Profile cover photo
Profile photo
Kunwar Avadhesh Shekhawat (Avi)
211 followers
211 followers
About
Posts

Post has attachment
A tribute to late Er. Pradeep Shekhawat...
यार हमारा, था सबसे प्यारा, कहां खो गया वो, ढूंढे उसे ये जहां सारा । हंसता हंसाता था वो, सबका मन लगाता था वो, कभी सपने बड़े बड़े दिखाये, कभी यूं ही रातों जगाता था वो । अपने पास क्यों तूने उसे बुलाया, क्यों यूं तूने हमें रूलाया, दूर हुआ जबसे है यार हमारा, झूठ...

Post has attachment
!! Dedicated to Daughters on International Women's Day !!
हां ये तेरी बदनसीबी है कि तू बेटी है । कभी घरवालों ने रोका, कभी समाज ने टोका । बढाने चाहे जो कदम तूने आगे, तो तुझे तेरे अपनो से ही मिला धोखा  ।। हां ये तेरी बदनसीबी है कि तू बेटी है । क्यों हो गई तू इतनी कमजोर, कभी होता है तुझपर भावनात्मक अत्याचार, तो कभी ह...

Post has attachment
एक प्रण
(19 मार्च 2013 को "पथ-प्रेरक" में प्रकाशित) चुप कर दो मुझे वरना मैं सत्य बोलुंगा, हर एक के दिल में क्रांति की चिंगारी छोडुंगा । सुनकर मुझे पानी हुआ खुन भी उबाल खोलेगा, यदि नहीं खोला तो तेरे खुन पर मेरा शक दोडेगा ।। क्षत्रिय होकर क्यों तू शुद्र से कृत्य करता...

Post has attachment
What's Next for the Dreamers..?
If you are a dreamer. This article is dedicated to you. Right now you are the most important person around. If you had been the only person to ever read this article, I would still have written it, just for you. You are that much special. What is a dreamer....

Post has attachment
!! Dadicated to My Big Brother (Cousin) on My 20th Birthday !!
काबिल नहीं मेरी कलम की कुछ लिखे आपके बारे में, क्षमा चाहता हूं फिर भी लिख रहा हूं । सुकुं मिल रहा है लिखकर इन शब्दों की वफाओं को, लिखना नहीं आता अभी तो लिखना सिख रहा हूं ।। सोच रहा हूं कहां से शब्द वो लाऊं, जो झंकारे दास्तां लिख दूं । इजाजत आप मुझे दे दो, इ...

Post has attachment
!! Dadicated to My Mother on My 20th Birthday !!
(1st January 2014 on my 20th Birthday)   आज  उस देवी के लिए कुछ तुकबन्दीयां बनाने बेठा हूं जिसने 9 माह अपनी कौख में रखकर आज के दिन मुझे जन्म दिया । जिसने हर वक्त अपनी खुशी से पहले मेरी खुशी का खयाल रखा है ।  क्या लिखूं तेरे लिए मां, तेरी तो कथा अनादि है, ना...

Post has attachment
!! Dadicated to Vidhya Bharti School, Sikar !!
अकसर उन दिनों की यादें मुझे रुला जाती है, जाता हूँ जब भी सीकर याद विद्या भारती की बहुत आती है । वो मेरा गौरव व मुरारी को सताना, रुठे दोस्तों को पंकज का मनाना । वो अशोक सर की बाईक की सवारी, वो संगीता, ट्रिंकल और स्नेहा की यारी । कभी मेरा निशा से झगड़ा तो कभी...
Wait while more posts are being loaded