Profile cover photo
Profile photo
Kanchan Pathak
124 followers
124 followers
About
Posts

Post has attachment
ठाकुर प्रसाद सिंह स्मृति सम्मान ...
27वाँ अट्टहास सम्मान समारोह, माध्यम संस्थान, लखनऊ.

Post has attachment

Post has attachment
बेटी के बिना हर परिवार का आँगन सूना है l
जिस घर बिटिया हो उस माँ-बाप का सुख दूना है ll

Post has attachment
हिंदी की अंतर्राष्ट्रीय मासिक पत्रिका " साहित्य क्रांति " (म.प्र.) में मेरी तीन कवितायेँ ...
Photo

Post has attachment
जन सामना में ...
Photo

Post has attachment
अट्टहास पत्रिका में मेरा साक्षात्कार ....

Post has attachment
**
गुन-गुन गुंजित भ्रमर गीत सुन कली सुंदरी मुस्काई, फागुन के आने की सुनकर हवा बसंती बौराई !! - कंचन पाठक.  Published in Kadambini. 

Post has attachment
वर्तमान परिप्रेक्ष्य में आपसी रिश्ते-नाते निभाना मज़बूरी या ज़रूरत ?
" रिश्ते-नातों में गायब हो रही मिठास " आधुनिक जीवन का
अगर कोई सर्वाधिक उपयुक्त पर्याय है तो वो है आत्मकेन्द्रित होता मनुष्य । महानगर
तो महानगर ग्रामीण समाज भी इस आत्मकेन्द्रित होती भावना से अब अछूता नहीं रहा ।
अगर देखा जाए तो मानव सभ्यता की सारी विकास कथा उ...

Post has attachment

Post has attachment
गर्भनाल पत्रिका में ....
Photo
Wait while more posts are being loaded