Profile cover photo
Profile photo
Shanti Purohit
382 followers
382 followers
About
Shanti's posts

Post has attachment




Sent by WhatsApp
Photo

Post has attachment
रंग विषयाधारित
रंग (विषयाधारित) 'अब तुम भी अपना रंग दिखाओगी मुझे?, नही मेम साहब रंग नही, सच में मैं, अब काम छोड़ रही हूँ, मेरा मर्द अब सरकारी अस्पताल में ठेके में चपरासी की नौकरी लगा है। अब मैं भी आपकी तरह मेम बनकर घर पर बैठेगी !,बहुत अरसे से हसरत थी। मेम साहब…" मेम साहब m...

Post has attachment
नियति
नियति शादी होने में अभी वक़्त था कि सड़क दुर्घटना में रमा का चेहरा विकृत हो गया, सिर्फ एक बार रवि का फोन आया था। तीन साल होने को आये एक बार भी आकर देखा नही, शायद अंतर की सुंदरता उसके लिए कोई मायने नही रखती। अचानक रवि ने रमा को सामने देखा तो अचकचा कर बोला रमा ...

Post has attachment
माँ भारती
"देश की रक्षा के लिए किये जा रहे युद्ध में आज वीर सैनिक रघुवीर प्रताप सिंह की बहुत जरूरत महसूस की जा रही है, अभी भी रवानगी में कुछ दिन बाकी है!  काश वो पहुँच ही जाये।, सेना के बड़े अधिकारी आपस में विचार विमर्श कर रहे थे।, "माँ , मेरे अलावा तुम्हे देखने वाला ...

Post has attachment

Post has attachment
**
1 सभी जायके पकवान पे भारी माँ तेरी रोटी           2             यही नियति               दुःख जड़ भीतर                सुख पलता                              3                                अकेला मन                                    यादो का मधुबन             ...

Post has attachment
यह कैसा स्वप्न
 कैसा यह स्वप्न दादाजी , आज हम दोनों साथ-साथ खाना खाएंगे, साथ ही रात्रि सैर करने भी जायेंगे।, कितने दिन हुए है, शतरंज की बाजी भी नही खेली। दादी को भी टेनिस में हराना है। मेरा दोस्त पल्लव हमेशा कहता रहता है कि "तेरे दादा-दादी तुझे कितना प्यार करते है हमेशा त...

Post has attachment
अनजानी राह
अनजानी राह सतविंदर कभी अपनी माँ से एक दिन के लिए भी दूर नही गया। स्कूल भी जाता तो वापस आकर माँ से लिपट जाता था। बेहद शर्मीले स्वभाव का लड़का था सतविंदर। बुरे दोस्तों की संगत में ऐसा पड़ा कि घर से रिश्ता ही टूट गया । दोस्तों ने उसे एक अनजानी राह पर भटकने के लि...

Post has attachment
हम बहुत कुछ है
पापा मेरा रिजल्ट आगया , देखो मैं भी अपनी चारो बड़ी बहनो से कम नही हूँ!,  रीना हाँफती हुई आयी और पापा के पैर छूने झुकी, इतने में पापा ने उसे उठाकर गले लगाया। गर्व से पापा का सीना चौड़ा हो गया । " देखो आज मेरी सभी बेटियां प्रशासनिक सेवा में चयनित हो गयी ! गदगद ...

Post has attachment
छुआछूत ,पेट पूजा
"छुआछूत " पेट पूजा  भोजन की सख्त जरूरत महसूस की जा रही थी, सभी शिकारी थक चुके थे।वापस जंगल से शहर का लंबा रास्ता तय करने के लिए शरीर में ऊर्जा की अति आवश्यकता थी। " आप सब बहुत थके हुए, और भूख से बेहाल लग रहे हो , उच्च जाति के लोग लग रहे हो, निम्न जाति के व्...
Wait while more posts are being loaded