Profile cover photo
Profile photo
Vikash Kumar
1,537 followers
1,537 followers
About
Vikash Kumar's posts

Post has attachment
हम जो अपनी शायरी से दूर हो गए
हम जो अपनी शायरी से दूर हो गए गोया कि मौत आयी , मज़बूर हो गए   इश्क़ में अश्क़ो के बिन मानी नहीं मिलता पानी के छींटे मार तुम , मंसूर हो गए   दर्द - ए - हिज्राँ में बने नाक़ाबिले ज़िकर तुम मिले और मुहल्ले में मशहूर हो गए   हाथ जोड़े बोलते , चुन लो हमें चुन ल...

Post has attachment
होगा
होगा. कभी होगा. मेरे और तुम्हारे बीच.  अनगिन समान्तर दुनियाओं की  किसी न किसी एक दुनिया में, किसी न किसी काल में. वक्त के वृक्ष में  इतनी जो सम्भावनाएँ हैं, इतनी जो शाखाएं हैं -  उनमें कहीं न कहीं  मेरे और तुम्हारे साथ होने की  संभावनाओं से उपजा फल - होगा. ...

Post has attachment
New Version of ZopNow Android App. Complete redesign - Lots of good things.

Post has attachment

Post has attachment
मैं एक कविता लिखना चाहता हूँ
1. मैं एक कविता लिखना चाहता हूँ - जिसमें खूबसूरत वादियों का, झरनों का जिक्र हो जिसमें बारिश की बूँदें हो, ओस हो, दूब हो, हरियाली हो. जिसमें एक लड़की झूले पे बैठी गीत गाती हो जिसमें लड़के छुप के प्रेम की कवितायें लिखें। पर हर कोशिश उगल देती है बंजर हुए खेत, लु...

Post has attachment
मैं एक कविता लिखना चाहता हूँ
1. मैं एक कविता लिखना चाहता हूँ - जिसमें खूबसूरत वादियों का, झरनों का जिक्र हो जिसमें बारिश की बूँदें हो, ओस हो, दूब हो, हरियाली हो. जिसमें एक लड़की झूले पे बैठी गीत गाती हो जिसमें लड़के छुप के प्रेम की कवितायें लिखें। पर हर कोशिश उगल देती है बंजर हुए खेत, लु...

Post has attachment
तुम्हारे असमंजस से मरा हूँ मैं
१. जब तुम अपने घरों में बंद देख रहे होते थे बड़ी जगमगाती स्क्रीनों पे खबर मेरे घरों पे गिरते बमों की और कर रहे थे तय कौन सही है कौन गलत - किसकी भर्त्सना करनी है और किसको सही ठहराना है. तब उनके बारूद से ज्यादा - तुम्हारे असमंजस से मरा हूँ मैं. २. मेरे युद्ध म...

Post has attachment
अनजान
जब बहुत बहुत वक्त बीत चुका होगा जब हमें एक दूसरे के नाम के अलावा कुछ पता नहीं होगा जब जाने पहचाने लम्हों, जगहों, कहानियों, कवितायों और फिल्मों के ऊपर जम चुकी होगी धूल जब तुम और मैं बिलकुल अनजाने हो जायेंगे। तब मैं चाहता हूँ मिलना तुमसे एक बार फिर और जानना च...

Post has attachment
उससे पहले कि मैं बीत जाऊँ
एक कटोरा काढ़ मुझे रख लो उससे पहले कि मैं बीत जाऊँ। उससे पहले कि कोई चिड़ियाँ मुझे ले उड़े या हवा झिटक दे कहीं दूर या ढँक दें पत्ते अपने पीलेपन से या रात की सर्दी में रीत जाऊँ। कैद कर लो इतिहास होते कंकाल को उससे पहले कि मैं बीत जाऊँ। तुम्हारे चेहरे पे जमी ...

Post has attachment
All new ZopNow android app
Wait while more posts are being loaded