Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
HINDI NOVEL'S WEBSITE
थ्रिल,एक्शन,रहस्य,रोमांच और जासूसी उपन्यासों का अनूठा संसार
http://vijaybohra.blogspot.in

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
Photo

गर्भ के अन्धकार में
पनपता एक नव जीवन
बुनता हर पल नए सपने
जीवन की आशा करता
पलता नित नव आलोक में !!
अंतर्मन में शंशय फैला
जागता सा सोता कोख में
चिंतित होता, भ्रमित होता
होगा क्या जब निकलूंगा
इस नरक के मलिन शोक से !!
कैसा होगा मेरा आशियाना
महल मिलेगा या टूटी झोपड़
कही खिलता बचपन होगा
या मिले अन्धकार का साया
बस डूबा रहता इसी सोच में !!
चखूंगा पहली बूँद पंचामृत की
या कड़वे पानी की बून्द मिलेगी
बजेंगे घर में तवा थाल ख़ुशी से
या होगा चंहु और सन्नाटा छाया
डर-डर के जी रहा हू इस खौफ में !!
झूलूंगा में किसी स्वर्ण पालने
या बिछा घास का आसन होगा
फेंका जाऊं किसी कूड़ेदान में
या आँचल से माँ के लिपटा होगा
जब आऊंगा जनमानस लोक में !!
होता है आभास नित्य नवीन
करता कोई इन्तजार आगमन का
सुगबुगाहट से होता भान जैसे
मेरे जनक करते कुछ मीठी सी बाते
लगे की होगा स्वागत बड़े जोश में !!
क्या हूँ मै खुद से अन्जान हूँ
बेखबर कुदरत के अभिनय से
नर – नारी का भेद न जाना
अज्ञानी था जीव जगत रीत से
नित बुनता सपने जीव लोभ में !!
उम्मीदों के पर बढ़ते जाते
घडी-घडी, अवधि बीत रही
समय दिन पक्ष, मास गुजरते
मुक्ति की लग अब आस रही
ये सोच सम्भालूंगा खुद होश में !!
अंत हुआ इन्तजार का
जन्म की बेला आ गयी
लगता अब नौ मास की कैद से
बरी होने की शुभ घडी आ गयी
भर लेगा मुझे हर कोई आगोश में !!

उँगली उठाना


इंसान गलती खुद कर जाता है
फिर भी नाम दूसरे का लगाता है
और सामने वाले को कमजोर देख
लड़ाई करने के लिए खड़ा हो जाता है ||
रस्ते में केले खाता है
छिलका सड़क पर फेक जाता है
जब दूसरे के फैके छिलके से फिसल जाता है
तो दूसरे को कोसकर शोर मचाता है ||
कूड़ा गाड़ी में कूड़ा डालने में आलस दिखाता है
बाद में अँधेरे का फायदा उठकर कूड़ा बाहर फैक आता है
जब फैके कूड़े से चारो और गन्दा नजर आता है
तो विदेशो में ज्यादा सफाई का गाना गाता है ||
गाड़ी को साफ करने के लिए पानी बहाता है
कोई भैसो को पानी के पाइप से नहलाता है
जब पानी का लम्बा चोडा बिल भरने को आता है
तो बिल को गलत कहकर विभाग के चक्कर लगाता है ||
हलकी सी गर्मी सहन नहीं कर पाता है
पुरे दिन घर में ए०सी ० चलाता है
जहाँ एक लाइट की जरुरत हो वहाँ झूमर जलाता है
फिर मीटर के तेज चलने की शिकायत दर्ज करवाता है ||
दुसरो के बच्चों के चरित्र पर उँगली उठाता है
चारो तरफ उसके दोस्त को उसका आशिक बताता है
जब अपना बच्चा गलती करे तो बच्चा कहकर
समाज में उसकी गलती छुपाता है ||
आखिर कब तक दुसरो पर यह उँगली उठाई जायगीl
उँगली उठाने से पहले देख ले तीन उंगलियाँ तेरी तरफ ही आएगी ||
Wait while more posts are being loaded