Post has attachment
मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका,
चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना….
Photo

Post has attachment
मर कर भी मुझे दुध पिला कर तू जा रही हैं "माँ "
तेरी गोद और आँचल के बिना ठण्ड बहुत लगेगी ....
कपड़े भी दे जाती "माँ "
एक माँ ने गुजर जाने पर भी ,बच्चे की भुख मिटाई हैं .....
उसकी ये दहकती तस्वीर ,ममता की परिभाषा होगी ....,
|| राजेश सिंह ||
Photo

Post has attachment
Photo

Post has attachment
Photo
Wait while more posts are being loaded