Profile cover photo
Profile photo
Astrologer Sidharth
6,059 followers -
Famous Astrologer
Famous Astrologer

6,059 followers
About
Astrologer Sidharth's posts

Post has attachment
“जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन जैसी”

रामचरितमानस में तुलसीदासजी ने स्‍पष्‍ट कर दिया कि जैसी भक्त की प्रकृति होगी, वैसे ही उसके देव होंगे। देखनें में यह बात बहुत सहज लगती है, लेकिन गौर किया जाए तो ज्‍योतिषीय दृष्टिकोण से जातक की प्रकृति और उसके देवता की प्रकृति में मेल कराना बहुत टेढ़ा काम होता है।

Post has attachment

Post has attachment
वस्‍त्रों की खुद की भी तासीर होती है। अगर महीन धागों से बुना हुआ गाढ़ा वस्‍त्र हो, प्रति मीटर जिसका घनत्‍व अधिक हो और आंशिक रेशे हुए निकले दिखाई दे तो वह सूर्य का वस्‍त्र होता है। रेशम से बने वस्‍त्र को शनि का वस्‍त्र कहा गया है। केतू का वस्‍त्र डॉटेड पोल्‍का की तरह होंगे। बुध का वस्‍त्र महीन और काला रंग लिए हुए होगा। राहू का वस्‍त्र चित्र- विचित्र कहा गया है। 

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded