Post is pinned.Post has attachment
Вот как можно заполнять анкеты

Имя
Фамилия
Возраст
Прозвище
Расса
Характер
Семья
Любит
Не любит
Боится
Не боится
Способности
Пара

Как-то так^^
Photo

Post has attachment
Jesus (ISA) in Sri Guru Granth Saheb
ਪੰਨਾ 705 ਸਤਰ 12

ਨਹ ਨੈਣ ਦੀਸੈ ਬਿਨ ਭਜਨ ਈਸੈ
ਛੋੜ ਮਾਇਆ ਚਾਲਿਆ ॥
ਪੰਨਾ 1072 ਸਤਰ 8

ਬਲਿ ਬਲਿ ਜਾਈ ਪ੍ਰਭ ਆਪਣੇ ਈਸੈ
ਤਿਸ ਬਿਨ ਦੂਜਾ ਅਵਰ ਨਾ ਦੀਸੈ,
ਏਕਾ ਜਗਤ ਸਬਾਈ ਹੇ ॥
ਪੰਨਾ 1402 ਸਤਰ 14

ਕਾਲ ਕਲਮ ਹੁਕਮੁ ਹਾਥਿ ਕਹਹੁ ਕਉਨੁ ਮੇਟਿ ਸਕੈ ਈਸੁ ।
ਬੰਮ੍ਯ੍ਯੁ ਗ੍ਯ੍ਯਾਨੁ ਧ੍ਯ੍ਯਾਨੁ ਧਰਤ ਹੀਐ ਚਾਹਿ ਜੀਉ ॥
Farid Bani in Sri Guru Granth Saheb speaks of Jesus.
ਫਰੀਦਾ ਰੋਟੀ ਮੇਰੀ ਕਾਠ ਦੀ ਲਾਵਣ ਮੇਰੀ ਭੁਖ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਖਾਧੀਆਂ ਚੋਪੜੀਆਂ ਘਣੇ ਸਹਿਣਗੇ ਦੁਖ ॥
ਫਰੀਦਾ ਜਿੰਦ ਜੋ ਵਹੁਟੀ ਮਰਨ ਵਰ ਲੈ ਜਾਵੇ ਪ੍ਰਣਾਏ ਆਪਣ ਹਥੀਂ ਜੋਲ ਕੇ ਕਿਸ ਗਲ ਲਾਗੇ ਧਾਏ॥
ਫਰੀਦਾ ਭੰਨੀ ਘੜੀ ਸੁਵਨਵੀ ਟੂਟੀ ਨਾਗਰ ਲੱਜ ਇਸਰਾਇਲ ਫਰੇਸਤੇ ਕੇ ਘਰ ਨਾਠੀ ਅੱਜ ॥
ਫਰੀਦਾ ਜੇ ਤੈਂ ਮਾਰੇ ਮੁੱਕੀਆਂ ਤੂੰ ਨਾ ਮਾਰੀ ਘੁਮ ਆਪਨੜੇ ਘਰ ਜਾਇਏ ਪੈਰ ਤਿਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਚੂਮ ॥
ਲੈ ਫਾਹੇ ਰਾਤੀ ਤੁਰਹਿ ਪ੍ਰਭੁ ਜਾਣੈ ਪ੍ਰਾਣੀ ॥
ਤਕਹਿ ਨਾਰਿ ਪਰਾਈਆ ਲੁਕਿ ਅੰਦਰਿ ਠਾਣੀ ॥
ਸੰਨ੍ਹ੍ਹੀ ਦੇਨ੍ਹ੍ਹਿ ਵਿਖੰਮ ਥਾਇ ਮਿਠਾ ਮਦੁ ਮਾਣੀ ॥
ਕਰਮੀ ਆਪੋ ਆਪਣੀ ਆਪੇ ਪਛੁਤਾਣੀ ॥
ਅਜਰਾਈਲੁ ਫਰੇਸਤਾ ਤਿਲ ਪੀੜੇ ਘਾਣੀ ॥.
(SGGS page 627)

ਪਰਮੇਸਰਿ ਦਿਤਾ ਬੰਨਾ ॥
ਦੁਖ ਰੋਗ ਕਾ ਡੇਰਾ ਭੰਨਾ ॥
ਅਨਦ ਕਰਹਿ ਨਰ ਨਾਰੀ ॥
ਹਰਿ ਹਰਿ ਪ੍ਰਭਿ ਕਿਰਪਾ ਧਾਰੀ ॥
(SGGS page 721)

ਯਕ ਅਰਜ ਗੁਫਤਮ ਪੇਸਿ ਤੋ ਦਰ ਗੋਸ ਕੁਨ ਕਰਤਾਰ ॥
ਹਕਾ ਕਬੀਰ ਕਰੀਮ ਤੂ ਬੇਐਬ ਪਰਵਦਗਾਰ ॥
ਦੁਨੀਆ ਮੁਕਾਮੇ ਫਾਨੀ ਤਹਕੀਕ ਦਿਲ ਦਾਨੀ ॥
ਮਮ ਸਰ ਮੂਇ ਅਜਰਾਈਲ ਗਿਰਫਤਹ ਦਿਲ ਹੇਚਿ ਨ ਦਾਨੀ ॥
(SGGS page 953)

ਨਾਨਕੁ ਆਖੈ ਰੇ ਮਨਾ ਸੁਣੀਐ ਸਿਖ ਸਹੀ ॥
ਲੇਖਾ ਰਬੁ ਮੰਗੇਸੀਆ ਬੈਠਾ ਕਢਿ ਵਹੀ ॥
ਤਲਬਾ ਪਉਸਨਿ ਆਕੀਆ ਬਾਕੀ ਜਿਨਾ ਰਹੀ ॥
ਅਜਰਾਈਲੁ ਫਰੇਸਤਾ ਹੋਸੀ ਆਇ ਤਈ ॥

(SGGS page 1019)
ਪਾਪ ਕਰੇਦੜ ਸਰਪਰ ਮੁਠੇ ॥
ਅਜਰਾਈਲਿ ਫੜੇ ਫੜਿ ਕੁਠੇ ॥
ਦੋਜਕਿ ਪਾਏ ਸਿਰਜਣਹਾਰੈ ਲੇਖਾ ਮੰਗੈ ਬਾਣੀਆ ॥
(SGGS page 1084)

ਹਕੁ ਹਲਾਲੁ ਬਖੋਰਹੁ ਖਾਣਾ ॥
ਦਿਲ ਦਰੀਆਉ ਧੋਵਹੁ ਮੈਲਾਣਾ ॥
ਪੀਰੁ ਪਛਾਣੈ ਭਿਸਤੀ ਸੋਈ ਅਜਰਾਈਲੁ ਨ ਦੋਜ ਠਰਾ ॥
(SGGS page 723)

ਗੈਬਾਨ ਹੈਵਾਨ ਹਰਾਮ ਕੁਸਤਨੀ ਮੁਰਦਾਰ ਬਖੋਰਾਇ ॥
ਦਿਲ ਕਬਜ ਕਬਜਾ ਕਾਦਰੋ ਦੋਜਕ ਸਜਾਇ ॥
ਵਲੀ ਨਿਆਮਤਿ ਬਿਰਾਦਰਾ ਦਰਬਾਰ ਮਿਲਕ ਖਾਨਾਇ ॥
ਜਬ ਅਜਰਾਈਲੁ ਬਸਤਨੀ ਤਬ ਚਿ ਕਾਰੇ ਬਿਦਾਇ ॥
(SGGS Page 1381)

ਫਰੀਦਾ ਭੰਨੀ ਘੜੀ ਸਵੰਨਵੀ ਟੁਟੀ ਨਾਗਰ ਲਜੁ ॥
ਅਜਰਾਈਲੁ ਫਰੇਸਤਾ ਕੈ ਘਰਿ ਨਾਠੀ ਅਜੁ ॥

www.punjabichristianfellowship.org
Punjabi Christian Fellowship | MASIHI SATSANG
Punjabi Christian Fellowship | MASIHI SATSANG
punjabichristianfellowship.org

रात के समय रहें जरा संभल कर, अदृश्य शक्तियां कर सकती हैं वार
शास्त्रों एवं पुराणों में दिन-रात से संबंधित अलग-अलग नियम निर्धारित किए गए हैं। जिनका पालन करने से जीवन में आने वाले सभी दुखों से मुक्ति पाकर सफल जीवन यापन किया जा सकता हैं। आधुनिक परिवेश से प्रभावित बहुत से लोग धर्म के नियमों का पालन नहीं करते इसीलिए उनके जीवन में दुख और असफलता आती रहती है। वहीं उनका जीवन एक भ्रम और भटकाव ही बन कर रह जाता है।

रात को नींद के आगोश में जाने से पहले अधिकतर लोगों को इत्र, डियो अथवा सुंगध को किसी न किसी रूप में अपने शरीर पर लगाना भाता है। पुराणों के अनुसार ऐसा करना नकारात्मक शक्तियों को बुलावा देना है। रात के समय नकरात्मकता सुंगधित काया की ओर विशेष रूप से आकर्षित होती हैं।

सनातन धर्म के शास्त्रों में कहा गया है सोने से पूर्व चेहरा, हाथ और पांव धोकर अच्छे से पोंछ कर भगवान का नाम सिमरण करते हुए सोना चाहिए। ऐसा करने से सोते समय जितने भी श्वास लिए जाते हैं वे भगवान को अर्पण हो जाते हैं।

रात को बिस्तर पर लेटते ही बहुत सी महिलाओं की आदत होती है बंधे बालों को खोल देती हैं। फिर सोती हैं। पुराणों के अनुसार इससे व्यक्तित्व पर द्वेषपूर्ण प्रभाव पड़ता है। निगेटिव ऊर्जा सक्रीय हो जाती है। अत: प्रतिदिन सोने से पूर्व बालों को बांध लें।

रात के समय श्मशान के आसपास या उसके भीतर नहीं जाना चाहिए। श्मशान ऐसा स्थान है जहां सदैव नकारात्मक ऊर्जा रहती है। शाम ढलने के बाद तो ऊपरी शक्तियां सक्रिय हो जाती हैं। जिसका बुरा प्रभाव हमारे अंतर्मन पर पड़ सकता है। कई बार ऊपरी बाधाएं व्यक्ति को अपने प्रभाव में भी ले लेती हैं। जिससे उसे हानि उठानी पड़ती है। शव से निकलता धुंआ स्वास्थ्य के लिए घातक होता है। श्मशान से लौटने पर स्नान अवश्य करना चाहिए। सूरज ढलने के बाद किया गया स्नान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।

सूरज ढलने के बाद विशेषकर रात के समय चौराहों पर नहीं जाना चाहिए। वैदिक ज्योतिष के अनुसार चौराहों पर राहू का निवास होता है। राहू ही कुकृत्यों और अपराध का मूल कारण है। भूत पिशाच व टोने टोटके भी चौराहों पर ही किए जाते हैं। रात के वक्त अधिकतर चौराहों पर असामाजिक तत्वों की मौजूदगी रहती है। जिससे की चौराहे पर जाने से अदृश्य शक्तियां व्यक्ति पर अपना वर्चस्व स्थापित करने में कामयाब हो जाती हैं। जिससे की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। रात के समय इधर-उधर विचरन करने की बजाय अपने घर में ही वास करना चाहिए।



Post has attachment
Выкладывайте анкеты^^
Photo
Wait while more posts are being loaded