Profile cover photo
Profile photo
Sweta Yadav
93 followers
93 followers
About
Sweta's posts

Post has attachment
**
रात के सन्नाटे में  टिक टिक करती घड़ी की सुइयां  अहसास कराती हैं  अपने अकेलेपन का  याद दिलाती हैं भूले बिसरे दिन  और कहती हैं कि  बहुत हो गया आ अब लौट चलते हैं  उन बस्तियों में जहाँ से  शुरू किया था तूने  ये कभी ना ख़त्म होने वाला  सफ़र ................... श्वेत

Post has attachment

Post has attachment
**
               “संसद का बदलता स्वरूप: बहस के
प्रति उदासीनता”  “ किसी
कार्यशील एवं जीवंत लोकतान्त्रिक समाज में सूखा पड़ सकता है, पर दुर्भि...

Post has attachment
**
            “नारी सबलीकरण:
नया विमर्श” कद्र अब तक
तेरी तारीख   ने जानी ही नहीं तुझ में शोले
भी हैं बस अश्कफ़िशानी ही नहीं तू हकीकत भी
है ...

पसे पनाह उन्हें याद आ गई वफ़ा कोई मेरी लहद पे जो वे सर झुकाए बैठें हैं !!!!!!!!!!!!
Wait while more posts are being loaded