Profile cover photo
Profile photo
Satynarayn Solanki
472 followers
472 followers
About
Posts

Post has attachment
आदरणीय प्रिय मित्र मंडली आप सभी को श्री हनुमान जी जन्मोत्सव पावन पर्व कि मंगल मय शुभकामनाएँ
जय श्री राम
जय हो बजरंग बालाजी जी प्रणाम
Photo
Add a comment...

Post has attachment
जय हिन्द जय भारत*
वोट के भिखारी इतने निचे गिर चुके है कि-
देश की रक्षा करने वाले जवानों से नहीं मिलते
शहीदों के परिजनों से नहीं मिलते
लेकिन सैनिकों पर हमला व पत्थर बरसाने वाले गद्दारो से मिलते है-
वंदे मातरम्
Photo
Photo
30/08/2016
2 Photos - View album
Add a comment...

Post has attachment
इस बाल स्वयं सेवक को किसने बताया कि इस अभागे पुरुष का भी त्योहार मनवाना है ,जो बुद्धि जीवी -- सेक्युलर वादी -लोग राष्ट्रवादी संगठन RSS की तुलना आतंकी सरगना से करते है वो ये चित्र जरूर देखे और अपनी मानसिक विचार धारा को बदले तथा इस प्रकार की अन्य सेवाओं की सहराना करे -
*जय हिन्द *जय भारत *
वंदे मातरम्
Photo
Add a comment...

Post has shared content
कोई 'हस्ती' कोई 'मस्ती' कोई 'चाह' पे मरता है..
कोई 'नफरत' कोई 'मोहब्बत' कोई 'लगाव' पे मरता है..
ये "ग्रुप" है उन 'दिवानों' का यहां हर बन्दा,
अपने "हिंदुस्तान" पे मरता है.....!!

  भारत के जवानो का शेयर=सम्मान करे
      जय हिन्द जय भारत.
Photo
Add a comment...

Post has attachment
* तेरा वैभव माँ अमर रहे*
* हम चार दिन रहे ना रहे*
* जय हिन्द* जय भारत*
* वंदे मातरम्*
Photo
Add a comment...

Post has attachment
मित्र मंडली के सभी सदस्यों को सावन महा की शुभकामनाएँ
हर हर भोले --
ॐ नमः शिवाय --
जय श्री कृष्णा राधे राधे-
राम राम जी
Photo
Photo
25/07/2016
2 Photos - View album
Add a comment...

Post has shared content
आदरणीय देशभक्त ,देशप्रेमीओ से विनम्र प्रार्थना है आप एक बार इस पोस्ट को जरूर पढ़ें --जय हिन्द, जय भारत ,वंदे मातरम्, प्रणाम
कश्मीर की वर्तमान परिस्तिथि से आप परिचित होंगें ही। "शहीद" बुरहान वनि के लिए कुछ "बुद्धिजीवी शुभचिंतक" अविलम्ब अपना शोक व्यक्त कर चुके हैं। उन्होंने भारतीय सरकार एवं जम्मू कश्मीर की सरकार को कटघरे में खड़ा कर के पूर्णतयः दोषी घोषित कर दिया है। उन्होंने यहाँ तक बोल दिया कि जनता की आवाज़ को बलपूर्वक दबाया जा रहा है। सेना और पुलिस सरकारी वेतनभोगी अत्याचारी हैं जिन्हें परपीड़ा में आनंद आता है। सीमा पार से भी जनता के विरोध को पुरज़ोर समर्थन मिल रहा है। अलगाववादी नेता निरन्तर विरोध के पक्ष में हैं।
दोस्तों, जब आतंकवादी, ईर्ष्यालु पड़ोसी, और देश में रह कर उसे ही तोड़ने वाले देशद्रोही एक सुर में राग अलापें, तो समझ लीजिए कि उनके खेमे में संकट के बादल मंडरा रहे हैं। बाकी आप खुद समझदार हैं। कुछ प्रश्न के उत्तर कश्मीर के लोगों को उनसे पूछने चाहिए जो उन्हें दंगों में जाने के लिए उकसाते हैं।
गत वर्ष जब कश्मीर में बाढ़ आई थी, बुरहान वनि ने कितने कश्मीरियों को बचाया था? जिस भारतीय सेना ने डूबते हुए कश्मीर को एक नयी साँस दी थी, बुरहान वनि उसी भारतीय सेना के विरुद्ध हमलों के लिए युवाओं को उकसाता था। क्या ये हमारे शहीद हैं? भारतीय सेना ने उसे मार गिराया, और हमें गर्व है अपनी सेना पर। भगवान् न करे कोई आपदा कश्मीर में आये, जिनपर पत्थर बरस रहे हैं, वही संकट मोचक बन कर सबसे आगे खड़े होंगें। इस विश्वास की पुष्टि मुझसे नहीं, किसी कश्मीरी से ही कर लीजिए।
कुछ लोग कश्मीर की परिस्तिथि का ठीकरा भारत के सर फोड़ते हैं, और UN Convention का हवाला देते हुए कहते हैं कि भारत ने अभी तक कश्मीरियों से मताधिकार क्यों नहीं करवाया। आप सबको शायद यह जान कर आश्चर्य हो, भारत चाह कर भी कश्मीर को लेकर जन मत नहीं ले सकता, क्योंकि UN Convention के अनुसार जन मत के लिए पाकिस्तान द्वारा ग़ुलाम बनाए कश्मीर से अपनी सेना हटाना पहला चरण है। इस बारे में कश्मीरियों को कौन गुमराह कर रहा है, और क्यों? भारत की ओर जो क्रोध उड़ेला जा रहा है, उसे सही दिशा देना चाहिए।
दुःख है कि जहाँ कश्मीर का एक युवा civil services में सर्वोच्च स्थान से उत्तीर्ण होता है तो वहीं दूसरा युवा हाथ में पत्थर उठा लेता है। युवाओं को यह निर्णय लेना पड़ेगा कि कौन से विकल्प से वो कश्मीर को बेहतर बना सकते हैं।
कश्मीर तो हमारा ही रहेगा। 1947 से इस विचार में कोई परिवर्तन नहीं आया, और न ही आएगा। 2004 में हमारे प्रधानमंत्री ने कहा था कि भारत की सीमाएँ परिवर्तित नहीं होंगी, आवत जावत के लिए सुविधा अवश्य दी जा सकती है। इस तथ्य को जितनी शीघ्रतापूर्वक स्वीकार करेंगे, उतना सभी के लिए अच्छा होगा।
हमारी सहायता करिये, कि हम आपकी सहायता कर सकें। सम्पूर्ण विश्व भारत का लोहा मान रहा है, और जानता है कि भविष्य में भारत का अति विशेष स्थान है।
क्या आप इस महागाथा का भाग बनेंगें? मेरी विनती है, भीड़ से निकलिए, अपना भविष्य स्वयं निर्धारित करिये।

-: General V.K. Singh
Photo
Add a comment...

Post has shared content
👺
तीन साल पहले केदारनाथ में प्रलय आने के '57 घंटे' बाद पहला हैलीकॉप्टर देहरादून से रवाना हुआ था मदद करने को।

नेपाल में तबाही के '57 वें मिनट' पर ही भारत से चार विमान राहत सामग्री और NDRF की 10 टीमों के साथ रवाना हो गये।

प्राकृतिक आपदा हमारे नियंत्रण में नहीं होती किन्तु सहायता तो होती है न।

यही होते हैं अच्छे दिन।

😳😳😳😳😳😳😳😳😳 "अटल-सरकार" की तरह "मोदी-सरकार" का पेट मत चीरो मेरे हिन्दू भाइयों...

एक बात गाँठ बाँध के रख लो कि मोदी ही हम हिन्दुओं की आखिरी उम्मीद बच गए हैं...

बात थोड़ी कड़वी है पर कहावत है कि कुत्तों को घी हज़म नहीं होता" और
"सुवरों को बढ़िया पकवान अच्छे नहीं लगते"

अगली बार मोदी नहीं आए तो ये सारे सेक्युलर की खाल में बैठे जेहादी मिल के हम हिन्दुओं का ऐसा हश्र करेंगे कि आने वाले पीढ़ियाँ अपनी बर्बादी पर आँसू बहायेंगी...
फिर किसी मोदी जैसे हिन्दुवादी देश-भक्त को दिल्ली तक पहुँचने का सपना देखने में भी डर लगेगा...

प्यारे मात्र 12 वर्षो के लिए जात-पात, ऊँच-नीच,अगड़ा-पिछड़ा, पार्टी-सार्टी को छोड़ देश हित में जिन हिन्दुओं को ये आभास होते हुए भी मोदी को गरियाने में एक विशिष्ट संतुष्टि का अनुभव् होता है उन्हें आज की परिस्थितियों में मैं "महामूर्ख" ही कहूँगा...

याद रहे जब तक मुर्गी ज़िंदा रहेगी तब तक ही अंडे देगी...
अटल जी की तरह उसका भी पेट चीर दोगे तो फिर लड़ते रहना इन टोपी वालों से ज़िंदगी भर..

1.- गौ रक्षा मॉडल बिल आ गया...

2.- कश्मीरी पंडित वापस होंगे...

3.- कैलाश का नया रास्ता खुल गया

4.- हरियाणा में गीता अनिवार्य हो गयी..

5.- राजस्थान में योग और सूर्य नमस्कार अनिवार्य हो गया..

6.- गुजरात, महाराष्ट्र आदि में गौहत्या प्रतिबंधित हो गयी

7.- हरियाणा में गाय पालने पर 200 रुपये प्रतिमाह मिलने का प्राविधान बनाया गया है...

वैज्ञानिक तक कहने लगे कि वेद और शास्त्रों में सारे वैज्ञानिक तथ्य छुपे हुए हैं...

.- हिन्दूविरोधी pk बनाने पर सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष बर्खास्त हो गयी..

.- प्रधानमन्त्री मोदी जी और योग-गुरु बाबा रामदेव के सद्प्रयासों से भारत देश की "संस्कृति" का पूरे विश्व मे डंका बजने लगा है

.- बनारस के घाट चमचमाने लगे... आदि... आदि

- भारत विश्वगुरु बनने की ओर अग्रसर हो रहा है।

प्यारे देशवासियों !!!

मोदीजी किसानों का बुरा सोच भी नहीं सकते... मोदी जी...माँ भारती के ऐसे सपूत हैं जिसपर खुद माँ भारती गर्वित हैं...
जिसका बचपन खुद गरीबी में बीता हो वो किसी गरीब का बुरा क्यों सोचेंगे... *उनके आगे-पीछे कोई नहीं है इसलिए कहते हैं- "न खाऊँगा..न खाने दूँगा..." मोदी जी की मन्शा पर शक मत कीजिये...
मोदी जी किसानों के दोस्त हैं.. किसानों के शुभ-चिन्तक हैं... भारत देश के भाग्यविधाता हैं...

हे मोदी का विरोध करने वाले हिन्दुओं !!!
आपके असहयोग और अंधविरोध की वजह से अगर सच में मोदी जी का कुछ अनिष्ट हो गया तो आप सभी खून के आँसू रोओगे... हिन्दू घरों की बहन-बेटियाँ "लव-जिहाद" की भेंट चढ़ जाएँगी और "भारत को पाकिस्तान और अफगानिस्तान बनते देर नहीं लगेगी"

फिर कोई पूछेगा भी नहीं कि क्यों मरे पड़े हो...
अगर वास्तव में हिन्दुत्व और भारत देश के लिए कुछ करना चाहते हो तो तथ्य और प्रमाणों के साथ बात करने की आदत डाल लो... क्यूँकि

मोदी बोलते नहीं हैं... *करते हैं... *मोदी जी गुजरात में भी नहीं बोले... *वहाँ भी मोदी जी ने कर के दिखाया..

मोदी जी के मंत्री सेक्यूलर हो सकते हैं पर मोदी जी कभी सेक्यूलर नहीं हो सकते ... इस बात को अच्छी तरह ध्यान में रखना...

अपनी सरकार...मोदी सरकार...
बार बार मोदी सरकार...


अगर देश के लिए कुछ करना है तो यह सन्देश कम से कम 5 लोगो को और 3 समूहों group में भेजना है।

बस आपको तो एक कड़ी जोड़नी है, देखते ही देखते पूरा देश जुड़ जायेगा।

बस...जरासा forward करो..सिर्फ 2-3 सेकंड ही लगेंगे...Jai Ho....!

आपका...एक देशप्रेमी।
🙏🏻💐 🇮🇳 💐 🙏🏻
Photo
Add a comment...

Post has shared content
केंद्र सरकार को चाहिए कि जितने आतंकवादी मारे जाएं उनके शव दफनाने की बजाय जलाना शुरू कर दें।यह उपाय आतंकवाद मे कमी आने का उपाय साबित हो सकता है।क्योंकि पहली बात आतंकवाद का कोइ धर्म नहीं होता।इसलिए क्या फर्क पडता है उसे जलाया या दफनाया जाए?दूसरी बात फिदायीन हमलावर मरने के बाद जलने लगेंगे तो जिन 72 हूरों के लालच मे वह जिहादी बनते हैं उस सुख को कभी प्राप्त नहीं कर पाएंगे क्योंकि जलने के बाद शरीर राख बन जाएगा।
,
,
यह आजमाया जाना चाहिए प्रायोगिक तौर पर यदि कोइ विरोध करे तो बडे आराम से आतंकवाद का धर्म पता लग जाएगा। मरे हुए आतंकवादियों को कचरे
के ढ़ेर के साथ जला देना चाहिए.

१. दफनाने से साबित होता है कि
आतंकवाद का कोई धर्म जरुर है.
२. वैसे भी आतंकवादी के शव कोई
देश वापस नहीं लेता है तो अपनी
जमीन पर उनको दफनाने का क्या
औचित्य?
३. हर आतंकवादी को ये संदेश
जायेगा कि मरे तो जन्नत का तो
पता नहीं दो गज जमीन तक नहीं
मिलेगी.
४. मरने के बाद मानवाधिकार का
मामला भी नहीं बनता.
५. अपने देश की जमीन उन नापाक
इरादे रखने वालों दफन के लिए
इस्तेमाल क्यों करनी?
६. आतंकवाद को धर्म नहीं मानने
वालों की पहचान हो जायेगी.
७. आतंकियों की पैरवी करने वालों
की पोल खुल जायेगी और पता
चल जायेगा कि यहॉ कितने भेड़िये
पल रहे है ?
८. आतंकवाद की जगह कचरे में
होगी तो सारे विश्व में श्रेष्ठ संकेत
जायेगा कि आप वास्तव में आतंकवाद
को किस तरह से नष्ट कर सकते हो.
९. यह भी पता लग जायेगा कि
इनको कचरे के साथ जलाने से
कितनों की जलती है.

कम से कम एक दो ग्रुप में जरूर शेयर करे ...👍
Add a comment...

Post has attachment
जय श्री कृष्णा राधे राधे
Photo
Photo
03/07/2016
2 Photos - View album
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded