Post has attachment
Photo

Post has attachment
Photo

Post has attachment
Photo

Post has attachment
सच कहा... जिंदगी एक सफर है सुहाना.. यहा कल क्या होगा किसने जाना 😜😉
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
6/3/18
19 Photos - View album

Post has attachment
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
2018-05-01
10 Photos - View album

Post has attachment

Post has attachment
कई शाम गुजर गई., कई राते गुजर गई..!
ना गुजरा तो सिर्फ एक लम्हा., वो तेरे इंतजार का...!
Photo

Post has attachment
2000 से पहले जन्म वाले जरुर पढ़े
बहुत अच्छी फीलिंग आयेगी ☺
.
हम लोग,
जो 1947 से 2000
के बीच जन्में है,
We are blessed because,



👍 हमें कभी भी

👌हमारें माता- पिता को
हमारी पढाई को लेकर
कभी अपने programs
आगे पीछे नही करने पड़ते थे...!

👍 स्कूल के बाद हम
देर सूरज डूबने तक खेलते थे

👍 हम अपने
real दोस्तों के साथ खेलते थे;
net फ्रेंड्स के साथ नही ।

👍 जब भी हम प्यासे होते थे
तो नल से पानी पीना
safe होता था और
हमने कभी mineral water bottle को नही ढूँढा ।

👍 हम कभी भी चार लोग
गन्ने का जूस उसी गिलास से ही
पी करके भी बीमार नही पड़े ।

👍 हम एक प्लेट मिठाई
और चावल रोज़ खाकर भी
बीमार नही हुए ।

👍 नंगे पैर घूमने के बाद भी
हमारे पैरों को कुछ नही होता था ।

👍 हमें healthy रहने
के लिए Supplements नही
लेने पड़ते थे ।

👍 हम कभी कभी अपने खिलोने
खुद बना कर भी खेलते थे ।

👍 हम ज्यादातर अपने parents के साथ या grand- parents के पास ही रहे ।

👌हम अक्सर 4/6 भाई बहन
एक जैसे कपड़े पहनना
शान समझते थे.....
common. वाली नही
एकतावाली feelings ...
enjoy करते थे

👍 हमारे पास
न तो Mobile, DVD's,
PlayStation, Xboxes,
PC, Internet, chatting,
क्योंकि
हमारे पास real दोस्त थे ।

👍 हम दोस्तों के घर
बिना बताये जाकर
मजे करते थे और
उनके साथ खाने के
मजे लेते थे।
कभी उन्हें कॉल करके
appointment नही लेना पड़ा ।

👍 हम एक अदभुत और
सबसे समझदार पीढ़ी है क्योंकि
हम अंतिम पीढ़ी हैं जो की
अपने parents की सुनते हैं...
और
साथ ही पहली पीढ़ी
जो की
अपने बच्चों की सुनते हैं ।

We are not special,
but.
We are
LIMITED EDITION
and we are enjoying the
Generation Gap......

share if u r agree
तेरी बुराइयों को हर अख़बार कहता है,
और तू मेरे गांव को गँवार कहता है //

ऐ शहर मुझे तेरी औक़ात पता है //
तू चुल्लू भर पानी को भी वाटर पार्क कहता है //

थक गया है हर शख़्स काम करते करते //
तू इसे अमीरी का बाज़ार कहता है।

गांव चलो वक्त ही वक्त है सबके पास !!
तेरी सारी फ़ुर्सत तेरा इतवार कहता है //

मौन होकर फोन पर रिश्ते निभाए जा रहे हैं //
तू इस मशीनी दौर को परिवार कहता है //

जिनकी सेवा में खपा देते थे जीवन सारा,
तू उन माँ बाप को अब भार कहता है //

वो मिलने आते थे तो कलेजा साथ लाते थे,
तू दस्तूर निभाने को रिश्तेदार कहता है //

बड़े-बड़े मसले हल करती थी पंचायतें //
तु अंधी भ्रष्ट दलीलों को दरबार कहता है //

बैठ जाते थे अपने पराये सब बैलगाडी में //
पूरा परिवार भी न बैठ पाये उसे तू कार कहता है //

अब बच्चे भी बड़ों का अदब भूल बैठे हैं //
तू इस नये दौर को संस्कार कहता है .//

किसी मित्र ने पोस्ट किया था जिसे पढ़ने के बाद मैं रोक न सका और आप सभी के बिच समर्पित किया !!.
No votes yet
-
votes visible to Public
Poll option image
0%
hi
0%
0%
:-) :-) :-) :-) :-)
0%

Post has attachment
barabanki
Photo

Post has attachment
Photo
Wait while more posts are being loaded