Profile cover photo
Profile photo
Sharad Gupta
414 followers -
JAGADGURU SHRI KRIPALUJI MAHAPRABHU IS 'MY SPIRITUAL MASTER' (EVERYTHING)FOR ME.
JAGADGURU SHRI KRIPALUJI MAHAPRABHU IS 'MY SPIRITUAL MASTER' (EVERYTHING)FOR ME.

414 followers
About
Sharad Gupta's posts

Post has attachment
Photo

Post has attachment
Photo

Post has attachment
Photo

Post has attachment
**
हार्दिक आभार। जे.के.पी. के समस्त कार्य अबाध गति से आगे बढ़ते जा रहे हैं।
J.K.P.(Jagadguru Kripalu Parishat) की तीनों अध्यक्षायें श्री महाराजजी के
पद्चिन्हों पर चलते हुए ,रात दिन प्रेम रस सिद्धांत का प्रचार प्रसार करते
हुये इन सिद्धांतों पर आधारित भक्तियोग...

Post has attachment
**
राधे-राधे। कुछ मित्रों ने अपना आर्थिक सहयोग प्रदान करने हेतु मेरा Account Number
दुबारा पोस्ट करने को कहा है क्योंकि वो पोस्ट जिसमें सुश्री श्रीधरी दीदी
द्वारा प्रचार यज्ञ में आर्थिक सहयोग की अपील की गई थी वो काफी नीचे चली
गयी है,और आप में से अधिकांश को ...

Post has attachment
**
जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के श्रीमुख से...!!! तुम संसार से मन हटा कर राधाकृष्ण में,गुरु में लगाओ तो मन शुद्ध होगा।
जिसको कृपा का भरोसा हो गया उसको और कुछ नहीं करना। उस कृपा के भरोसे को
लाने के लिये साधना करनी होती है। कीर्तन करो,रूपध्यान करो,आँसू बहा...

Post has attachment
**
समस्त जीवात्माओं की आत्मा केवल परमात्मा श्री कृष्ण ही हैं। कृष्णमेन मवेहि त्वमात्मानं सर्वदेहिनाम ( भागवत) उन परमात्मा श्री कृष्ण की आत्मा एकमात्र वृषभानुनंदिनी राधा हैं। आत्मा तु राधिका तस्य (स्कंद पुराण) अतएव समस्त प्राणी एक मात्र श्री कृष्ण के दास हैं। ऐ...

Post has attachment
**
जय हो जय हो अलबेलो सरकार, बलिहार बलिहार। जय हो नागर नंदकुमार, बलिहार बलिहार। जय हो राधा प्राणाधार, बलिहार बलिहार। जय हो सखिन प्राण साकार ,बलिहार बलिहार। जय हो रसिकन को सरदार, बलिहार बलिहार। जय हो दिव्य प्रेम अवतार, बलिहार बलिहार। जय हो मम 'कृपालु' सरकार, बल...

Post has attachment
**
हे
प्राणेश्वर ! कुंजबिहारी श्रीकृष्ण ! तुम ही मेरे जीवन सर्वस्व हो ।
हमारा–तुम्हारा यह सम्बन्ध सदा से है एवं सदा रहेगा (अज्ञानतावश मैं इस
सम्बन्ध को भूल गयी)।तुम चाहे मेरा आलिंगन करके मुझे अपने गले से लगाते
हुए, मेरी अनादि काल की इच्छा पूर्ण करो, चाहे उ...

Post has attachment
**
अरे
मन ! इस संसार का समस्त व्यवहार झूठा है। जब तक किसी के पास तन, मन, धन
एवं सहायकजन रहते हैं तब तक उसे सब संसार पूछता है किन्तु जब इनका अभाव
देखता है तब अपना परिवार भी उसे छोड़ देता है। जब तक किसी से स्वार्थ सिद्ध
होता रहता है तब तक उससे हजारों नाते जोड़...
Wait while more posts are being loaded