Profile cover photo
Profile photo
Swaran Anil
50 followers -
जीवन के आकाश में मनचाही उड़ान भरने का दम... पँखों की मज़बूती से नहीं हौसलों की मज़बूती से पाया है... मैंने !!
जीवन के आकाश में मनचाही उड़ान भरने का दम... पँखों की मज़बूती से नहीं हौसलों की मज़बूती से पाया है... मैंने !!

50 followers
About
Posts

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
वर्ष भर पहले हार्दिक पीड़ा और आक्रोश से मन आहत था तो मैंने अपने ब्लॉग पर लिखा था। वास्तव में यह बहुत बड़ा सच है कि जब अपने को चोट लगती है तो मर्मांतक पीड़ा होती है। हम हमेशा से.... और आज भी इस बात को गर्व से कहते हैं कि हमारा मायका देवभूमि हिमाचल प्रदेश की जिन मनमोहक वादियों में है उसको " किन्नर - कैलाश " की पर्वत श्रृंखलाओं नें घेरा हुआ है। वही " किन्नर-कैलाश " जो भगवान शिव से जुड़ा पवित्र तीर्थस्थल है।
हिमाचल के अत्यंत सुंदर प्रदेश " किन्नौर " के शांतिप्रिय और कलाप्रेमी और सम्पन्न भारतीयों की जनजाति का नाम है किन्नर। वैदिक युग से लेकर आज के भारतीय संविधान में जिस किन्नर जनजाति का वर्णन है उनको हिजड़ा या थर्ड जैंडर का नया अर्थ देने का ये कोई नया षडयंत्र है ? पढ़े-लिखे लोगों की ये कौन सी जमात है; जो भारतीयता व भारतीय संस्कृति को पूरी तरह से जाने बिना........
कभी पूर्वोत्तर, कभी पर्वतीय, कभी वनवासी और कभी जनजाति के लोगों की शांत जीवनशैली को अपने अर्थ देने की ठेकेदारी में लगे हैं????
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Photo
24/9/16
2 Photos - View album
Add a comment...

Post has shared content
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
दिनांक: 15-06-2016 9:43 PM
*कश्मीर का दशर महाकुंभ और आचार्य अभिनव गुप्त यात्रा *

जम्मू एवं कश्मीर में लगभग 12000 हिंदू " महाकुंभ ’' के लिए गांदेरबल जिले में झेलम (प्राचीन वितस्ता ) और सिंधु के संगम पर जुटे।
कश्मीर में महाकुंभ !! आज की परिस्थितियों में !! सुनकर, देखकर कितना अच्छा लगा ? इसे शब्दों में बाँधना असंभव है।
लगभग 75 वर्षों के बाद कश्मीर में " दशर महाकुंभ " का आयोजन हुआ।परंपरागत रूप से मनाया जाने वाला यह महापर्व ; कश्मीर में आखिरी बार 4 जून 1941 को मनाया गया था, जिसमें भारत और पाकिस्तान के लाखों श्रद्धालु उत्साहपूर्वक शामिल हुए थे।
जून 2016 से शुरू हुए इस महोत्सव को लेकर सभी लोगों में विशेष उत्साह दिखाई दिया। कश्मीर में महाकुंभ के इस पर्व का श्रीगणेश हुआ " माँ खीर भवानी " के मंदिर में पूजा अर्चना और आशीर्वाद के साथ ।
10 जून को निकली भारतीय संस्कृति के अप्रतिम पुरोधा " आचार्य अभिनव गुप्त जी " को समर्पित यात्रा। आचार्य अभिनवगुप्त ने अपने अस्सी वर्षों के सुदीर्घ जीवन को केवल तीन महत् लक्ष्यों के लिए समर्पित कर दिया-शिवभक्ति, ग्रंथ निर्माण एवं अध्यापन। उनके द्वारा रचित लगभग 50 ग्रंथ बताए जाते हैं, इनमें से केवल 20-22 ही उपलब्ध हो पाए हैं। शताधिक ऐसे आगम ग्रंथ हैं, जिनका उल्लेख-उद्धरण उनके ग्रंथों में है। अभिनवगुप्त के ग्रंथों की पांडुलिपियां दक्षिण में प्राप्त होती रही हैं, विशेषकर केरल राज्य में। उनके ग्रंथ संपूर्ण प्राचीन भारतवर्ष में आदर के साथ पढ़ाये जाते रहे थे।अद्वितीय प्रतिभा के धनी आचार्य अभिनवगुप्त कश्मीरी शैव दर्शन के प्रखर विद्वान और महान दार्शनिक थे। आगम व प्रत्यभिज्ञा दर्शन के प्रतिनिधि आचार्य होने के साथ ही वे साहित्य जगत में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते थे। परमार्थसार, प्रत्यभिज्ञा विमर्शनी, गीतार्थ आदि मौलिक ग्रंथों के साथ ही उन्होंने भारतमुनि के नाट्यशास्त्र और आनंदवर्धन के ध्वन्यालोक पर टीका भी की जो आज भी विश्व की कालजयी कृतियों में गिनी जाती है।
कश्मीर में ऐसी मान्यता है कि पृथ्वी पर अपनी भूमिका का सफल निर्वाह कर वे अपने शिष्यों के साथ शिव-आराधन करते हुए कश्मीर के बड़गाम के बीरवा गुफ़ा (भैरव गुफ़ा ) में शिवलीन हो गए।
इस वर्ष इस घटना के एक हजार साल पूरे होने की स्मृति में, अभिनवगुप्त के महाप्रयाण के सहस्त्राब्दी समारोह के अंतर्गत " आचार्य अभिनवगुप्त यात्रा " का महत्व भी और भी बढ़ गया ।
" दशर-कुंभ " की परम पावन संगम स्थली पर एक चिनार है जिसके नीचे शिवलिंग है, श्रद्धालु यहाँ नाव से पूजा करने जाते हैं। चिनार वाले आशुतोष शिव से, उस भोले-भंडारी से अपनी कामनाओं की पूर्ति का प्रसाद प्राप्त करते हैं और....आचार्य अभिनवगुप्त जी के अनमोल वरदान " प्रत्यभिज्ञादर्शन " से ओतप्रोत होकर " शिवोहम् - शिवोहम् " के सत्य से एकाकार हो... सर्वत्र सबमें उस शिवतत्व को देख सबके कल्याण के लिए समर्पित हो जाते हैं ।।
।। ॐ नमः शिवाय:****ॐ नमः शिवाय:****ॐ नमः शिवाय:।।
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded