसर पर इस्लाम के इन दोनों वर्गों के लोग ताजिये निकलते वक्त अक्सर ही भिड़ जाया करते थे। अब यह फैसला आपको करना है कि आप मुसलमान बनना चाहते हैं या क्रिश्चियन, क्यूँकि आपको जिन्दा रहने के लिए या तो आपको किसी क्रिश्चियन देश में जा कर बसना होगा या आपको इन दोनों में से एक को तो अवश्य ही चुनना होगा। वर्ना आने वाले 30 साल के बाद तो आपकी भावी पीढ़ी का अंत तय है। इसलिए अभी से सोच लीजिये कि आपको भविष्य में हिन्दू बनना है या क्रिश्चियन। मुसलमान आपको मार-मार कर मुस्लिम बनाएंगे और क्रिश्चियन लालच देकर। लेकिन फायदा क्रिश्चियन बनने में है, क्यूँकि क्रिश्चियन देश लूटते भले ही हों, लेकिन वो किसी को जान से नहीं मारते। वो बात अलग है कि वो आपको लालच देकर क्रिश्चियन बनाने की कोशिश करेंगे। बन गए तो ठीक वर्ना मुसलमान आपको मुसलमान बना देंगे या मार देंगे। लेकिन भारत में रह कर हिन्दू आप किसी भी हालत में नहीं रहेंगे, क्यूंकि तब तक तो यह एक इस्लामिक देश बन चुका होगा। जिसका सबसे बड़ा सबूत संसार के सभी हिन्दू 56 देशों का पहले ही इस्लामिक देशों में तब्दील होना है और पिछले साल 15 अगस्त को भारत को एक इस्लामिक देश बनाने की मांग केरल में उठ भी चुकी है, जिसके फोटोज आप मेरी पुरानी पोस्ट्स में भी देख सकते हैं। इस सबसे बचने का केवल एक ही मार्ग है कि हम सभी आज से ही ये प्रण करें कि ये हालात काबू में आने और इस देश को हिन्दू राष्ट्र घोषित होने तक आज के बाद भारत के किसी भी हिस्से में होने वाले सभी प्रकार के स्थानीय निकायों, वहाँ की विधान सभाओं और केंद्र सरकार के लिए लोकसभा के सभी चुनावों में केवल अपने देशभक्त हिन्दू नेताओं और अपने हिन्दू संगठनों जैसे - भाजपा, शिव-सेना, विश्व हिन्दू परिषद, आरएसएस, बजरंगदल आदि के नेताओं को ही अपना वोट देकर चुनेंगे। ताकि हमारे इन हिन्दू संगठनो के हाथ मज़बूत हों और इनके ज़रिये हम इस देश को वो विषम एवं दुखदायी परिस्थितियां आने से पहले ही जल्दी से जल्दी भारत को एक हिन्दू राष्ट्र घोषित करवा सकें। इससे पहले कि मुस्लिम मैजोरिटी में आकर यहाँ उत्पात मचाएं और इस देश को एक इस्लामिक देश बना पाएं, उससे पहले ही आप को अपने सभी जानकारों को यह मैसेज और सन्देश देकर समस्त भारत में भाजपा की सरकार बनाकर इस देश को भाजपा के ज़रिये एक हिन्दू राष्ट्र में ही बदल दिया जाएँ, क्यूँकि इस बात को तो सभी जानते हैं कि भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने का सपना केवल भाजपा, आरएसएस और अन्य हिन्दू संगठन ही देखते हैं। आप यह भी सोच सकते हैं कि कहीं मैं कोई भाजपा समर्थक तो नहीं? हकीकत तो यही है कि मैं कोई भाजपा समर्थक नहीं हूँ, लेकिन अगर होता भी उससे क्या फर्क पड़ जाता? अगर मैं मुस्लिम संगठनो को भी समर्थन करूँ, तो उससे भविष्य में हिन्दुओं और हिंदुस्तान पर आने वाला यह संकट क्या टल जायेगा? हम आपको कोई आतंकवादी बनने के लिए तो नहीं कह रहे न? बल्कि हम तो आपको केवल इस बात का एहसास कराना चाहते हैं कि इस तथाकथित थोथी धर्मनिरपेक्षता की नीति में क्या रखा है। जबकि प्रथम तो धर्मनिरपेक्षता का अर्थ ही सभी सभी धर्मों को एक समान अधिकार एवं एक समान न्याय देना ही होता है, लेकिन क्या भारत में कभी वास्तव में ऐसा होता भी है? नहीं, उसके दो ही कारण हैँ - पहला कारण कि मुस्लिम खुद ही इसे कभी नहीं मानते और दूसरा कारण यह कि अपने आपको धर्मनिरपेक्ष कहने वाले कांग्रेस और उसके सभी सहयोगी दलों के मुस्लिमपरस्त नेताओं ने इस धर्मनिरपेक्षता की नीति को केवल मुस्लिम तुष्टिकरण और हिन्दुओं के अपमान का ही जरिया बनाकर छोड़ दिया है। फिर क्या दिया है हमें इस धर्मनिरपेक्षता की नीति ने हमें? केवल हम हिन्दुओं को अपने हिन्दू भाइयों से उन थोथे सिद्धांतों के लिए लड़कर अपने ही हिन्दू धर्म और अपने ही देश की जड़ें खोदना ही सिखाया है, वरना न तो यह देश कभी किसी का ग़ुलाम बनता और न ही ये विषम परिस्थितियां कभी हमारे व् हमारे बच्चों के सामने आती? हम आपसे कोई यह तो कह नहीं रहे कि आइये ! हम और आप सभी हिन्दू एकजुट होकर मुसलमानों का कत्लेआम करेंगे? हमारे हिन्दू धर्म और हमारे घर-परिवारों में यह नीचता या बर्बरता तो कभी भी सिखाई नहीं जाती।  लेकिन कम से कम मौजूदा हालात में हम सभी एकजुट होकर ऊपर बताये हुए इस उपाय पर अमल करके इसके ज़रिये अपने देश में आने वाले संकट से तो निपट सकते हैं ना? और हाँ एक बात यह भी याद रखियेगा कि अकेले मोदी जी भी इस विषय में कुछ खास नहीं कर पाएंगे, जब तक कि आप उन जैसे ही कुछ कट्टर देशभक्त और कट्टर हिन्दू नेताओं को उनका इस मुहीम में साथ देने के लिए नहीं चुनते। क्यूँकि हो सकता है कि भारत को एक हिन्दू देश बनाने की घोषणा होते ही मुसलमान सारे भारत में एक बार जोर-शोर से दंगा फैलाने की कोशिश करें? जिसको काबू करने के लिए सारे भारत में सशक्त भाजपा और कट्टर पंथी हिन्दू नेताओं के हाथ में वहां की सत्ता अवश्य होनी चाहिए, खासकर उन प्रदेशों में, जिनमें वहाँ के लोग बड़े भाग को मिनी पाकिस्तान का नाम पहले ही दे चुके हैं, ताकि किसी भी समुदाय के जान-माल की ज्यादा हानि न हो सके। अपने मुस्लिम मित्रों को भी आप यह कहकर भारत को एक हिन्दू राष्ट्र बनाने की इस मुहीम में भाजपा का साथ देने के लिए संतुष्ट कर सकते हैं कि हमारा इतिहास भी इस बात का गवाह है कि प्राचीन काल से आज तक कभी किसी भी हिन्दू राजा ने गैर हिन्दुओं पर अत्याचार नहीं किये, वरना यहाँ कभी कोई दूसरा धर्म पनप ही नहीं पाता, जबकि बाबर, महमूद गजनवी, चंगेज़ खान, तैमूरलंग, मुहम्मद गौरी और औरंगज़ेब समेत न जाने कितने ही मुस्लिम बादशाहों के द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़ने, उन्हें लूटने और यहाँ की हिन्दू प्रजा पर जुल्मो-सितम के किस्से तो इतिहास में भरे पड़े हैं। उन्हें इस बात का भरोसा दिलाइये कि हिन्दू राष्ट्र बनने के बाद भी उनके साथ किसी किस्म का कोई भेदभाव नहीं किया जायेगा। अगर मेरी बात आपको ठीक से समझ में आ पायी हो, तो आप इसे आगे भी शेयर कर सकते हैं। आप मेरी किसी भी पोस्ट के व्यूज को देखकर सुनिश्चित कर सकते हैं, कि मेरी हर पोस्ट को हज़ारों लोग अवश्य ही देखते हैं। इसलिए अपने इस मैसेज को इस पोस्ट के ज़रिये हज़ारों लोगों को भेज कर अपने हिस्से का अपना काम मैं तो कर चुका हूँ। आगे का काम आपका है कि आप यह मैसेज अपने आगे के हज़ारों लोगों को कैसे भेज पाते हैं अथवा उन्हें भी यह हकीकत कैसे समझा पाते हैं? चाहें तो इसके लिए आप इस मैसेज के हज़ारों प्रिंट छपवाकर यह काम आसानी से कर सकते हैं। लेकिन सावधान ! कांग्रेस व् अन्य राजनीतिक पार्टियों से जुड़े हुए लोगों और कट्टर मुसलमानों से बचकर, क्यूँकि इससे उनकी इस देश को मुस्लिम देश बनाने की साज़िश नाकाम जो हो सकती है, तो ज़ाहिर है कि मेरी तरह आप भी उनकी नज़रों में खटक सकते हैं। क्या आप नहीं जानते कि भारत में भाजपा व् अन्य हिन्दू संगठनो के नेताओं को छोड़कर अन्य सभी नेता, मीडिया, अन्य वर्गों/धर्मों के लोग व् मुस्लिम समुदाय सहित समाज के सभी ताकतवर तबके न केवल कदम कदम पर हिन्दू धर्म के बारे में तरह तरह की उल-जुलूल बातें फैलाने की ही भरसक कोशिश करते हैं, बल्कि अक्सर यह भी देखने में आता है कि ये सभी लोग व् नेता जब कभी उन्हें हिन्दुओं को किसी भी बात पर नीचा दिखाने और अपमान करने का मौका मिलता है, तो उसमें अपनी तरफ से कोई कसर भी बाकी नहीं छोड़ते? इसका भी एक कारण है कि इनमें से अधिकाँश नेता व् मीडिया कर्मी या तो मुसलमान बन ही चुके हैं या बनने को तैयार बैठे हैं, जिसका खुलासा हम पहले की कई पोस्ट्स में भी कर चुके हैं। लेकिन फैसला तुरंत अवश्य करें, वरना देर होने पर तो पछताने का भी कोई फायदा नहीं होगा। 
                       - उमा शंकर पराशर       

Note : If you agree with our views, then don't just like/share this post but join us at google+ in 'Sarfrosh Deshbhakt' community : https://plus.google.com/u/0/communiti…/117687291425332274527 at the earliest. 
अगर आप हमारे विचारों से सहमत हैं, तो आप केवल हमारी पोस्ट को लाइक/शेयर ही न करें, बल्कि गूगल+ में हमारी कम्युनिटी 'सरफ़रोश देशभक्त' : :https://plus.google.com/u/0/communiti…/117687291425332274527 में भी अतिशीघ्र हमसे जुड़ें। हमारी कम्युनिटी 'सरफ़रोश देशभक्त' और 'अखिल भारतीय गौ-रक्षा समिति' का गठन केवल सोशल साइट पर अपने आसपास के उन सभी लोगों को एकजुट करने के लिए ही किया गया है, जिनके दिल के अंदर इस देश और हिन्दू धर्म के लिए कुछ भी कर गुजरने की आग भरी हो।
Photo

Post has shared content
Dear friends and children ! 
                                    Jai bhole nath.
                                              here I present some memorable moments of India's celebration of 68th Independence Day at Red Fort Delhi. Foe the first time , there was a historical presence of 150 foreign diplomats out of total 153 ever since the day India got freedom on 15th August 1947. 
                      - Uma Shankar Parashar.
प्रिय मित्रों एवं बच्चों !
                          ॐ नमः शिवाय ! हर हर महादेव.
          भगवान शिव आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें !!!
                                            और
                     ईश्वर आपको सदा सही राह पर चलायें,
                   जिससे आपका प्रत्येक दिन मंगलमय हो !

                            विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, 
                                         झंडा ऊंचा रहे हमारा !
सभी भारतवासियों को 68वें स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें ! 
 
मित्रों !
                   " साफ़ दिल, नेक नियत और सही इरादे से किये जाने वाले हर काम में परमात्मा स्वयँ आपके साथ रहते हैं !" 
                    "दूसरों के साथ वो व्यव्हार कभी न करें, जो आप स्वयं अपने लिए नहीं चाहते !"             
                    "याद रखें कि हमारा चरित्र उस भव्य इमारत की भांति होता है, जिसे बनाने में तो कभी-कभी बरसों लग जाते हैं, लेकिन गिराने में केवल कुछ पल की ही देरी लगती है। ठीक उसी प्रकार चरित्र निर्माण हिमालय पर चढ़ने के समान दुर्गम है, परंतु गिरने के लिए केवल हमारा एक गलत कदम ही पर्याप्त है !"
                    "प्रकृति का यह नियम है कि संसार में जो कुछ भी हल्का है, वही ऊपर उठता है। इसलिए अपने उत्थान के लिए अपने अंदर के अहंकार को निकाल कर अपने आपको हल्का करें !" 
                     "वैसे तो कुछ भी बोलकर अपने शब्द वापस लेना दोगले नेताओं का ही चलन है, फिर भी आप अपने लफ़्ज़ों को तोलकर बोलिए ! ताकि कभी वापस भी लेने पढ़ें तो वजन न लगे !"
                     "इस देश में पैदा होने, यहाँ की आबो-हवा में खेल-कूद कर पले बढे होने के कारण इस देश के प्रति हमारे कुछ फ़र्ज़ व् क़र्ज़ होते हैं। यदि आप के मन में अपने इस देश के प्रति प्रेम और आदर की भावना न हो, यदि यहाँ का नागरिक होने के बावजूद आप अपने उन कर्तव्यों का पालन ठीक से नहीं करते, अपने माता-पिता, बुजुर्गों एवं गुरुजनों को यथोचित सम्मान नहीं देते व् केवल दूसरों में मीन-मेख निकालकर ही आप अपना जीवन व्यतीत करते हैं, तो निश्चय ही आप इस देश की धरती पर बोझ और इंसानियत के नाम पर कलंक हैं !"
                    "Inactivity and idleness is the sign of a dead body ! if you have got any free time, don't waste it. You can utilize the same for the sake of the betterment of society, mankind and work for the national interests."  
                     "निष्क्रियता और आलस्य एक मृत शरीर की पहचान है ! यदि आप के पास खाली समय है, तो इसे व्यर्थ बर्बाद मत करो। आप अपने खाली समय का सदुपयोग समाज, मानवता की बेहतरी और राष्ट्रीय हितों के लिए काम करके भी कर सकते हैं ! "       

                                           - Uma Shankar Parashar.  
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
2014-08-15
34 Photos - View album

Post has attachment

Post has attachment
क्रांति का दूसरा नाम शहीद भगत सिंह :-  
भारत जब भी अपने आजाद होने पर गर्व महसूस करता है तो उसका सर उन महापुरुषों के लिए हमेशा झुकता है जिन्होंने देश प्रेम की राह में अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया. देश के स्वतंत्रता संग्राम में हजारों ऐसे नौजवान भी थे जिन्होंने ताकत के बल पर आजादी दिलाने की ठानी और क्रांतिकारी कहलाए. भारत में जब भी क्रांतिकारियों का नाम लिया जाता है तो सबसे पहला नाम शहीद भगत सिंह का आता है.

शहीद भगत सिंह ने ही देश के नौजवानों में ऊर्जा का ऐसा गुबार भरा कि विदेशी हुकूमत को इनसे डर लगने लगा. हाथ जोड़कर निवेदन करने की जगह लोहे से लोहा लेने की आग के साथ आजादी की लड़ाई में कूदने वाले भगत सिंह की दिलेरी की कहानियां आज भी हमारे अंदर देशभक्ति की आग जलाती हैं. माना जाता है अगर उस समय देश के बड़े नेताओं ने भी भगतसिंह और उनके क्रांतिकारी साथियों का सहयोग किया होता तो देश वक्त से पहले आजाद हो जाता और तब शायद हम और अधिक गर्व महसूस करते. लेकिन देश के एक नौजवान क्रांतिकारी को अंग्रेजों ने फांसी की सजा दे दी. लेकिन मरने के बाद भी भगत सिंह मरे नहीं. आज के नेताओं में जहां हम हमेशा छल और कपट की भावना देखते हैं जो मुंबई हमलों के बाद भी अपना स्वाभिमान और गुस्से को ताक पर रख कर बैठे हैं, उनके लिए भगत सिंह एक आदर्श शख्सियत हैं जिनसे उन्हें सीख लेनी चाहिए.

 भगतसिंह का जीवन
भारत की आजादी के इतिहास में अमर शहीद भगत सिंह का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है. भगतसिंह का जन्म 28 सितम्बर, 1907 को पंजाब के जिला लायलपुर (Lyallpur district) में बंगा गांव (जो अब पाकिस्तान में है) में हुआ था. भगतसिंह के पिता का नाम सरदार किशन सिंह और माता का नाम सरदारनी विद्यावती कौर (Sardarni Vidyavati Kaur) था. उनके पिता और उनके दो चाचा अजीत सिंह तथा स्वर्ण सिंह भी अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की लड़ाई का एक हिस्सा थे. जिस समय भगत सिंह का जन्म हुआ उस समय ही उनके पिता एवं चाचा को जेल से रिहा किया गया था. भगतसिंह की दादी ने बच्चे का नाम भागां वाला (अच्छे भाग्य वाला) रखा. बाद में उन्हें भगतसिंह कहा जाने लगा. एक देशभक्त परिवार में जन्म लेने की वजह से ही भगतसिंह को देशभक्ति का पाठ विरासत के तौर पर मिला.

 भगतसिंह का बचपन
भगतसिंह जब चार-पांच वर्ष के हुए तो उन्हें गांव के प्राइमरी स्कूल में दाखिला दिलाया गया. भगतसिंह अपने दोस्तों के बीच बहुत लोकप्रिय थे. उन्हें स्कूल की चारदीवारी में बैठना अच्छा नहीं लगता था बल्कि उनका मन तो हमेशा खुले मैदानों में ही लगता था.

भगतसिंह की शिक्षा
प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के पश्चात भगतसिंह को 1916-17 में लाहौर के डीएवी स्कूल में दाखिला दिलाया गया. वहां उनका संपर्क लाला लाजपतराय और अम्बा प्रसाद जैसे देशभक्तों से हुआ. 1919 में “रॉलेट एक्ट”( Rowlatt Act) के विरोध में संपूर्ण भारत में प्रदर्शन हो रहे थे और इसी वर्ष 13 अप्रैल को जलियांवाला बाग काण्ड हुआ .

गांधीजी का असहयोग आंदोलन
1920 के महात्मा गांधी के “असहयोग आंदोलन” से प्रभावित होकर 1921 में भगतसिंह ने स्कूल छोड़ दिया. असहयोग आंदोलन से प्रभावित छात्रों के लिए लाला लाजपतराय ने लाहौर में नेशनल कॉलेज की स्थापना की थी. इसी कॉलेज में भगतसिंह ने भी प्रवेश लिया. पंजाब नेशनल कॉलेज में उनकी देशभक्ति की भावना फलने-फूलने लगी. इसी कॉलेज में ही उनका यशपाल, भगवती चरण, सुखदेव, तीर्थराम, झण्डासिंह आदि क्रांतिकारियों से संपर्क हुआ. कॉलेज में एक नेशनल नाटक क्लब भी था. इसी क्लब के माध्यम से भगतसिंह ने देशभक्तिपूर्ण नाटकों में अभिनय भी किया.

1923 में जब बड़े भाई की मृत्यु के बाद उन पर शादी करने का दबाव डाला गया तो वह घर से भाग गए. इसी दौरान उन्होंने दिल्ली में ‘अर्जुन’ के सम्पादकीय विभाग में ‘अर्जुन सिंह’ के नाम से कुछ समय काम किया और अपने को ‘नौजवान भारत सभा’ से भी सम्बद्ध रखा.

चन्द्रशेखर आजाद से संपर्क
वर्ष 1924 में उन्होंने कानपुर में दैनिक पत्र प्रताप के संचालक गणेश शंकर विद्यार्थी से भेंट की. इस भेंट के माध्यम से वे बटुकेश्वर दत्त और चन्द्रशेखर आजाद के संपर्क में आए. चन्द्रशेखर आजाद के प्रभाव से भगतसिंह पूर्णत: क्रांतिकारी बन गए. चन्द्रशेखर आजाद भगतसिंह को सबसे काबिल और अपना प्रिय मानते थे. दोनों ने मिलकर कई मौकों पर अंग्रेजों की नाक में दम किया.

भगतसिंह ने लाहौर में 1926 में नौजवान भारत सभा का गठन किया. यह सभा धर्मनिरपेक्ष संस्था थी तथा इसके प्रत्येक सदस्य को सौगन्ध लेनी पड़ती थी कि वह देश के हितों को अपनी जाति तथा अपने धर्म के हितों से बढक़र मानेगा. लेकिन मई 1930 में इसे गैर-कानूनी घोषित कर दिया गया.

 साण्डर्स की हत्या
वर्ष 1919 से लागू शासन सुधार अधिनियमों की जांच के लिए फरवरी 1928 में “साइमन कमीशन” मुम्बई पहुंचा. देशभर में साइमन कमीशन का विरोध हुआ. 30 अक्टूबर, 1928 को कमीशन लाहौर पहुंचा. लाला लाजपतराय के नेतृत्व में एक जुलूस कमीशन के विरोध में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहा था, जिसमें भीड़ बढ़ती जा रही थी. इतनी अधिक भीड़ और उनका विरोध देख सहायक अधीक्षक साण्डर्स ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर लाठी चार्ज किया. इस लाठी चार्ज में लाला लाजपतराय बुरी तरह घायल हो गए जिसकी वजह से 17 नवम्बर, 1928 को लालाजी का देहान्त हो गया .

चूंकि लाला लाजपतराय भगतसिंह के आदर्श पुरुषों में से एक थे इसलिए उन्होंने उनकी मृत्यु का बदला लेने की ठान ली. लाला लाजपतराय की हत्या का बदला लेने के लिए ‘हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन’ ने भगतसिंह, राजगुरु, सुखदेव, आज़ाद और जयगोपाल को यह कार्य दिया. क्रांतिकारियों ने साण्डर्स को मारकर लालाजी की मौत का बदला लिया. साण्डर्स की हत्या ने भगतसिंह को पूरे देश में एक क्रांतिकारी की पहचान दिला दी.

लेकिन इससे अंग्रेजी सरकार बुरी तरह बौखला गई. हालात ऐसे हो गए कि सिख होने के बाद भी भगतसिंह को  केश और दाढ़ी काटनी पड़ी. लेकिन मजा तो तब आया जब उन्होंने अलग वेश बनाकर अंग्रेजों की आंखों में धूल झोंकी.

असेंबली में बम धमाका
उन्हीं दिनों अंग्रेज़ सरकार दिल्ली की असेंबली में पब्लिक ‘सेफ्टी बिल’ और ‘ट्रेड डिस्प्यूट्स बिल’ लाने की तैयारी में थी. ये बहुत ही दमनकारी क़ानून थे और सरकार इन्हें पास करने का फैसला कर चुकी थी. शासकों का इस बिल को क़ानून बनाने के पीछे उद्देश्य था कि जनता में क्रांति का जो बीज पनप रहा है उसे अंकुरित होने से पहले ही समाप्त कर दिया जाए.

लेकिन चंद्रशेखर आजाद और उनके साथियों को यह हरगिज मंजूर नहीं था. सो उन्होने निर्णय लिया कि वह इसके विरोध में संसद में एक धमाका करेंगे जिससे बहरी हो चुकी अंग्रेज सरकार को उनकी आवाज सुनाई दे. इस काम के लिए भगतसिंह के साथ बटुकेश्वर दत्त को कार्य सौंपा गया. 8 अप्रैल, 1929 के दिन जैसे ही बिल संबंधी घोषणा की गई तभी भगत सिंह ने बम फेंका. भगतसिंह ने नारा लगाया इन्कलाब जिन्दाबाद… साम्राज्यवाद का नाश हो, इसी के साथ अनेक पर्चे भी फेंके, जिनमें अंग्रेजी साम्राजयवाद के प्रति आम जनता का रोष प्रकट किया गया था. इसके पश्चात क्रांतिकारियों को गिरफ्तार करने का दौर चला. भगत सिंह और बटुकेश्र्वर दत्त को आजीवन कारावास मिला.

भगत सिंह और उनके साथियों पर ‘लाहौर षडयंत्र’ का मुकदमा भी जेल में रहते ही चला. भागे हुए क्रांतिकारियों में प्रमुख राजगुरु पूना से गिरफ़्तार करके लाए गए. अंत में अदालत ने वही फैसला दिया, जिसकी पहले से ही उम्मीद थी.

अदालत ने भगतसिंह को भारतीय दंड संहिता की धारा 129, 302 तथा विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धारा 4 तथा 6 एफ तथा भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120 के अंतर्गत अपराधी सिद्ध किया तथा 7 अक्टूबर, 1930 को 68 पृष्ठीय निर्णय दिया, जिसमें भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु को मृत्युदंड की सज़ा मिली.

23 मार्च, 1931 की रात
23 मार्च, 1931 की मध्यरात्रि को अंग्रेजी हुकूमत ने भारत के तीन सपूतों भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी पर लटका दिया था. अदालती आदेश के मुताबिक भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 24 मार्च 1931 को फांसी लगाई जानी थी, सुबह करीब 8 बजे. लेकिन 23 मार्च 1931 को ही इन तीनों को देर शाम करीब सात बजे फांसी लगा दी गई और शव रिश्तेदारों को न देकर रातों रात ले जाकर व्यास नदी के किनारे जला दिए गए. अंग्रेजों ने भगतसिंह और अन्य क्रांतिकारियों की बढ़ती लोकप्रियता और 24 मार्च को होने वाले संभावित विद्रोह की वजह से 23 मार्च को ही भगतसिंह और अन्य को फांसी दे दी.

अंग्रेजों ने भगतसिंह को तो खत्म कर दिया पर वह भगत सिंह के विचारों को खत्म नहीं कर पाए जिसने देश की आजादी की नींव रख दी. आज भी देश में भगतसिंह क्रांति की पहचान हैं.
                                                                --- पूनम शर्मा
Photo
Commenting is disabled for this post.

Post has attachment
" Shahidon ki chitaon par lagenge har baras mele,
   Watan pe mitne waalon ka yahi baaki nisha hoga..... "
                                        -- Chandra Shekhar Parashar.

Post has attachment
                      देश, देशभक्ति, भृष्टाचार और हमारा कर्त्तव्य (https://plus.google.com/u/0/communities/108676839761914142467):- आज भृष्टाचार, भृष्ट नेताओं, भृष्ट सरकार और उसकी भृष्ट सरकारी नीतियों के कारण हमारे प्यारे भारतवर्ष की जो दुर्दशा है, वो तो जग-जाहिर है जिसके कारण उन लोगों की आत्मा उन्हें दिन-रात झकझोरती रहती है, जो भारत को जी-जान से प्यार करते हैं परन्तु मौजूदा हालात के कारण देश के लिए कुछ न कर पाने की अपनी बेबसी पर चंद आंसू बहाने के अलावा कुछ नहीं कर पा रहे हैंI लेकिन अपनी इस बेबसी के बावजूद अपने देश के प्रति अपने मन में छिपी अपनी भावनाओं और अपने विचारों को हम सभी एक दूसरे के सामने प्रकट तो कर ही सकते हैंI इसका एक तो फायदा तो यह होगा कि हमारी अपनी आत्मा पर कुछ न कर पाने की बेबसी का बोझ कुछ कम तो जरूर होगा और यह भी संभव है कि हमारे विचार पढ़ कर दुसरे हमवतनों में से किसी की सोयी हुई आत्मा जाग जाए और यह भी संभव है कि अपने-अपने विचारों के इस आदान-प्रदान से ही हम सभी को इस विकराल समस्या का कोई हल भी सूझ जाएI इस कम्युनिटी को बनाने का मेरा एकमात्र उद्देश्य यही है कि अपने हमवतनों के देश के प्रति उनके अपने विचारों को जानने कि कोशिश करना और उनके अंदर उनकी सोयी हुई आत्मा और देशभक्ति को जगाने की कोशिश करना हैI अगर मेरे इस छोटे से प्रयास से मैं अपने एक भी देशवासी की सोयी हुई आत्मा को झकझोर कर उठाने में सफल होता हूँ तो मैं अपने प्रयास और इस जीवन को कुछ सफल समझूंगाI हम सभी ने इस देश भारत में जन्म लिया हैI जैसे उस घर-परिवार और ख़ानदान के प्रति हमारे कुछ कर्त्तव्य होते हैं, जिसमें हम जन्म लेते हैं और उन कर्तव्यों को पूरा करने की हम सभी जीवन भर कोशिश करते रहते हैं तो क्या इस देश जिसमें हमने जन्म लिया है, जिसकी मिटटी, आबो-हवा में हम खेल-कूद कर बड़े हुए हैं तो क्या उस देश के प्रति हमारा कोई कर्त्तव्य नहीं है? जैसे अगर कोई व्यक्ति अपने घर-परिवार और ख़ानदान के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा नहीं करता, तो उसे उस घर-परिवार या ख़ानदान के लिए कलंक या अभिशाप तक समझा जाता है और हर तरफ की रिश्तेदारियों में उसकी भर्त्सना की जाती है तो क्या इस देश के प्रति अपने कर्तव्यों का पालन न करने वालों की भर्त्सना नहीं की जानी चाहिए? क्या हम सभी अपने दिल पर हाथ रखकर यह कह सकते हैं कि हमने देश के प्रति अपने कर्तव्यों का लेश-मात्र भी पालन किया है और अगर हमने ऐसा नहीं किया है, तो क्या हम भी धिक्कार के योग्य नहीं? मेरी आप सभी से प्रार्थना है कि मेरी इस कम्युनिटी को ज्वाइन करके देश और भृष्टाचार के प्रति अपने-अपने विचारों को प्रकट करें लेकिन इसके साथ ही मेरा यह अनुरोध भी है कि मेरी इस कम्युनिटी को सिर्फ वही ज्वाइन करे, जिसकी आत्मा भले ही सोयी हुई हो, पर अभी मरी न हो अर्थात मौका मिलने पर देश के लिए कुछ भी कर गुजरने की आग जिसके अंदर अभी बाकी होI जय हिन्द, जय भारत 
---चन्द्र शेखर पराशर
Wait while more posts are being loaded