Post has attachment

Post has attachment
क्या नन्हे ब्लॉग लोगों के निर्णयों को प्रभावित कर सकते हैं?

Excerpts from The Manual of Blogging:
https://www.themanualofblogging.com/2018/10/bloggers-as-influencers.html

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
Posted this nearly 3 years back. Holds good for Hindi blogging even now. Do you agree?

लेकिन हम साल दर साल यह देख रहे हैं कि हिंदी के कई सारे ब्लॉगर बहुत आत्म-विभोर रहते हैं अपनी भाषा से, अपने गँवई लहज़े में कुछ कह पाने के हुनर से या अपने कवित्व से. कुछ मित्र आधा दर्जन ब्लॉग खोल बैठे हैं लेकिन एक ब्लॉग पर भी ध्यान नहीं दे पाते. कुछ ने अपने ब्लॉग को दर्जनों बैज, उतनी ही widget, उससे भी ज़्यादा निम्न-स्तरीय फ़ोटो और कुछेक विज्ञापन से इतना सजा दिया है कि समझ नहीं आता कि ब्लॉग में हैं या गाँव के मेले में. अब कुछ मित्र हमारी इन टिप्पणियों पर बखेड़ा भी खड़ा करना चाहेंगे, सो करें. हम स्पष्ट कर दें कि न तो हम भाषा के विद्वान हैं, न कवि हैं और न ग्रामीण संस्कृति को कमतर आंकने वाले. हमने बस इस ओर ध्यान दिलाना चाहा है किअगर हिंदी के ब्लॉगर या अन्य ऑनलाइन लेखक अपनी सोच का दायरा बढ़ा लें, ब्लॉग को कविता से बाहर ले जाएं, डिज़ाइन-रंग-सज्जा जैसे मुद्दों पर भी ध्यान दें, और भाषा के मूलभूत ढाँचे और मात्रा आदि का ध्यान रखें तो हिंदी का यह ऑनलाइन संसार बहुत खूबसूरत तथा समृद्ध हो जाएगा.
link: https://www.indiantopblogs.com/2015/09/best-hindi-blog-directory.html

Post has shared content

Post has attachment

Post has shared content

Post has shared content
🌹जय श्री राम 🌹
🌸जय हनुमान 🌸
केसरी नंदन राम दुलारे
भक्तों के तुम रखवाले
हे वीर प्रतापी शोर्यवान
दुष्ट सदा तुमसे भय खाते
पवनपुत्र वीर बजरंगी
राम-लखन के तुम हो संगी
राम मुद्रिका सीता को दे आए
श्री राम का संदेश सुनाए
विकट रूप जब तुमने रखा
क्षण में रावण की लंका दी जला
संजीवनी को समझ नहीं पाए
पूरा पर्वत संग ले आए
गदा तुम्हारे हाथ में सोहे
राम सिया सदा मन मोहे
दिल में छवि उनकी बसाए
तुम भक्त प्रिय राम सिया के
अंजनी मां के पुत्र तुम प्यारे
भूत पिसाच नाम से भागे
भानू को देख सदा मुस्कुराते
लीला था उन्हें मधुर फल जान के
चरणों में तेरे शीश झुकाते
प्रभू सबके तुम कष्ट मिटाते
श्रीराम की जो करते पूजा
उनके शीश पर हाथ है तेरा
पवनपुत्र श्री हनुमान
करते हम तुमको प्रणाम
***अनुराधा चौहान***मेरी स्वरचित रचना✍
Photo
Wait while more posts are being loaded