Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has shared content
उसे अगर वोट ही लेना होता तो वो,
कभी नोटबंदी नहीं करता कभी भी GST नहीं लाता,
उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी सब्सिडियाँ ख़त्म नहीं करता, लेकिन
उसने दिल और घुटने के ऑपरेशन के दाम, ढाई लाख से 50 हज़ार करके डॉक्टरों को नाराज़ किया...

उसने 800 दवाओं के दाम कम करके मेडिकल वालो को नाराज किया...

उसने 1% टैक्स लगा कर स्वर्णकारों को नाराज़ किया....

उसने होटल वालों के सर्विस चार्ज पर हथौड़ा चला के, ग्राहकों के हित के लिए होटलवालों से पंगा लिया...

उसने 500 और 1000 के नोट बन्द कर के अपने ही परम्परागत वोट बैंक को नाराज़ किया....

कैश लेस को बढ़ावा दे कर वो टैक्स चोरों के रास्तों का रोड़ा बन गया है....

रेरा जैसा क़ानून कर के बिल्डरों को नाराज़ किया...

बेनामी संपत्ति का क़ानून पारित कर के ज़मीन के काला बाजारियों को बेनक़ाब कर रहा है...

स्पेक्ट्रम, कोयला, आदि का भ्रष्टाचार दूर कर, देश को लाखों करोड़ों का फ़ायदा देने के लिए बड़े उद्योगपतियों से पंगा लिया....

गैस सब्सिडी, मनरेगा, आदि का पैसा सीधे बैंक खाते में जमा करने के कारण सभी बिचौलियों की दुकानें बंद कर दी....

युरिया को नीम कोटिंग करने से केमिकल फ़ैक्टरियों का गोरख धंदा चौपट कर दिया...

2 लाख 24 हज़ार चोर कंपनियों का पंजीकरण रद्द और 1 लाख नकली कंपनियों की पहचान की !!!

लगभग हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार कम करने के नये नये तरीक़ों का आग़ाज़ कर रहा है....

सभी सरकारी कामों में टेक्नॉलजी के कारण गति लाने के प्रयास के कारण दलालों का 'स्पीड-मनी' बंद कर रहा है...

और न जाने कितनों को वो रोज़ नाराज़ कर रहा है....

हो सकता है आप भी उस के किसी क़दम से नाराज़ चल रहे हो, आप का भी कुछ नुक़सान हुआ हो....

वो असल में पागल बन गया है क्या? वो चाहता तो आराम से किसी का दिल दुखाए बिना राज कर सकता है...

वह हर रोज़ नये नये क़दम उठा कर देश के हर क्षेत्र की बुराइयाँ दूर करने की रात दिन मेहनत कर रहा है...

क्योंकि...

उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है । उसे सिर्फ अपने देश और सवा सौ करोड देशवासियों से प्रेम है...वो अपने देश को दुनियाँ में सबसे समृद्ध बनाना चाहता है...हर बुराई को ख़त्म करना चाहता है...वो भी इसी जनरेशन में...

अब भले ही आप उसे वोट न दें....
हो सकता है उस की कुर्सी 2019 में चली जाएँ लेकिन उसे उस की चिंता नहीं है....

आज जो उसका या उस के समर्थकों का मज़ाक उड़ा रहा है वो वास्तव में खुद का और खुद की भावी पीढी का मज़ाक उड़ा रहा है...।

देश बेचकर अपना जेब भरनेवाले चंद दोगले नेताओं, टीवी चैनलों और ब्युरोक्रेट्स की बातों में आकर उसका साथ छोडा तो खुद को मज़ाक बनने से तुम्हें कोई नहीं रोक सकता।

सरकार की कुछ कमियों को, कुछ अब तक न हुए कामों को बढ़ा चढ़ा कर बोल कर ये लोग आप को गुमराह कर रहे है...

इस स्थिति में सभी खूनी भेडिये उसके खिलाफ लामबंद हो रहे हैं...

लेकिन देश के लिए उसे हमारे साथ की जरुरत है...
इस से भी ज्यादा हमें उस की ज़रूरत है। आप ने उसे हटा दिया तो उस का कुछ नहीं बिगड़नेवाला...वो तो हिमालय चला जाएगा...

लेकिन हमारी अगली नस्लें हमें सैकड़ों सालों तक कोसेगी....

जागो भाइयों,
हमें अपने प्रधानमंत्री का साथ हर हाल में देना ही होगा..हमें उसकी आवाज बननी है...अपने और अपने बच्चों के भविष्य के लिए....

बाकि आपको जो अच्छा लगे कीजिए लेकिन एक बार यह ज़रूर सोचिए कि आखिर वह यह सब काम किसके लिए कर रहा है...हमारे लिए या अपने लिए???

Plz HAVE FAITH in MODI,उसे अपना घर भरना होता तो वह 13 साल गुजरात का CM रह कर भर लेता।
उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है सिर्फ अपने दे श से प्रेम है...

आप मोदी से उनकी कुर्सी छीन सकते हैं लेकिन वो संकल्प वो महान संकल्प नहीं छीन सकते जो उन्होंने भारत को महान बनाने के लिए लिया हुवा है ..
मुझे गर्व है अपने प्रधान सेवक पर.

👆🏻👆🏻
Please forward to all.
We have to unite

Post has attachment

एक जनहित याचिका प्राप्त हुई है, इसे आपके आकलन के लिए आगे प्रषित किया जा रहा है .. 🔴
🇮🇳
प्रिय / सम्मानित भारत के नागरिकों...,

आपसे इस संदेश को पढ़ने का अनुरोध किया जाता है और अगर सहमत हैं, तो कृपया अपनी संपर्क सूची में कम से कम बीस लोगों को अग्रेषित करें; और बदले में उनमें से प्रत्येक को भी ऐसा करने के लिए कहें।

तीन दिनों में, भारत के अधिकांश लोगों के पास यह संदेश होगा।

भारत में हर नागरिक को आवाज उठानी चाहिए, 2018 का सुधार अधिनियम

* 01. * सांसदों को पेंशन नहीं मिलनी चाहिए क्योंकि यह रोजगार नहीं है लेकिन पीपुल्स रिप्रेजेंटेशन एक्ट के तहत चुनाव है, इसकी पुनर्निर्माण पर कोई सेवानिवृत्ति नहीं है, लेकिन उन्हें फिर से उसी स्थिति में फिर से चुना जा सकता है। (वर्तमान में, उन्हें पेंशन मिलती है, सेवा के 5 साल होने पर)

* 02 * केंद्रीय वेतन आयोग के साथ संसद सदस्यों का भत्ता संशोधित किया जाना चाहिए। (वर्तमान में, वे स्वयं के लिए मतदान करके मनमाने ढंग से अपने वेतन व भत्तों में वृद्धि करते रहे हैं।

* 03. * सांसदों को अपनी वर्तमान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली त्यागनी चाहिए और भारतीय जन- स्वास्थ्य के समान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में भाग लेना चाहिए।

* 4. * मुफ्त छूट, राशन, बिजली, पानी, फोन बिल जैसी सभी रियायत समाप्त होनी चाहिए। (वे न केवल एसी बहुत सी रियायतें प्राप्त करते हैं बल्कि वे नियमित रूप से इसे बढ़ाते भी रहे हैं - बोल्डली और बेमिसाल।

* 05. * संदिग्ध व्यक्तियों के साथ दंडित रिकॉर्ड, आपराधिक आरोप और दृढ़ संकल्प, अतीत या वर्तमान को संसद से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। कार्यालय में राजनेताओं के कारण होने वाली वित्तीय हानि, उनके परिवारों, बोनोमीज, नामांकित व्यक्तियों, संपत्तियों से वसुल की जानी चाहिए।

* 06. * सांसदों को भी सामान्य भारतीय लोगों पर लागू सभी कानूनों का समान रूप से पालन करना चाहिए।

* 07. * नागरिकों द्वारा एलपीजी जैसी सब्सिडी का कोई समर्पण नहीं जब तक सांसदों और विधायकों को उपलब्ध सब्सिडी, संसद कैंटीन में सब्सिडी वाले भोजन, सहित अन्य रियायतें वापस नहीं ले ली जाती।

* 08. * राजनेताओं के लिए भी सेवानिवृत्ति की आयु 60 होनी चाहिए।
संसद में सेवा करना एक सम्मान है, लूटपाट के लिए एक आकर्षक करियर नहीं
🔴
यदि प्रत्येक व्यक्ति कम से कम बीस लोगों से संपर्क करता है तो भारत में अधिकांश लोगों को यह संदेश प्राप्त करने में केवल तीन दिन लगेंगे।

क्या आपको नहीं लगता कि यह मुद्दा उठाने का सही समय है ? यदि आप उपर्युक्त से सहमत हैं, तो इसे forward करें।
यदि नहीं, तो बस हटाएं।
🔴
आप मेरे 20+ में से एक हैं कृपया इसे जारी रखें, और धन्यवाद।
Jai Hind - Jai Bharat...
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

🌺वस्तुएँ देव पूजा के योग्य नहीं रहती हैं🌺

🕉१. घर में पूजा करने वाला एक ही मूर्ति की पूजा नहीं करें। अनेक देवी-देवताओं की पूजा करें। घर में दो शिवलिंग की पूजा ना करें तथा पूजा स्थान पर तीन गणेश नहीं रखें।

🕉२. शालिग्राम की मूर्ति जितनी छोटी हो वह ज्यादा फलदायक है।

🕉३. कुशा पवित्री के अभाव में स्वर्ण की अंगूठी धारण करके भी देव कार्य सम्पन्न किया जा सकता है।

🕉४. मंगल कार्यो में कुमकुम का तिलक प्रशस्त माना जाता हैं। पूजा में टूटे हुए अक्षत के टूकड़े नहीं चढ़ाना चाहिए।

🕉५. पानी, दूध, दही, घी आदि में अंगुली नही डालना चाहिए। इन्हें लोटा, चम्मच आदि से लेना चाहिए क्योंकि नख स्पर्श से वस्तु अपवित्र हो जाती है अतः यह वस्तुएँ देव पूजा के योग्य नहीं रहती हैं।

🕉६. तांबे के बरतन में दूध, दही या पंचामृत आदि नहीं डालना चाहिए क्योंकि वह मदिरा समान हो जाते हैं।

🕉७. आचमन तीन बार करने का विधान हैं। इससे त्रिदेव ब्रह्मा-विष्णु-महेश प्रसन्न होते हैं। दाहिने कान का स्पर्श करने पर भी आचमन के तुल्य माना जाता है।

🕉८. कुशा के अग्रभाग से दवताओं पर जल नहीं छिड़के।

🕉९. देवताओं को अंगूठे से नहीं मले। चकले पर से चंदन कभी नहीं लगावें। उसे छोटी कटोरी या बांयी हथेली पर रखकर लगावें।

🕉९. पुष्पों को बाल्टी, लोटा, जल में डालकर फिर निकालकर नहीं चढ़ाना चाहिए।

🕉१०. भगवान के चरणों की चार बार, नाभि की दो बार, मुख की एक बार या तीन बार आरती उतारकर समस्त अंगों की सात बार आरती उतारें।

🕉११. भगवान की आरती समयानुसार जो घंटा, नगारा, झांझर, थाली, घड़ावल, शंख इत्यादि बजते हैं उनकी ध्वनि से आसपास के वायुमण्डल के कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। नाद ब्रह्मा होता हैं। नाद के समय एक स्वर से जो प्रतिध्वनि होती हैं उसमे असीम शक्ति होती हैं।

🕉१२. लोहे के पात्र से भगवान को नैवेद्य अपर्ण नहीं करें।

🕉१३. हवन में अग्नि प्रज्वलित होने पर ही आहुति दें। समिधा अंगुठे से अधिक मोटी नहीं होनी चाहिए तथा दस अंगुल लम्बी होनी चाहिए। छाल रहित या कीड़े लगी हुई समिधा यज्ञ-कार्य में वर्जित हैं। पंखे आदि से कभी हवन की अग्नि प्रज्वलित नहीं करें।

🕉१४. मेरूहीन माला या मेरू का लंघन करके माला नहीं जपनी चाहिए। माला, रूद्राक्ष, तुलसी एवं चंदन की उत्तम मानी गई हैं। माला को अनामिका (तीसरी अंगुली) पर रखकर मध्यमा (दूसरी अंगुली) से चलाना चाहिए।

🕉१५. जप करते समय सिर पर हाथ या वस्त्र नहीं रखें। तिलक कराते समय सिर पर हाथ या वस्त्र रखना चाहिए। माला का पूजन करके ही जप करना चाहिए। ब्राह्मण को या द्विजाती को स्नान करके तिलक अवश्य लगाना चाहिए।

🕉१६. जप करते हुए जल में स्थित व्यक्ति, दौड़ते हुए, शमशान से लौटते हुए व्यक्ति को नमस्कार करना वर्जित हैं। बिना नमस्कार किए आशीर्वाद देना वर्जित हैं।

🕉१७. एक हाथ से प्रणाम नही करना चाहिए। सोए हुए व्यक्ति का चरण स्पर्श नहीं करना चाहिए। बड़ों को प्रणाम करते समय उनके दाहिने पैर पर दाहिने हाथ से और उनके बांये पैर को बांये हाथ से छूकर प्रणाम करें।

🕉१८. जप करते समय जीभ या होंठ को नहीं हिलाना चाहिए। इसे उपांशु जप कहते हैं। इसका फल सौगुणा फलदायक होता हैं।

🕉१९. जप करते समय दाहिने हाथ को कपड़े या गौमुखी से ढककर रखना चाहिए। जप के बाद आसन के नीचे की भूमि को स्पर्श कर नेत्रों से लगाना चाहिए।

🕉२०. संक्रान्ति, द्वादशी, अमावस्या, पूर्णिमा, रविवार और सन्ध्या के समय तुलसी तोड़ना निषिद्ध हैं।

🕉21 दीपक से दीपक को नही जलाना चाहिए।

🕉22 यज्ञ, श्राद्ध आदि में काले तिल का प्रयोग करना चाहिए, सफेद तिल का नही ।
🌺🌹🌼🕉✡🌻🌺🌹


Post has attachment
अगर कोई चमचा, पिद्दी या गुलाम आपसे पूछे कि मोदी के आने के बाद देश मे क्या बदला है तो ये पोस्ट कॉपी मारना और चिपका देना -
मोदी सरकार के 30 ऐसे काम जिनको जानने के बाद आपको भक्त होने पर गर्व होगा।
◆ आज़ादी के 70 साल बाद देश के दूर दराज 18000 गांवों में पहली बार बिजली पहुँची।
◆ आज़ादी के 70 साल बाद देश के 34 करोड़ लोगों ने पहली बार बैंक में खाता खुलवाया। 2014 में देश के 34 प्रतिशत लोगों के पास बैंक खाता था आज 82 प्रतिशत के पास है।
◆ आज़ादी के 70 साल बाद पहली बार 17 करोड़ लोगों का बीमा किया गया। 2014 में देश मे 9 प्रतिशत लोगों के पास बीमा था आज 26 प्रतिशत लोगों के पास है।
◆ 2014 में देश के 18 प्रतिशत विद्यालयों में टॉयलेट थे आज 100 प्रतिशत विद्यालयों में हैं।
◆ आज़ादी के बाद पहली बार 3.5 करोड़ ग्रामीण महिलाओं को एलपीजी का कनेक्शन मिला और उन्हें धुएं से छुटकारा मिला। 2014 से पहले मात्र 96000 समृद्ध ग्रामीण परिवारों के पास गैस कनेक्शन था।
◆ 2014 तक हर दिन 1 किलोमीटर नई सड़क बनती थी आज 8 किलोमीटर प्रतिदिन बनती है।
◆ 2014 में सेना के पास दो दिन युद्ध लड़ने का आयुध था आज 16 दिन लड़ने का आयुध उपलब्ध है।
◆ 2004 से 2014 तक 10 सालों में 3 लाख 90 हज़ार गरीब परिवारों को घर मील थे और 2014 से 2018 तक 4 सालों में 76 लाख गरीब परिवारों को अपने घर मिले हैं।
◆ 2014 तक 9 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों के पास शौचालय था और आज 56 प्रतिशत के पास है।
◆ डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर की वजह से भ्रस्टाचार के मामले में 70 प्रतिशत तक कमी आयी है और लाखों की संख्या में फ़र्ज़ी बेनिफिशियरी को बेनिफिट बन्द की गई है।
◆ डिमोनटाईजेशन और जीएसटी की वजह से टैक्स पेयर की संख्या में 30 प्रतिशत की बृद्धि हुई है।
◆ अंतरराष्ट्रीय ट्रेड नियमों में बदलाव की वजह से देश के बाहर काला धन भेजने का ट्रेंड लगभग शून्य हो गया है।
◆ योगा जो भारत की लाखों सालों से सांस्कृतिक पूंजी थी आज पूरे विश्व मे जाना जाने लगा है ।
◆ रिकार्ड 4 सालों में भारत ने स्वदेश निर्मित पनडुब्बी कलवरी को समुद्र में उतारकर नया कीर्तिमान बनाया है।
◆ आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों लगभग 50 करोड़ गरीब लोगों को मुफ्त स्वास्थ्य बीमा देने का कार्य प्रगति पर है।
◆ देश के 3.5 करोड़ युवाओं को स्टार्टअप योजना के तहत कम इंटरेस्ट पर लोन देकर रोजगार के अवसर पैदा किये गए हैं।
◆ प्रधानमंत्री कौशल विकाश योजना के तहत 6 करोड़ युवाओं को प्रशिक्षण देकर उनके लिए रोजगार के अवसर खोले गए हैं।
◆ जोजिला दर्रे पर 15 किलोमीटर टनल रोड बनाकर लेह लद्दाख को 12 महीने देश से जोड़े रखने का काम शुरू हो गया है ।अभी तक लद्दाख साल के 7 महीने देश से कटा रहता था।
◆ मेक इन इंडिया के तहत 20 बड़ी कंपनियों ने देश मे अपने मैनुफैक्चरिंग यूनिट या तो शुरू कर दी है या प्रोसेस में है।
◆ 2014 में मोबाइल डेटा जो 500 रुपये में 3 जीबी मिलता था डिजिटल क्रांति के बाद आज एवरेज 300 रुपये में 90 जीबी मिलता है।
◆ एयर इंडिया, भारतीय रेल और भारतीय डाक जो 2014 तक घाटे में थे आज फायदे में हैं।
◆ 1980 के बाद पहली बार है कि लगातार 4 सालों तक किसी सरकार के मंत्री को घोटाले की वजह से या तो जेल न जाना पड़ा हो या पद न छोड़ना पड़ा हो।
◆ आज़ादी के बाद पहली बार 3.5 करोड़ लोगों ने सब्सिडी लेने के बजाय प्रधानमंत्री के एक आह्वान पर सब्सिडी छोड़ दिया।
◆ सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक करके अपना शौर्य दिखाया।
◆ आज देश के पीएम के विदेशी दौरों का कई देशों में लाइव प्रसारण होता है।1970 के बाद ऐसा पहली बार हो रहा है।
◆ मेघालय, मणिपुर और अरुणाचल में पहली बार ट्रेन पहुंची।
◆ भारत और बांग्लादेश के बीच बाड़ लगाकर बांग्लादेशी घुसपैठ को रोका।
◆ आज़ादी के बाद पहली बार राजस्थान के रेगिस्तानी सरहद पर जवानों के लिए ऐसी और कूलर की व्यवस्था की गई।
◆ आज़ादी के बाद पहली बार किसानों के लिए किसान चैनल, मुफ्त एक्सपर्ट एडवाइस और मिनिमम 150 प्रतिशत सपोर्ट प्राइस के लिए योजना बनी।
◆ तुष्टिकरण को रोककर हज सब्सिडी खत्म कर बचे पैसे का प्रयोग अल्पसंख्यक समुदाय के उत्थान के लिए किया गया।
अभी भी बहुत कुछ है।
Wait while more posts are being loaded