Profile cover photo
Profile photo
Rahul Sharma
5,290 followers -
I just do what i want. It's not about what people are saying, it's about me
I just do what i want. It's not about what people are saying, it's about me

5,290 followers
About
Rahul Sharma's posts

Post has attachment
मुस्कुराते रहिये
खुशियों की गर हो ख्वाहिश तो मुस्कुराते रहिये . हर वक़्त कोई नग़मा बस गुनगुनाते रहिये . ग़र्दिश में होंगे दिन तो अपने ना साथ देंगे . इक दिल -अज़ीज़ साथी अपना ...

Post has attachment
मोहबत की शायरी
मोहबत को…. मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है, और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं, “वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो, वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

Post has attachment
दर्द भरी शायरी दो लाइन
कभी हम दीदार…. उनका भी कभी हम दीदार करते है उनसे भी कभी हम प्यार करते है क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते है !

Post has attachment
शायरी दर्द भरी इन हिंदी
जो हुक्म देता है… जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी रखता है. दूर बैठे आसमाको कभी जुकना भी पड़ता है. अगर तू बेवफा है तो सुन….. मेरा कोई दूसरा भी इंतिजार करता है.

Post has attachment
दिल से दिल तक शायरी
दिल से दिल तक... जब कोई ख्याल दिल से टकराता है ॥ दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है ॥ कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है॥ कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है ॥

Post has attachment
हिंदी में दो लाइन शायरी
चाँद का क्या… चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली, कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली, उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे, शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली |

Post has attachment
हिन्दी बेवफा शायरी
आँखों से आंसू… आँखों से आंसू न निकले तो दर्द बड जाता है, उसके साथ बिताया हुआ हर पल याद आता है, शायद वो हमें अभी तक भूल गए होंगे, मगर अभी भी उसका चेहरा सपनो में नज़र आता है |

Post has attachment
हिन्दी दर्द भरी सायरी
हमने भी… हमने भी कभी प्यार किया था, थोड़ा नही बेशुमार किया था, बदल गयी जिंदगी तब, जब उसने कहा अरे पागल मैने तो मज़ाक किया था…

Post has attachment
दर्द भरी लाइन
अगर वो मांगते… अगर वो मांगते हम जान भी दे देते, मगर उनके इरादे तो कुछ और ही थे, मांगी तो प्यार की हर निशानी वापिस मांगी, मगर देते वक़्त तो उनके वादे कुछ और ही थे |

Post has attachment
तन्हाई भरी शायरी
  तनहाई में फरियाद… तनहाई में फरियाद तो कर सकता हूँ, वीराने को आबाद कर सकता हूँ, जब चाहूँ तुम्हे मिल नहीं सकता, लेकिन जब चाहूँ तुम्हे याद कर सकता हूँ |
Wait while more posts are being loaded