Profile cover photo
Profile photo
Devji Blog
13 followers
13 followers
About
Posts

Post has attachment
भारतीय राजनीति के अनसुलझे प्रश्न ?
आजकल काफी राजनीति हो रही है हिन्दू-मुस्लिम, देशप्रेम- अलगाववाद, सेकुलर-अनसेकुलर, भ्रष्टाचार, जाति-धर्म के मुद्दों, पर, देश के हिन्दुओ को आपस मे लड़ाने, जाति के अनुसार बांटने की पुरजोर कोशिश की जा रही है  1. यदि पाकिस्तान
और भारत का बटवारा धर्म के आधार पर हुआ...
Add a comment...

Post has shared content
सरकार ने कुछ कदम उठाए है, जनता ने भी सरकार का सहयोग भी दे रही है किन्तु अभी कुछ कार्य बाकी है, किन्तु जनता को अभी और जागरूक होना बाकी है व सरकार को कुछ और कदम उठाने बाकी है| तो आइये देश की राजनैतिक स्तर को सुधारने के लिए कुछ और प्रयास करते है, क्या आप साथ है ?
पड़िए इस लेख को और बताइये अपनी राय ?
Add a comment...

Post has shared content
जब इवीएम से बूथ कैप्चरिंग नहीं हो पा रही है तो कुछ राजनैतिक पार्टी इवीएम का पुरजोर विरोध कर रही है | ये सारी घटनाएँ भी राजनीति के गिरते स्तर को प्रतिबिंबित करती है।
आपकी क्या राय है evm मुद्दे पर ?
पढ़िये इस लेख को, और अपनी राय अवश्य बताए ?
Add a comment...

Post has shared content
वजोत सिंह सिद्धू का काँग्रेस मे जाना, नरेश अग्रवाल का बीजेपी मे जाना, और सबसे बड़ी देश कि जनता से धोखा, मायावती का सपा को समर्थन देना| ऐसा नहीं है कि इसके ख़िलाफ़ कोई कानून नहीं है…लेकिन हमाम में सब नंगे हैं तो कौन आवाज़ उठाएगा? क्या आप?
पड़िए ये लेख और बताए आफ्नै राय ?
Add a comment...

Post has shared content
विपक्ष द्वारा सरकार के हर कामों में अनावश्यक बाधा डालना
अब तो ऐसी परंपरा ही चल पड़ी है कि विपक्ष सत्तापक्ष के हर कार्यों में ब्यवधान डालने की कोशिश करता है और उसकी आलोचना करता है। संसद,राज्यसभा,विधानसभा हर जगह विपक्ष अनावश्यक विवाद पैदा करने की कोशिश करता है ताकि सरकार के कामों में व्यवधान पैदा हो। अक्सर ही हम सब ने संसद,राज्यसभा और विधानसभा में विपक्ष द्वारा हंगामें की तश्वीरों को देखते हैं। ]
आपकी क्या राय है ?
Add a comment...

Post has shared content
दिग्विजय सिंह,फारुख अब्दुल्ला,साक्षी महाराज,गिरिराज सिंह,ममता बनर्जी,सुब्रमण्यम स्वामी,लालू यादव,मुलायम सिंह,आजम खान,अकबरुद्दीन ओवैसी और सीताराम येचुरी जैसे लोग प्रमुख रूप से शामिल हैं….जो अक्सर ही विवादास्पद बयानबाज़ी के चलते सुर्खियों में बने रहते हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि इन लोगो ने देश के सबसे बड़े संवैधानिक पद “प्रधानमंत्री” पद की गरिमा को भी तार-तार कर दिये है जैसे मणिशंकर अय्यर, लालू, अकबरुद्दीन ओवैसी, और राहुल गांधी जैसे राजनीति के दिग्गजों ने प्रधानमंत्री मोदी के बारे मे जिस प्रकार टिप्पणी कि है उसके बारे मे अब क्या कहे|
आपकी क्या राय है नेताओ के बड़बोलेपन के बारे मे ?
Add a comment...

Post has shared content
शाहबुद्दीन,मुख्तार अंसारी,राजा भैया,अतीक अहमद,अरुण गवली जैसे हज़ारों नेता हैं जिनके ऊपर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। लेकिन सत्ता की चाह में सभी राजनीतिक पार्टियाँ इन्हें अपने पक्ष में करने में लगी रहती हैं। यहा मै आपको ये भी बताना चाहूँगा के देश के 2019 के चुनाव मे प्रधानमंत्री के पद के दावेदारों मे एक काँग्रेस के राहुल गांधी जी नेशनल हेराल्ड केस मे स्वयं जमानत पर है और आजकल मौजूदा सरकार को घोटालो पर काफी ज्ञान दे रहे है, लालू यादव जी जेल मे है और भ्राष्ट्रचर के मामलो पर बहुत मुखर वक्तव्य दे रहे है, ममता बनर्जी की आधी पार्टी शारदा चिट्फूंद घोटालो मे व अवैध हथियार के केसो मे आरोपित है किन्तु प्रधानमंत्री की दौड़ मे वे भी शामिल है और ये सभी आपको अपराधमुक्त वातावरण दे सकेगे, आप ही बताइये?
आपकी क्या राय है ?
Add a comment...

Post has shared content
भारत में अवैध घुसपैठ भी भारतीय राजनीति के गिरते स्तर को उजागर करता है। इस घुसपैठ में कथित रूप से बंगाल का नाम सबसे ज्यादा आता है जहाँ लंबे समय तक वामदलों का शासन था। बंगाल आर तमाम उत्तर पूर्वी राज्यों में घुसपैठ की समस्या अब विकराल रूप ले चुकी है। और ये सब हुआ राजनीतिक दल के लोगों के मिलीभगत के कारण।
जानिए क्या वजह है भारतीय राजनीति की गिरते स्तर की, आपकी क्या राय है ?
Add a comment...

Post has shared content
काँग्रेस और समाजवादी पार्टी और तृणमूल ने अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के ज़रिए खूब चांदी काटा जबकि भाजपा ने राम मंदिर के मुद्दे पर हिंदुओं की सहानुभूति बटोरी और सत्ता तक भी पहुँचे। जबकि लोजपा और बसपा आरक्षण और दलितों के नाम पर हमेशा सत्ता के गलियारे में बने रहे। जबकि पृथकतावादी मजदूरों की राजनिति करके वामदल हमेशा काँग्रेस की कृपापात्र बनी रही।जबकि राजद जातिवादी राजनीति से लगभग एक दशक तक राज्य की सत्ता में बनी रही। आज़ भी देश में विकास,शिक्षा,और रोज़गार की जगह धर्म,आरक्षण,तुष्टीकरण,और जातिवाद जैसे मुद्दे ही चुनावों में मुख्य रूप से हावी रहते हैं।
जाने अन्य वजहों के बारे मे जिसने देश की राजनीति का स्तर गिराया है और आपकी राय क्या है अवश्य बताए ?
Add a comment...

Post has shared content
एल आई सी घोटाला,तेलगी स्टाम्प घोटाला,मधु कोड़ा घोटाला,बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज घोटाला,चारा घोटाला,नेशनल हेराल्ड घोटाला समेत अनेक मामले पर विस्तरत चर्चा आइये पढे इस लेख को और बताए आपकी राय क्या है भारत मे काँग्रेस के घोटालो की राजनीति पर?
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded