Post is pinned.Post has attachment
क्या नहीं बन सकता इंसान ऐसा 
ईश्वर जिसके दिल में बसता हो 
देखकर दूसरों का दर्द 
आंसू जिसकी आँख से छलकता हो।
Photo

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
अखिलेश यादव जिंदाबाद समाजवादी पार्टी जिंदाबाद

Like comment

और भैया जी आगे शेयर भी करिएगा ताकि हमारे और भी समाजवादी फैंस के पास से गाना आसानी से पहुंचे

आपको दिल से धन्यवाद भैया जी

https://youtu.be/DGnA8QTrqpU

Post has shared content
समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव
#AkhileshYadav #SamajwadiParty #MulayamSinghYadav #Bhopal #MPElections #MadhyaPradesh

Post has attachment

Post has attachment

दलित,पिछड़ा,अल्पसंख्यक तीनों समाज के दुश्मन कौन?गुलामी मे जीने पर मजबूर कौन किया।क्यावजह है देश के आजाद हुए70साल बीतने के बाद। इन समाज केअधिकार नहीं मिला?
. वजह---दो
मैंने मंथन किया,मंथन करने से मालूम हुआ कि इस समाज का विकास अभी तक क्यों नहीं।सविधान मे सभी मनुष्य को अधिकार मिला हुआ है फिर भी वे अधिकार से बंचित क्यों? सासंद से लेकर मंत्री एवं कई राज्यों में मुख्यमंत्री भी दलितों पिछडा समाज के बने थे और आज भी मुख्यमंत्री है।उसके बावजूद आधिकार से बंचित क्यों।
राज्य सरकार द्बारा कार्य करने का कुछ दायरा हैं सीमित है वे पूर्ण रूप से सविधान के अनुसार लागू नहीं कर सकते जबतक केंद्र सरकार नहीं चाहेगी।लेकिन अभी तक दलित पिछडा समाज के शीर्ष नेताओं ने केंद्र की सत्ता पर काबिज होने के बारे में कभी नहीं सोचा सिर्फ राज्य सरकार के बारे में इनलोगों का सोच सिमट कर रह जाता हैं।यही वजह है कि दलित पिछडा के नेताओ का जनाधार एक राज्य से दुसरा राज्य में नहीं है।उत्तर प्रदेश में सपा बसपा हैं तो मध्यप्रदेश मे शून्य हैं बिहार में लालू प्रसाद यादव जी थे वर्तमान समय में नीतीश कुमार लेकिन अन्य राज्यों में इनलोगों का जनाधार नगण्य हैं ।जनाधार रहते हुए जनाधार विहीन हो जाते हैं।
कहने के लिए लोग कहते हैं कि जिसकी संख्या 85%हैं उसके बावजूद शासन सत्ता15%के हाथों में क्यों इसका वजह यही है ।सोच सीमित रहेगा तो नजरिया भी सीमित रहेगा।दूरदृष्टि दूर कैसे।
अगर ये लोग एक हो जाते तो राज्य की सत्ता इनलोगों के हाथों में और केंद्र की सत्ता भी।समाज भी प्रयास नहीं किया जाति विशेष का महत्व दिया। मैने मंथन किया और देखा कि आज भी इन शीर्ष नेताओं को एक मंच पर किया जाय तो सबकुछ बदल जाएगा।शक्ति को एकजुट करना होगा ।कोई मुख्यमंत्री उपमुख्यमंत्री, कोई प्रधानमंत्री, उपप्रधानमंत्री, यानी बहुत सा पद हैं जो एक होने पर जो जैसा है वैसा पद दिया जा सकता है और सविधान मे जिसका अधिकार हैं उसे पुर्ण रुप से लागू कर 20वर्ष में सब समानय स्थिति में हो जाऐगा।गुलामी से आजादी की ओर हो जाएगा।
दुसरा वजह है अंधविश्वास से उपर उठना होगा देश के सभी लोग अंधविश्वास मे जकडा हुआ है।देश तभी विकास कर सकता है जब ईमानदारी पुर्वक कार्य होगा, शिक्षा का महत्व होगा धर्म के आड मे मानवताशर्मसार हो रही हैं ये तभी हो सकता है जब दलित पिछड़ा समाज के शीर्ष नेता एक होंगे, यही लोग समाज को दुरदिन किया है आज तक इन समाज का अधिकार नहीं मिलने दिया।
समय अभाव में निष्कर्ष निकाला हुँ तुरूटीके होगी तो कमेंट कर सुझाव दे सकते है।
आपका
शिवप्रसाद सिंह
सत्य शोधक

Post has shared content
दिल्ली के जंतर मंतर पर समाजवादी पार्टी की लोकतंत्र बचाओ यात्रा अखिलेश यादव #AkhileshYadav #SamajwadiParty
Wait while more posts are being loaded