Post has attachment
योनि में संक्रमण

1 * मुलैठी को पीसकर उसमें घी मिलाकर लेप बनाएं। इस लेप को योनि की दीवारों और उसके आसपास लगाएं। संक्रमण में आराम मिलेगा।

2 * ताजी निंबोली (नीम का फल) का रस निकालकर उसे योनि की दीवार पर उंगलियों से धीरे धीरे मलें। यदि ताजा निंबोली न मिलें तो सूखी निंबोली का चूर्ण पानी में भिगोकर पानी निचोड़ लें और उसको प्रयोग करें। नीम की पत्तियों का रस और नीम का तेल भी फाएदेमंद है।

3 * योनि संक्रमित होने पर दूध दही का सेवन भी फाएदेमंद होता है। इस रोग में दही का सेवन करें। थोड़ा सा दही योनि के आसपास लगाने से भी लाभ होता है।

4 * संक्रमण के कारण अगर योनि शुष्कता (सूख) आ गई हो या जलन हो रही हो, तो नारियल का तेल योनि में लगाएं। जलन से बहुत राहत मिलेगी।
Photo

Post has attachment

Post has attachment
योनि में सूजन

1 * एक पके केले को छील कर 6 – 7 ग्राम देशी घी के साथ रोज सुबह शाम खाएं। एक सप्ताह तक प्रयोग करने से योनि की सूजन दूर हो जाती है।

2 * योनि की सूजन में 3 ग्राम आंवला और 6 ग्राम शहद मिलाकर रोज दिन में 1 – 2 बार खाने से आराम मिलता है।

3 * गूलर के चूर्ण में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर एक से दो ग्राम मात्रा में सुबह शाम सेवन आराम मिलता है।

4 * मुठठी भर नीम की पत्तियां लेकर आधा लीटर पानी में 15 –20 मिनट अच्छी तरह उबालें। फिर ठंडा करके योनि को दो तीन बार अच्छी तरह धोएं। यह सूजन दूर करने का अच्छा नुस्खा है।

5 * चावल पकाकर मांड निकाल लें और गुनगुना ही पी जाएं। ध्यान रहे कि मांड ज्यादा गाढ़ा न हो। मांड पीने के एक घंटा पहले और बाद में कुछभी न खाएं।

यदि सेक्स के दौरान पीड़ा रहती हो तो इन्हें आजमाएं

1 * शुद्ध अरंडी का तेल रूई में भिगोकर योनि में लगाने से लाभ होता है।

2 * गोरखमुंडी (यह एक प्रकार की घांस होती है, जो दवा के रूप में प्रयोग की जाती है) को घी और दूध में पकाकर हलवा बनाएं। फिर इसे योनि में रखें। आराम मिलेगा।

3 * इंद्रायण की जड़, सोंठ और धृतकुमारी का गूदा मिलाकर पीस लें। फिर इसे बकरी के दूध में मिलाकर योनि में रखने से पीड़ा से छुटकारा मिलता है।

4 * पुनर्नवा की जड़ व पत्तों का रस निकालकर उसमें रूई के फाहे को भिगोकर योनि में रखने से सेक्स पेन में बहुत राहत मिलती है।

5 * सोंठ और अरंडी की जड़ का बारीक चूर्ण पानी या घी में पीसकर योनि पर लेप करने से सेक्स के दौरान दर्द में राहत मिलती है।

6 * सुपारी का चूर्ण 5 ग्राम घी के साथ मिलाकरखाएं और ऊपर से गाय अथवा बकरी का दूध पिएं।
Photo

Post has attachment
योनि का ढिलापन

1 * काले तिल का चूर्ण पांच ग्राम, दस ग्राम चूर्ण गोखरू का और बीस ग्राम शहद में मिलाकर आधा लीटर दूध के साथ रोज सेवन करें।
इससे ढीली हो चुकी योनि कुवांरी कन्या के समान टाइट हो जाती है।

2 * समुद्र की झाग और हरड़ की गुठली दोनों का बराबर मात्रा में लेकर पीसकर पाउडर बना लें। फिर इसे योनि पर मलने से फैली योनि सकंचित हो जाएगी।

3 * नीलकमल, कुष्ठ, बच, काली मिर्च, असगंद और हल्दी पीसकर लेप करने से योनि में मजबूती आती और पहले की तरह टाइट हो जाती है।

4 * माजू, कपूर व शहद एक साथ मिलाकर योनि की मालिश करें। इससे इससे योनि पहले की तरह सकुंचित हो जाएगी।

5 * पालक के बीज तथा गूलर के फल के चूर्ण को तिल के तेल व शहद के साथ पीसकर लेप करने से ओवर ऐज महिलाओं की योनि भी सकुंचित होकर टाइट हो जाती है।

6 * ढाक व गोंद की बत्ती या लंबी पोटली बनाकर योनि में रखने से योनि सिकुड़कर कुवांरी कन्या जैसी हो जाती है।

7 * कड़वी तुंबी व लोध्र के फल को एक साथ पीसकर योनि में लेप करने से अथवा बेंत की जड़ के क्वाथ द्धारा अच्छी तरह धोने से योनि संकुचित हो जाती है।
Photo
Wait while more posts are being loaded