Post has attachment
Photo

Post has attachment
स्वार्थ का सुख और है,
सेवा का सागर और है
आदमी के नाम का इक क़र्ज़ हम पर
और है
अपने आँगन में दिया रखने से पहले
ध्यान दो
बीच की दीवार के उस पार इक घर
और है
कटने ही वाला है पर्वत राह का,
थककर न बैठ
एक पत्थर और है, बस एक पत्थर
और है
हौसले के साथ जीवन जी, मगर
दोहरा न जी
घर के अंदर और है तू, घर के बाहर
और है
कोई भी सागर हो, है तैराक
की बाहों से कम
क्या हुआ गर रास्ते में इक समंदर
और ह
Photo

पप्पु , डॉक्टर से :-- क्या आप बिना दर्द किये भी दाँत निकाल लेते हो ? 😒
,
डॉक्टर :-- नही तो ! 😷
,
पप्पु :-- मै निकाल लेता हूँ ! 😁
,
डॉक्टर :-- कैसे ? 😳
,
,
पप्पु :-- ही ही ही ही ही ही हा हा हा !

कही से चुरा के बहुत प्यारी पोस्ट लाया हूँ दोस्तो
एक बार ज़रूर पढ़ना मेरे प्यारे दोस्तो .....ll
....ll ..
एक लडका और लडकी दोनो
आपस मे बहुत प्यार
करते थे
पर कुछ प्रोब्लम कि वजह से
लडकी की शादी कहीँ और हो
जाती है.
....
तो लडका क्या कहता है....
...
आज 'दुल्हन' के लाल जोडे मे,
उसे उसकी 'सहेलियाँ' ने सजाया
होगा,
•••
मेरी 'जान' के गोरे हाथो पर,
सखियाँ ने 'मेंहन्दी' को लगाया
होगा,
•••
बहुत गहरा चडे़गा 'मेंहन्दी' का
रंग,
उस 'मेंहन्दी' मे उसने मेरा 'नाम'
छुपाया होगा,
•••
'रह-रह' कर रो पडेगी,
जब-जब उसको मेरा 'ख्याल'
आया होगा,
•••
खुद को देखेगी जब 'आईने' मे,
तो 'अक्स' उसको मेरा भी 'नजर'
आया होगा,
•••
लग रही होगी 'बाला' सी
सुन्दर
वो,
आज देखकर उसको 'चाँद' भी
शरमाया होगा ,
•••
आज मेरी 'जान' ने अपने 'माँ-
बाप'
की इज्जत
को बचाया होगा,
उसने 'बेटी' होने का हर फर्ज
निभाया होगा,
•••
'मजबूर' होगी वो सबसे ज्यादा,
सोचता हुँ किस तरह 'खुद' को
समझाया होगा,
•••
अपने 'हाथो' से उसने,
हमारे 'प्रेम' के खतो को जलाया
होगाँ,
•••
खुद को 'मजबूत' बना कर उसने,
दिल से मेरी 'यादो' को
मिठाया होगा,
•••
'भुखी' होगी वो जानता हुँ मैं,
कुछ ना उस 'पगली' ने,
मेरे 'बगैर' खाया होगा,
•••
कैसे सम्भाला होगा 'खुद' को,
जब उसको 'फेरो' के लिये बुलाया
होगा,
•••
काँपता होगा 'जिस्म' उसका,
हौले से 'पँडित' ने हाथ उसका
किसी और
को पकडाया होगा,
•••
मै तो मजबूर हुँ 'पता' है उसको,
आज खुद को भी 'बेबस-सा' उसने
पाया होगा,
•••
रो-रो के बुरा 'हाल' हो
जायेगा उसका,
जब वक्त उसकी 'विदाई' का
आया होगा,
•••
बडे प्यार से मेरी 'जान' को माँ-
बाप ने डोली में
बैठाया होगा
•••
रो पडेगी 'आत्मा' भी, 'दिल
भी',
चीखा और
चिल्लायाँ होगा
•••
आज अपने 'माँ-बाप' के लिये उसने
गला अपनी 'खुशियों
का दबाया होगा...ll

एक बै एक जनैत जीमण लाग री थी। सबकी
पातल (प्लेट) में लाडडू धरे थे। एक ताऊ रह
गया।
कई बार हो गी।
ताऊ ने लाडु ना मिला।
हार के ने ताऊ छात की ओर मुँह करके बोल्या
- राम करे के छात पड़ ज्या। अर सारे दब के मर
ज्या।
एक जना बोल्या -हां ताऊ,जे या छात
पड़ेगी तो तू क्यूकर बचेगा?
ताऊ बोल्या - इब बी तो बच रया सु।
राम राम जी. आपके बीच रहना चाहते हैं बस.

"रूबरू" होने की तो छोड़िये "गुफ्तगू" से भी कतराते लगे हैं|
"गुरूर" ओढ़े हैं "रिश्ते"अपनी हैसियत पर इतराने लगे हैं||

मोहब्बत अगर अधूरी रह जाए तो खुद पर नाज़ करना;
कहते हे सच्ची मोहब्बत कभी पूरी नहीं होती...!!

Post has attachment

Post has attachment
Nitesh CHOUHAN
Photo

आए हैं समझाने लोग
हैं कितने दीवाने लोग

दैर-ओ-हरम1 में चैन जो मिलता
क्यूं जाते मैखाने2 लोग

1. मंदिर मस्जिद, 2. शराबखाना

जान के सब कुछ कुछ भी ना जाने
हैं कितने अनजाने लोग

वक़्त पे काम नहीं आते हैं
ये जाने पहचाने लोग

अब जब मुझको होश नहीं है
आए हैं समझाने लोग

Wait while more posts are being loaded