Post has shared content
'भगवान श्री कृष्ण जिवन परिचय'

🚩भगवान् श्री कृष्ण को अलग अलग स्थानों में अलग अलग नामो से जाना जाता है।
🚩उत्तर प्रदेश में कृष्ण या गोपाल गोविन्द इत्यादि नामो से जानते है।
🚩राजस्थान में श्रीनाथजी या ठाकुरजी के नाम से जानते है।
🚩महाराष्ट्र में बिट्ठल के नाम से भगवान् जाने जाते है।
🚩उड़ीसा में जगन्नाथ के नाम से जाने जाते है।
🚩बंगाल में गोपालजी के नाम से जाने जाते है।
🚩दक्षिण भारत में वेंकटेश या गोविंदा के नाम से जाने जाते है।
🚩गुजरात में द्वारिकाधीश के नाम से जाने जाते है।
🚩असम ,त्रिपुरा,नेपाल इत्यादि पूर्वोत्तर क्षेत्रो में कृष्ण नाम से ही पूजा होती है।
🚩मलेसिया, इंडोनेशिया, अमेरिका, इंग्लैंड, फ़्रांस इत्यादि देशो में कृष्ण नाम ही विख्यात है।
🚩गोविन्द या गोपाल में "गो" शब्द का अर्थ गाय एवं इन्द्रियों , दोनों से है। गो एक संस्कृत शब्द है और ऋग्वेद में गो का अर्थ होता है मनुष्य की इंद्रिया...जो इन्द्रियों का विजेता हो जिसके वश में इंद्रिया हो वही गोविंद है गोपाल है।
🚩श्री कृष्ण के पिता का नाम वसुदेव था इसलिए इन्हें आजीवन "वासुदेव" के नाम से जाना गया। श्री कृष्ण के दादा का नाम शूरसेन था..
श्री कृष्ण का जन्म उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद के राजा कंस की जेल में हुआ था।
🚩श्री कृष्ण के भाई बलराम थे लेकिन उद्धव और अंगिरस उनके चचेरे भाई थे, अंगिरस ने बाद में तपस्या की थी और जैन धर्म के तीर्थंकर नेमिनाथ के नाम से विख्यात हुए थे।
🚩श्री कृष्ण के धनुष का नाम सारंग था। शंख का नाम पाञ्चजन्य था। चक्र का नाम सुदर्शन था। उनकी प्रेमिका का नाम राधारानी था जो बरसाना के सरपंच वृषभानु की बेटी थी। श्री कृष्ण राधारानी से निष्काम और निश्वार्थ प्रेम करते थे। राधारानी श्री कृष्ण से उम्र में बहुत बड़ी थी। लगभग 6 साल से भी ज्यादा का अंतर था। श्री कृष्ण ने 14 वर्ष की उम्र में वृंदावन छोड़ दिया था।। और उसके बाद वो राधा से कभी नहीं मिले।
🚩श्री कृष्ण विद्या अर्जित करने हेतु मथुरा से उज्जैन मध्य प्रदेश आये थे। और यहाँ उन्होंने उच्च कोटि के ब्राह्मण महर्षि सान्दीपनि से अलौकिक विद्याओ का ज्ञान अर्जित किया था।।
🚩श्री कृष्ण की कुल आयु 125 वर्ष थी। उनके शरीर का रंग गहरा काला था और उनके शरीर से 24 घंटे पवित्र अष्टगंध महकता था। उनके वस्त्र रेशम के पीले रंग के होते थे और मस्तक पर मोरमुकुट शोभा देता था। उनके सारथि का नाम दारुक था और उनके रथ में चार घोड़े जुते होते थे। उनकी दोनो आँखों में प्रचंड सम्मोहन था।
🚩श्री कृष्ण के कुलगुरु महर्षि शांडिल्य थे।
🚩श्री कृष्ण का नामकरण 
महर्षि गर्ग ने किया था।
🚩श्री कृष्ण को ज़रा नाम के शिकारी ने बाण मारा था।।
🚩श्री कृष्ण ने हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अर्जुन को पवित्र गीता का ज्ञान रविवार शुक्ल पक्ष एकादशी के दिन मात्र 45 मिनट में दे दिया था
🚩सर्वान् धर्मान परित्यजम मामेकं शरणम् व्रज
अहम् त्वम् सर्व पापेभ्यो मोक्षस्यामी मा शुच--
भगवद् गीता अध्याय 18,
श्री कृष्ण
सभी धर्मो का परित्याग करके एकमात्र मेरी शरण ग्रहण करो, मैं सभी पापो से तुम्हारा उद्धार कर दूंगा,डरो मत
Photo

Post has attachment
Photo

Post has shared content

Post has shared content
Kaise Jiyu Mein राधा रानी

Post has shared content

Post has shared content
Listen to Very Melodious Shree Krishna Bhajans & Songs 2016 'Hari Vandana' by Aarti Thakur - Kundalkar, Anand Bhate. Handpicked Hindi devotional songs specially for you.

May Shree Krishna bless you with all the happiness.

Post has attachment
Photo

Impressum
Download Free Mp3 Bhajans.
http://www.gurudevevents.com/free-bhajans-mp3/
Watch Online Bhajans and Katha.
http://www.gurudevevents.com/videos/
All Spiritual Events List.
http://www.gurudevevents.com/events/
Create Your Free Account.
http://www.gurudevevents.com/register/
Subscribe Our Newsletter.
http://www.gurudevevents.com/newsletter/

OUR GURUDEV
AVDHESHANAND GIRI MAHARAJ
AVDOOT BABA SHIVANAND
ACHARYA BAL KRISHNA JI
Bhupendrabhai Pandya Ji
Chinmayanand Bapuji
DEVKINANDAN THAKUR JI
DEVI CHITRALEKHA JI
Didi Maa Sadhvi Ritambharaji
SWAMI RAMDEV JI
MORARI BAPU JI
SRI PUNDRIK GOSWAMI JI
KIRIT BHAIJI - Rushivarji
GOPAL MANI JI MAHARAJ
SANJEEV THAKUR JI
RAVI SHANKAR JI
DHARMDEV JI MAHARAJ
SHIVANI VERMA
GOPESH MAHARAJ JI
JAYAKISHORI JI
Gaurav Krishnaji Maharaj
DAATI JI MAHARAJ
RadhaKrishna ji Maharaj
KRIPALU JI MAHARAJ
ANANMURTI GURUMAA
Krishna Chandra Shastriji
JAYA ROW JI
PULAK SAGAR JI
OSHO DHARA
Deepakbhai Desai
Nandu Bhai Ji
Rambhadrachary Swami Ji
RAMESH BHAI OZA
Swami Sivanandaji Maharaj
Swami Chidananda
Sudarshanacharya Ji Maharaj
Pramukh Swami Maharaj
Satpal Ji Maharaj
Vinod Agarwal
Rakesh Bhai Ji
Rajendradas Maharaj Ji
Satyamitranand ji
RAJIV DIXIT
Niruma
Gurmeet Ram Rahim Singh Ji Insan
Dr. Narayan Dutt Shrimali
Vigyandeo Ji
Sadguru Sadafaldeo
Swamini Pramananda
Swaroopanand Sarasvati Ji
YADUNATHJI MAHODAYSHRI
KRISHNAPRIYA JI MAHARA
Wait while more posts are being loaded