Profile cover photo
Profile photo
Only Ayurvedic
2 followers
2 followers
About
Posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
डेंगू (Dengue) :
आजकल देश के अनेक हिस्सों खासकर दिल्ली व हरियाणा के एरिया में डेंगू बहुत फैला हुआ है। डेंगू होने पर बुखार बहुत तेजी से बढता है और आपके शरीर में खून (Blood ) में प्लेटलेट्स (Platelets) कम होने लगते हैं। और साथ ही शरीर में कमजोरी बढ़ती चली जाती है।और कई बार तो यह जानलेवा भी हो सकती है।
यदि आप इससे बचे रहना चाहते है तो बॉडी (Body) की इम्यूनिटी इंप्रूव (Improve immunity) करना जरूरी है। आज हम आपको ऐसे ही 10 फूड्स के बारे में जानकारी दे रहे हैं जिन्हें खाने से डेंगू का मच्छर यदि काट भी लेता है तो प्लेटलेट्स (Platelets) की संख्या कम नहीं होगी।
आइये जाने इन 10 चीज़ों के बारे में जो डेंगू से शरीर की रक्षा करती है
कद्दू का सेवन : कद्दू में विटामिन अ और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है जिस कारण शरीर की इम्यूनिटी इंप्रूव (Improve immunity) होती है और डेंगू से बचाव होता है।
नारियल पानी : अपने दैनिक जीवन में कम से कम 1 नारियल पानी जररू पियें क्योंकि इसमे एलेक्ट्रोलाईट (Elektrolait) होते हैं जो आपके (Platelets) बढ़ाते हैं।
अदरक का सेवन : अदरक का सेवन जरुर करें चाहे सब्जी में चाहे थोडा सा टॉफ़ी जितना चूस लीजिये इसमें एंटी बैक्टीरियल (Anti-Bacterial) गुण होते हैं जो डेंगू के असर से बचाते हैं।
पालक का सेवन : अपने भोजन में एक समय 1 कटोरी पालक की सब्जी के सेवन जरुर करें क्योंकि इसमे विटामिन के परचुर मात्रा में होता है जो खून (Blood ) में प्लेटलेट्स (Platelets) बढ़ाने में मदद करता है।
टमाटर का सेवन : टमाटर में विटामिन सी अधिक मात्रा में होता है जो आपको डेंगू के काटने से होने वाली कमजोरी को महसूस नहीं होने देता और एनर्जी भी देता है
तुलसी : तुलसी का सेवन भी आपकी डेंगू से रक्षा करता है इसमे एंटी बैक्टीरियल (Anti-Bacterial) गुण होते हैं जो शरीर की इम्यूनिटी (Immunity) को बढ़ाते हैं।
संतरा या आंवला : रात को सोते समय किसी मिट्टी का बर्तन या कांच के बर्तन में थोडा सा सुखा आंवला पानी में भिगो दें और सुबह खली पेट उस पानी को छान कर पी लें आपकी इम्यूनिटी (Immunity) पॉवर बढ़ जायेगी क्योंकि आंवला और संतरा दोनों ही विटामिन सी से भरपूर हैं या एक गिलास संतरे का जूस हर रोज़ पियें।
हल्दी का सेवन : हल्दी में करक्यूमिन (Circumin) होता है जो हमारी बॉडी का मेटाबोलिज्म (Metabolism) बढाता है जिस से डेंगू से बचाव होता है।
कीवी फल : कीवी में सभी फलो के मुकाबले ज़्यादा विटामिन (Vitamin) पाये जाते हैं, जिस कारण इसे विटामिन (Vitamin)का राजा भी कहते हैं। कीवी फाइबर(Fiber), विटामिन ई (vitamin E ), विटामिन सी (vitamin C) , एंटीआक्सीडेंट्स(antioxidants) , फ़ोलिक एसिड (folic acid), कैरोटेनाइड्स (Krotenoids) और कई प्रकार के मिनिरल्स भी पाये जाते हैं जो डेंगू में हमारे शरीर के लिए अमृत समान है।
मेथी के पत्ते : मेथी के पत्ते बुखार कम करने में सहायता करते हैं।और आसानी से नींद लाने में मदद करते हैं। मेथी की पत्तियों को पानी में भिगोकर उसका पानी पीया जा सकता है। या इसके स्थान पर मेथी पाउडर को भी पानी में घोलकर पी सकते हैं।
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
1 Oct 2016- से बदल जाएंगे रेलवे के ये 10 नियम
अगर आप रेलवे में सफर करते हैं तो जरा इस खबर को ध्यान से पढ़ें। अगर आपने इस खबर को मिस कर दिया तो आपको परेशानी हो सकती है। दरअसल 1 Oct 2016 से रेलवे में कई बदलाव होने वाले हैं। अगर आप ने इस बदलावों के बारे में नहीं जाना तो आपकी मुश्किल बढ़नी तय हैं। जानिए क्या है वो अहम बदलाव…
Add a comment...

Post has attachment
1 Oct 2016- से बदल जाएंगे रेलवे के ये 10 नियम
अगर आप रेलवे में सफर करते हैं तो जरा इस खबर को ध्यान से पढ़ें। अगर आपने इस खबर को मिस कर दिया तो आपको परेशानी हो सकती है। दरअसल 1 Oct 2016 से रेलवे में कई बदलाव होने वाले हैं। अगर आप ने इस बदलावों के बारे में नहीं जाना तो आपकी मुश्किल बढ़नी तय हैं। जानिए क्या है वो अहम बदलाव…
Add a comment...

Post has attachment
1 Oct 2016- से बदल जाएंगे रेलवे के ये 10 नियम
अगर आप रेलवे में सफर करते हैं तो जरा इस खबर को ध्यान से पढ़ें। अगर आपने इस खबर को मिस कर दिया तो आपको परेशानी हो सकती है। दरअसल 1 Oct 2016 से रेलवे में कई बदलाव होने वाले हैं। अगर आप ने इस बदलावों के बारे में नहीं जाना तो आपकी मुश्किल बढ़नी तय हैं। जानिए क्या है वो अहम बदलाव…
Add a comment...

Post has attachment
हिन्दुओं में पितृपक्ष और नवरात्रों का काफ़ी महत्व है. पितृपक्ष में जहां हम अपने पूर्वजों को याद करते हैं, वहीं नवरात्रों में बड़ी धूम-धाम से शक्ति की देवी दुर्गा की उपासना करते हैं. कहा जाता है कि करीब 16 दिनों तक चलने वाले पितृपक्ष में किसी भी नए या शुभ काम को नहीं किया जाता. वहीं देवी के 9 दिनों में बिना पत्रों को देखे किसी भी शुभ काम को किया जा सकता है.
Add a comment...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded