Profile

Cover photo
Sanjay Uchcharia
Lives in Dhar, Madhya Pradesh
12 followers|6,147 views
AboutPostsPhotosYouTube

Stream

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
**
i feel sad that the pair of Purple Sunbird seemed died in the miserable weather. they have just prepared their nest 5 days ago (05/03/2015) and it was almost completed and this sad thing happened. the nest is hanging on my TV cable wire and am still waiting...
i feel sad that the pair of Purple Sunbird seemed died in the miserable weather. they have just prepared their nest 5 days ago (05/03/2015) and it was almost completed and this sad thing happened. the nest is hanging on my TV...
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
Ek Shaam
''Zindagi do pal ki... ...intezar kab tak hum karenge bhala.... ....tumhe pyar kab tak na karenge bhala... ''Barish ki suhani shaam ko.. Jab bike par hote h.. Apna fvr8 song sunte huye... or Jab barish ki fuhare chehre ko chhuti hai... Tab yaad aati hai... ...
 ·  Translate
''Zindagi do pal ki... ...intezar kab tak hum karenge bhala.... ....tumhe pyar kab tak na karenge bhala... ''Barish ki suhani shaam ko.. Jab bike par hote h.. Apna fvr8 song sunte huye... or Jab barish ki fuhare chehre ko chh...
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
...एक सर्द शाम
एक सर्द शाम की धुंधलायी सी रोशनी; और एक पुराना ख्याल। एक वाकया, जो अचानक ही कही से आखों के सामने आ कर चला जाता है। यादों की एक पगडंडी की तरह, बढते चले जाता हूँ उन पुरानी बातों की उधेड़ बुन में उन खयालो में जिनका तब भी कोई वजूद नहीं था और अब भी नही।
 ·  Translate
एक सर्द शाम की धुंधलायी सी रोशनी; और एक पुराना ख्याल। एक वाकया, जो अचानक ही कही से आखों के सामने आ कर चला जाता है। यादों की एक पगडंडी की तरह, बढते चले जाता हूँ उन पुरानी बातों की उधेड़ बुन में उन खयालो में जिनका तब भी कोई वजूद...
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
Dhar Fort
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
तब-तब ही लिखा जब कुछ टुटा या कोई छुटा। आज कुछ नहीं बस यूँ ही लिखने को जी चाहा। पता चला कि लिखने की एक आदत सी हो गयी है। हम सभी लिखते है कभी न कभी। फिर जख्म भर जाते है या भोलापन कही खो जाता है और इस तरह लिखना छुट जाता है। फिर बस एक सोच रह जाती है। हम जड़ होते जाते है लेकिन भावना शुन्य नहीं। वो या तो दबा ली जाती है या कुंठित होती जाती है। शायद दुनिया इसे सयानापन कहती हो। लिखते रहना चाहिए। इससे हम जीवित महसूस करते है। खुद से गुफ्तगू करने का एक बहाना मिलता है। वरना सोचो! कब हमने खुद से खुद का हाल पूछा?


Shared from Google Keep
 ·  Translate
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
1
Add a comment...
In his circles
38 people
Have him in circles
12 people
chelladurai pandian's profile photo
Devendra Singh's profile photo
Kamal Choudhary's profile photo
Pinakin Barot's profile photo
Bablu Karoria's profile photo
SOURABH RAJE's profile photo
deepak soni's profile photo
Sanjay Uchcharia's profile photo
Mukesh Rajput's profile photo

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
ek shaam
''Zindagi do pal ki... ...intezar kab tak hum karenge bhala.... ....tumhe pyar kab tak na karenge bhala... ''Barish ki suhani shaam ko.. Jab bike par hote h.. Apna fvr8 song sunte huye... or Jab barish ki fuhare chehre ko chhuti hai... Tab yaad aati hai... ...
 ·  Translate
''Zindagi do pal ki... ...intezar kab tak hum karenge bhala.... ....tumhe pyar kab tak na karenge bhala... ''Barish ki suhani shaam ko.. Jab bike par hote h.. Apna fvr8 song sunte huye... or Jab barish ki fuhare chehre ko chh...
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
"...लिखते रहना चाहिये"
"तब-तब ही लिखा जब कुछ टुटा या कोई छुटा। आज कुछ नहीं बस यूँ ही लिखने को जी
चाहा। पता चला कि लिखने की एक आदत सी हो गयी है। हम सभी लिखते है कभी न
कभी। फिर जख्म भर जाते है या भोलापन कही खो जाता है और इस तरह लिखना छुट
जाता है। फिर बस एक सोच रह जाती है। हम जड़ ...
 ·  Translate
"तब-तब ही लिखा जब कुछ टुटा या कोई छुटा। आज कुछ नहीं बस यूँ ही लिखने को जी चाहा। पता चला कि लिखने की एक आदत सी हो गयी है। हम सभी लिखते है कभी न कभी। फिर जख्म भर जाते है या भोलापन कही खो जाता है और इस तरह लिखना छुट जाता है। फिर...
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
Ganesh Exhibition by Archeological Survey of India at Dhar.

1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
 
लिखता वही है जो घूमता है, महसूस करता है। 
 ·  Translate
1
Add a comment...

Sanjay Uchcharia

Shared publicly  - 
1
Add a comment...
People
In his circles
38 people
Have him in circles
12 people
chelladurai pandian's profile photo
Devendra Singh's profile photo
Kamal Choudhary's profile photo
Pinakin Barot's profile photo
Bablu Karoria's profile photo
SOURABH RAJE's profile photo
deepak soni's profile photo
Sanjay Uchcharia's profile photo
Mukesh Rajput's profile photo
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Dhar, Madhya Pradesh
Links
Contributor to
Story
Tagline
A cosmopolitan thinker who thinks beyond borders.
Introduction
Amateur photographer who shoot neglected, stones, birds and flowers, dinner plates to wide sky.
Basic Information
Gender
Male