Profile

Cover photo
R.B ahir
Attends KSKV KUTCH UNIVERCITY
Lives in Bhuj
55,205 views
AboutPostsPhotosVideos

Stream

R.B ahir

Introductions  - 
 
Student's Behaviour is the most important in Learnig mathod...
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
Happy Ramnavmi To all of You
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
Vinayak Damodar Savarkar
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
Good Collection
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
Good Noon To all of You
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
सभी राष्ट्रभक्त को विवेकानंद जी की आज 12 जनवरी 2013 को 150 वीं जयंती पर
शुभकामनाये देता हु .....सम्पूर्ण भारत वर्ष में कही भी चल रहे कार्यक्रम में
भाग ले एवं उन के द्वारा स्थापित आदर्शो को आत्मसात करे ..
वन्दे मातरम्
 ·  Translate
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
आज स्वामी विवेकानंदजी की पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में " युवा दिवस" की सभी को हार्दिक शुभकामनाये !
उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो , तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो , तुम तत्व नहीं हो , ना ही शरीर हो , तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो.
- स्वामी विवेकानंद-
 ·  Translate
1
Jostein Hassel's profile photoR.B ahir's profile photo
2 comments
 
what
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
गायत्री मंत्र का वर्णं

ॐ भूर्भुवः स्वः
तत्सवितुर्वरेण्यं
भर्गो देवस्यः धीमहि
धियो यो नः प्रचोदयात्

गायत्री मंत्र संक्षेप में

गायत्री मंत्र (वेद ग्रंथ की माता) को हिन्दू धर्म में सबसे उत्तम मंत्र माना जाता है. यह मंत्र हमें ज्ञान प्रदान करता है. इस मंत्र का मतलब है - हे प्रभु, क्रिपा करके हमारी बुद्धि को उजाला प्रदान कीजिये और हमें धर्म का सही रास्ता दिखाईये. यह मंत्र सूर्य देवता (सवितुर) के लिये प्रार्थना रूप से भी माना जाता है.

हे प्रभु! आप हमारे जीवन के दाता हैं
आप हमारे दुख़ और दर्द का निवारण करने वाले हैं
आप हमें सुख़ और शांति प्रदान करने वाले हैं
हे संसार के विधाता
हमें शक्ति दो कि हम आपकी उज्जवल शक्ति प्राप्त कर सकें
क्रिपा करके हमारी बुद्धि को सही रास्ता दिखायें

मंत्र के प्रत्येक शब्द की व्याख्या

गायत्री मंत्र के पहले नौं शब्द प्रभु के गुणों की व्याख्या करते हैं

ॐ = प्रणव
भूर = मनुष्य को प्राण प्रदाण करने वाला
भुवः = दुख़ों का नाश करने वाला
स्वः = सुख़ प्रदाण करने वाला
तत = वह, सवितुर = सूर्य की भांति उज्जवल
वरेण्यं = सबसे उत्तम
भर्गो = कर्मों का उद्धार करने वाला
देवस्य = प्रभु
धीमहि = आत्म चिंतन के योग्य (ध्यान)
धियो = बुद्धि, यो = जो, नः = हमारी, प्रचोदयात् = हमें शक्ति दें (प्रार्थना)

इस प्रकार से कहा जा सकता है कि गायत्री मंत्र में तीन पहलूओं क वर्णं है - स्त्रोत, ध्यान और प्रार्थना.
 ·  Translate
2
1
Aditya Sharma's profile photo
 
Plz. visit on:-zapit.nu/singh
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
Good Morning
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
 
The Mighty One!
#admin  
1
Add a comment...

R.B ahir

Shared publicly  - 
 
 
Swami Vivekanand Jayanti
1
Add a comment...
Collections R.B is following
View all
Basic Information
Gender
Male
Education
  • KSKV KUTCH UNIVERCITY
    M.A WITH PSYCHOLOGY, 2011 - present
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Bhuj
Links
YouTube