Profile cover photo
Profile photo
Raj Kumar
244 followers -
SW Worker
SW Worker

244 followers
About
Raj's posts

Post has attachment
Selected Paragraphs of Karl Marx, Great Philosopher, Revolutionary and First Dialectical Materialist: On His Birth Day (5 May)
(Note: All emphasis is readers’. These paragraphs
illustrate the real basis of religion. We can conclude ourselves why so many spiritual
Gurus are taking birth every day. With the help of these short paragraphs we
can also conclude the motive of many leader...

Post has attachment
Che Guevara - Quote
The ultimate and most important
revolutionary aspiration: to see human beings liberated from their alienation. The
individual will reach total consciousness as a social being, which is
equivalent to the full realization as a human creature, once the chains ...

Post has attachment
Lenin on May Day - "Two worlds stand facing each other in this great struggle: the world of capital and the world of labour"
Lenin on May Day,  "May Day", "the day when the workers of all lands
celebrate their awakening to a class- conscious life, their
solidarity in the struggle against all coercion and oppression of
man by man, the struggle to free the toiling...

Post has attachment
देश में बड़ती गरीब-अमीर की खाई और लोगों का ध्यान मूल मुद्दों से भटकाने के कारण
“ हमारा उत्तरदायित्व है कि हम मौज़ूदा पीड़ियों को टकराव में टूट कर बिखरने से और
मानवीय रूप से विकृत होने या उनके द्वारा नई पीड़ियों को विकृत करने से बचायें। “ – चे ग्वेरा, लेटिन अमेरिका के महान क्रान्तिकारी एक संस्था ( Business and Sustainable Development C...

Post has attachment
Che Guevara: Quotes of Great Latin American Revolutionary


Post has attachment
स्वघोषित देश-भक्तों की भक्ति में कितना सच और कितना भ्रम
देश में रामराज आ रहा
है, और देश की अर्थव्यस्था आंकड़ों में तेजी से विकास कर रही है (आंकड़ों का खेल
भी अर्थशास्त्रियों द्वारा लोगों के सामने लाया जा चुका है)। ऐसे में लोगों की एक
ऐसी जमात सामने आ रही है जो सिर्फ नारों और शब्दों के दम पर खुद को दूसरों से बढ़ा...

Post has attachment
समाज के घटियापन और हर एक व्यक्ति के कर्म के बारे में मक्सिम गोर्की के कुछ व्यक्तिगत अनुभव
"अपने आप में छोटी विजय भी आदमी को अधिक प्रबल बनाती है।" - मक्सिम गोर्की आज कल के नौजवान जो
एक दायरे से आगे सोचने में अक्षम हैं क्योंकि वे जिस सामाजिक सांचे ढांचे में पल
बढ़ रहे हैं वह उन्हें अतार्किक बनाकर मुनाफे के लिये बिना कोई सवाल उठाये काम में
लगे रहने...

Post has attachment
नौजवानों, लेखकों और कलाकारों के संदर्भ में - मक्सिम गोर्की के कुछ शब्द (Maxim Gorky Quotes)
कलाकार अपने देश तथा वर्ग
का संवेदनशील ग्रहणकर्ता है – उसका कान, आँख तथा हृदय है। वह अपने युग की आवाज है।
उसका कर्तव्य है कि जितना कुछ जान सकता हो जाने और अतीत को वह जितनी भलीभाँति जानेगा,
वर्तमान को उतना ही अधिक अच्छी तरह समझेगा और उतनी ही गहराई और सूक्ष्मत...

Post has attachment
पूँजीवाद की कालिख को हटाकर सफेदी लाने के प्रयासों पर एक नज़र
यूँ तो  पूँजीवादी अर्थव्यस्था में पूरा काला धन सफेद हो जाये तब भी समाज की मेहनत-मज़दूरी करने वाली आबादी का भविष्य अन्धकारमय बना रहेगा, उसे रोज़गार की गारण्टी नहीं मिल सकती और जहाँ रोज़गार मिला भी है उसकी स्थिति ऐसी होगी जो एक दिहाड़ी गुलाम से अधिक नहीं होगी...

Post has attachment
An Undemocratic Mindset of Degree Holders : Our "Educated" Class
Engineers Today Remember the classical quote by Bertolt Brecht, " The world of knowledge takes a crazy turn when teachers themselves are taught to learn."   A student from AKGEC (this is my
college where I studied from 2002 to 2006) today asked me that I sh...
Wait while more posts are being loaded