Profile cover photo
Profile photo
keshav pradhan
20 followers
20 followers
About
Posts

Post has attachment
बेज़ान सी हो गई है ऱूह मेरी,
के सड़के भी अब सूनी हो चली।
पत्तों ने भी छोड़ दिया साथ पेड़ों का,
के हवा भी अब कुंद हो चली।
के आज़ा अब तो मेरे ऱुठे हुए यार,
के सांसे भी अब ऱूह छोड़ चली।
-केशव प्रधान"जिया"
Photo

Post has attachment
बेज़ान सी हो गई है ऱूह मेरी,
के सड़के भी अब सूनी हो चली।
पत्तों ने भी छोड़ दिया साथ पेड़ों का,
के हवा भी अब कुंद हो चली।
के आज़ा अब तो मेरे ऱुठे हुए यार,
के सांसे भी अब ऱूह छोड़ चली।
-केशव प्रधान"जिया"
Photo
Add a comment...

इक फूल अज़ीब था,
कभी हमारे भी क़रीब था।
चाहने लगे जब... उसे खुद से ज़्यादा,
पता चला के वो...
हमसे भी ज़्यादा किसी और के क़रीब था।।
Add a comment...

Post has attachment
I just discovered an app called mCent that gives you free mobile airtime for trying apps on your phone. Give it a try: https://mcent.com/app/?mcode=XWNI86&tcx=OTHR
Add a comment...

Post has attachment
हैरां-हैरां है क्यूँ...?
खोई-खोई है क्यूँ...?
ज़िंदगी मेरी,
बिन तेरे जिया...

आकर रूबरू ये बतला जा,
के खफ़ा-खफ़ा है क्यूँ...?
ज़िंदगी मेरी,
बिन तेरे जिया...
-केशव प्रधान"जिया"
Photo
Add a comment...

Post has attachment
keshav pradhan commented on a post on Blogger.
बहुत सुंदर पंक्तियाँ...
माँ का मन
माँ का मन
vasupandey.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
अति सुंदर रचना...
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
ओ मेरे माही...
ओ मेरे माही...
jiyaslove.blogspot.com
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded