Profile cover photo
Profile photo
asha pandey ojha
8,275 followers -
Asha Pandey Ojha Asha
Asha Pandey Ojha Asha

8,275 followers
About
Posts

Post has attachment
दोहे
दोहे
aashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
आईना
आइना  भला कब किसी को सच बता पाया है जब भी देखा दायाँ अंग बाईं तरफ नज़र आया है ऐसा नहीं  किधूप   जिंदगी में कभी आई ही नहीं आके पलट गई, जो देखा  दुआओं का साया है लाडले ने दुत्कारा,  फिर पिता ने अश्क पिए हैं बहू ने आज फिर न दी रोटी  माँ ने ग़म खाया है दिल उसका...
आईना
आईना
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
दोहा
अनुप्रास में दोहा जल बिन जलचर जल गए, जल-जल निकसी जान। मछली,मगर,मराल के,मीलों दिखे मसान।। आशा पाण्डेय ओझा
दोहा
दोहा
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
राजस्थानी गीत
ऐक राजस्थानी गीत थां बिन सूनां दिनड़ा म्हारा, थां बिन सूनी रात जी। आओ सायब चार दिवस थें, सुण लो मन री बात जी।। आखी आखी रात उडीके, जीव उडीके,गात उडीके। ओढ़ कसूम्बल रूप उडीके, लावण आळी ,धूप उडीके। तकतां तकतां मारग थांरो, ढळगी अणगिण रात जी।  चेत, जेठ, आसोज उडीके...
राजस्थानी गीत
राजस्थानी गीत
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
जीवन का उनवान है बेटी
जीवन का उनवान है बेटी। मेरा  तो अभिमान है बेटी। जब जब डूबे मन की नैया, धीरज देता छोर है बेटी। भरे उजाले दो -दो घर में, तमस मिटाती भोर है बेटी। दुःख को बाहर रोका करती, ईश्वर का  वरदान है बेटी। जीवन का उनवान है बेटी। मेरा तो अभिमान है बेटी।।  घर आले में दीप व...
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
कौन
भटकी नाव सँभाले कौन। जोखिम में जाँ डाले कौन।। पूत विदेशों के बाशिंदे, खोंलें घर के ताले कौन। सबके अपने अपने ग़म हैं, सुने हमारे नाले कौन। उसके जलवे और अदाएं, उसकी बातें टाले कौन। बारूदों पर जब चलना हो, पग के शूल निकाले कौन। रुग्ण पड़ी माँ बच्चे छोटे देगा इन्ह...
कौन
कौन
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
निश्चल छंद
निश्चल छंद धीमे-धीमे साँझ ढली कुछ, इस विध आज। नार नवेली सम थी उसके,मुख पे लाज।। चुनरी नीली थी कहीं कहीं,पीले हाथ । पल-पल उसे निरखता सूरज,चलता साथ।। आशा पाण्डेय ओझा
निश्चल छंद
निश्चल छंद
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
ग़ज़ल
याद की और ख़्वाब की बातें। हर घड़ी बस ज़नाब की बातें।। अब नये लोग सोच भी ताज़ा  हैं पुरानी हिज़ाब की बातें प्यार के दरमियाँ लगी होने देखिये अब हिसाब की बातें। गंध बारूद की उड़ी इतनी, गुम हुई  हैं गुलाब की बातें। पढ़ लिया भी करो कभी मन को, सिर्फ़ पढ़ते क़िताब की बातें...
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ashapandeyojha.blogspot.com
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded