Profile cover photo
Profile photo
Vivek Mishra
146 followers -
To make a good friend.. three things are necessory... 1.Love 2.Faith & 3. Cooperation
To make a good friend.. three things are necessory... 1.Love 2.Faith & 3. Cooperation

146 followers
About
Posts

Post has attachment
"Gel" GoEasyLife For Your Easy Life
Add a comment...

Post has attachment
आतंरिक विद्रोह...
जबतक आप किसी भी कार्य , लक्ष्य , अथवा सम्बन्धो हेतु पूर्णतया स्वयं अंतरमन से राजी नहीं होते ,  आप बाह्य दबाव अथवा कारको के प्रभाव में अपना सर्वोत्तम योगदान नहीं दे सकते हैं । और जब तक आप हार्दिक रूप से प्रशन्न और भावविभोर नहीं होते , आप अपने अंतरमन को संतुष...
Add a comment...

Post has attachment
बेसहारा...
जीवन संघर्षो की बनी दुधारी , लगते घाव हैं बारी बारी । जायें किधर समझ ना आये ,आगे कुआँ और पीछे खाई । एक तरफ आदर्शो का अब , कटु कोरापन हो रहा प्रगट । ठोस धरातल था कल तक , दलदल बन वो रहा विकट । परीलोक की गल्प कथाएं , प्रेतलोक का भय दिखलाये । कलियों पर मंडराते ...
Add a comment...

Post has attachment
थोड़ा सा जल मुझे चाहिए..
प्यास लगी है मन में मेरे , ज्वाला जलती तन में मेरे । विकल हो रहे नेत्र हमारे , डग-मग होते कदम हमारे । जन्म जन्म की प्यास लगी है , व्याकुल मन को करने लगी है । देख पास शीतल जल धारा , तन को हर्षित करने लगी है । पल भर का अवरोध नहीं , अब मन को जरा सुहाता है । जी...
Add a comment...

Post has attachment
काल और हम ...
कालचक्र की गति सनातन , ठहराव नहीं उसकी गति में । आठो पहर के हर एक पल , घूमे रथ के पहिये निरंतर । जल थल से लेकर नभ तक , धरती और पाताल सभी । घूम रहे प्रतिबल बन छाया , अदभुद कालचक्र की माया । सेवक बनकर पीछे चलते , दशो दिशाओं के दिगपाल । हाथ जोड़ कर शीश नवाते , ...
Add a comment...

Post has attachment
आओ स्वप्नदर्शी बने...
स्वप्नों का संसार अनोखा , और अनोखी स्वप्न साधना । काल समय का भेद मिटाकर , स्वप्न नए जगत दिखाता । नित जाने-अनजाने लोकों की , स्वप्न हमें है सैर कराता । उत्तर कई अबूझ पहेलियों के , स्वप्न ही प्राय: हमें बताता । कुछ लोग देखते स्वप्नों को , जब वो निंद्रा में हो...
Add a comment...

Post has attachment
मिले जो राह में कांटे..
मिले जो राह में कांटे , कदम वापस ना लेना तुम । उन्हें समेट कर आगे , कदम अपने बढ़ाना तुम । मिले जो राह में ठोकर , कदम धीमे ना करना तुम । कदम की ठोकरों से ही , राह खाली कराना तुम । खड़े अवरोध हों आगे , ना घबड़ाकर रुक जाना तुम । मिटाकर हस्तियाँ उनकी , मंजिल  अपनी...
Add a comment...

Post has attachment
सामंजस पर टिकी ये श्रृष्टि है..
कुछ अच्छाई और बुराई के , सामंजस पर टिकी ये श्रृष्टि है । विपरीत ध्रुवो के बिना कहाँ , कभी चल पायी कोई श्रृष्टि है । शिव शक्ति के मिले बिना  , नहीं होती श्रृष्टि की उत्पत्ति है । मानव जाति है जग में तो , दानवो जाति भी होगी ही । यदि देवो का है देवलोक , असुर ल...
Add a comment...

Post has attachment
ये मान्यता है...पर मै इससे कदापि सहमत नहीं।
मान्यता है और मीडिया के लोग कहते हैं ये तस्वीर राम भक्त हनुमान जी के पैरों की है श्रीलंका में....  पर मै इससे कदापि सहमत नहीं। अगर ये निशान हनुमान जी के पैरों का होता तो अकेला नहीं होता.. वरन दूसरे पैर का निशान या और भी पदचिन्ह होते वहां पर क्योंकि हनुमान ज...
Add a comment...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded