Post has attachment

Post has attachment
#thursdaymotivation
आँखे खोलो !🕺आँखें खोलो! 🕺आँखे खोलो !खोलो! 🕺👇👇👇👇👇
भारत में मौजूद है ।वह ग्रेट शायरन जिसके बारे में बाबा जयगुरुदेव👳,नास्ट्रेडमास,🕵️ तथा फ्लोरेंश ने की थी भविष्यवाणी यकीन नहीं है तो देख लो👇https://youtu.be/NT5nReRLokA #PMO #CMOs

Post has attachment
जैसे आम आम कहने से आम नहीं मिलेगा वैसे ही राम राम कहने से राम नहीं मिलेगा अगर भगवान् को पाना है तो सच्च्चा गुरु बनाइये फिर जो मंत्र गुरु ने दिया वह मंत्र से भगवान् मिलेगा जैसे कुत्ता कुत्ता कहने कुत्ता नहीं सुनता है परंतु दो दो कहने से कुत्ता तुरन्त सुन लेता है ।क्योंकि दो दो कुत्ते का मूल मंत्र है ।ऐसे ही भगवान का एक मूल मंत्र है जो सच्चे गुरु के पास ही होता है ।अधिक जानकारी के लिए देखें👇👇👇👇https://youtu.be/-5Rglj0IaFY

एक व्यक्ति मुझसे हिंदी में कहता है: हिंदी कौन बोल रहा है आजकल?

हिंदी दिवस पर सब कहते हैं हिंदी बोलिए, हिंदी में लिखिए। और अगर न कहते तो भी क्या हिंदी उपेक्षित रह जाती? मेरे विचार से तो बिलकुल भी नहीं। हिंदी जिस प्रकार से आजकल प्रयोग की जाती है वही उसकी स्वीकार्यता और व्यपकता को बढ़ाती है।हिंदी में बेहद ही उत्तम साहित्य का सृजन हुआ है, इसमें किसी को शंका नहीं होगी; जिसने पढ़ा ही नहीं उसकी बात नहीं कर रहा हूँ। जहाँ एक ओर गंभीर कार्य हुआ है वही आम जन ने इसे अपनी सुविधानुसार इसे हल्के-फुल्के रूप में भी अपनाया है। कई लोग जिनकी मातृभाषा हिंदी नहीं है उनके हिंदी प्रयोग पर हँसा जा सकता है पर यही हिंदी की व्यापकता को बढ़ाता है। आंचलिक भाषाओं और अन्य विदेशी भाषाओं से शब्द लेकर हिंदी दिनोदिन समृद्ध होती जा रही है।

हिंदी अभी बेहद जवान है भारत की कई आंचलिक भाषाएँ भी इससे पुरानी हैं। इस जवान भाषा को कई तथाकथित बुड्ढे-खसूट-विद्वान इसे सूरदास और तुलसी के युग में ही घसीटे रखना चाहते हैं; कहते हैं घूँघट निकाल, घूँघट निकाल; बेशर्म और भद्दी हो गयी है तू। पर नयी पीढ़ी इसे आधुनिकता के साथ प्रयोग कर रही है। भाषा पर तत्कालीन समाज और बाज़ार का प्रभाव रहता है। लोग अब हिंदी सीख रहे हैं रोजगार और व्यापर के लिए।

हिंदी अपने आप में बेहद 'कूल' है। कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से गुजरात तक अलग-अलग तरह से बोली जाती है और सर्वमान्य है। मुम्बई में टपोरी से लेकर शुद्ध सांस्कृतिक और बेहद जटिल रूप में यह भारत के राजपत्रों में प्रयोग हो रही है। यह सर्वस्वीकार्य है। मैंने ट्विटर पर हिंदी अनुवाद किया था। तकनिकी के साथ -साथ लोकप्रिय शब्दों के अनुवाद में बहुत कठिनाई का सामना करना पड़ता है। हिंदी में भी लोकप्रिय और तकनिकी शब्दों को जस का तस या थोड़े परिवर्तन के साथ स्वीकारना हिंदी की इन्टरनेट पर स्वीकार्यता बढ़ाएगा। 'ट्विटर' को 'चहचह' और 'फेसबुक' को 'मुखपुस्तक' कहने की आवश्यकता नहीं है। जैसे रेल अब हिंदी शब्द है वैसे ही तकनिकी शब्दों को अपना लेने से हिंदी का दायरा बढेगा ही। जिन भावनाओं के लिए पहले से ही शब्द हैं उन्हें प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

परिवर्तन ही संसार को चला रहा है। हिंदी में भी यह बात लागू होती है। यह परिवर्तन नयी नवेली हिंदी को भा रहा है और नयी पीढ़ी अपने नए अंदाज़ में हिंदी को लिख-पढ़-बोल रही है।


#श्वेतवामन
Wait while more posts are being loaded