Shared publicly  - 
 
Good morning ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
उसे जिन्दगी से बहुत प्यार था कैसा उसका तन होगा इसका उसे ख्वाब न था खुद उसके वादे उसके ही इश्क पर हँस रहे थे मुझको जब सब मिल गया था अब मैं नामुराद उदास आशिक ...
1
Add a comment...