Profile cover photo
Profile photo
frankspot
5 followers -
"मिटटी का तन , मस्ती का मन, क्षण भर जीवन, मेरा परिचय ...!"
"मिटटी का तन , मस्ती का मन, क्षण भर जीवन, मेरा परिचय ...!"

5 followers
About
frankspot's posts

Post has attachment
A Peculiar Girl!
In the first part of the Poem, a Boy is telling about his girlfriend to his friends. What does he say: 1 वो सुन्दर है, वो कोमल है, वो बाकी सबसे न्यारी है ! 2 वो लिखती है, वो पढ़ती है, और बातें उसकी प्यारी हैं !! 1 वो हंसती है तो भाती है, दिल क...

Post has attachment
Lucknow Nawabs | NPL
लखनवी नवाब हैं हम ! जम के खेलें, ओप्पोसिशन को पेलें, आगाज़ तो हैं ही, अंजाम भी हैं हम, लखनवी नवाब हैं हम ! सख्शियत है ऐसी की प्यार हो जाये, तेवर हैं ऐसे की दुश्मन को नींद ना आये, एनपीएल की जान हैं हम, लखनवी नवाब हैं हम ! बैटिंग को उतरें तो बोलर्स घरबरायें, फ...

Post has attachment
महिला शशक्तिकरण : नए दौर का भारत !
Today, I’m going to recite a poem which is
about a girl named Meena who pursues her passion & becomes a role model for
many.. इक्कीसवीं सदी के भारत की मैं , गौरव गाथा गाता हूँ , महिला शशक्तिकरण की तुमको आज एक कथा सुनाता हूँ ! एक लड़की , मीना , थी सीधी साधी च...

Post has attachment
वसुधैव कुटुम्बकम !
Vasudhaiva Kutumbakam is a
Sanskrit phrase which means "the world is one family" 1      एक बंधन जो जोड़े सबको कहलाता विश्वास है , 2     वसुधैव कुटुम्बकम का फैलता प्रकाश है ! Now, I would request you to please
close your eyes. Listen to the words and make a p...

Post has attachment
जी ले ज़रा !
दो पल का ये है जीवन, ना सोच - है ज्यादा के कम, क्यूँ व्यर्थ में चिंता करता है, करना ही है - तो कर चिंतन ! जो कब से दिल में था तेरे, वो अब भी दिल में है कहीं गुम, मानेगा मेरी तो सुन: तूं मन की कर - पर सबकी सुन ! जीवन एक ही है प्यारे, तूं मत रख मन में कोई भ्र...

Post has attachment
खुशियाँ है मकसद
सपने हैं इन आँखों में और हिम्मत है इन बाँहों में, लक्ष्य साध लिया है अब तो, निकल पड़ा हूं राहों पे ! कर लूंगा, जो भी है करना, इतना है विश्वास मुझे, अपनी पहचान बनानी है, नहीं रहना है सायों में ! नाम कामना नहीं है मकसद, मकसद है खुशियाँ पाना, पा लूंगा मैं खुशिय...

Post has attachment
स्व. डॉ. कलाम को समर्पित
सूरज उगता सूरज ढलता , दिन है चढ़ता दिन है ढलता, ये सब है निरंतर चलता ! पर एक सूरज ऐसा था, जो उज्जवल था - बस उज्जवल था, कभी ना थकता, कभी ना ढलता, दुनिया को प्रकाशित करता ! वो लिखता था, वो कहता था, और सबको ये बतलाता था, ना थकना है, ना रुकना है, वो सबको ये समझा...

Post has attachment
MY TRYSTS WITH LIFE
Hi! My name is
Gopal Sharma. I am 23 years of age. I am working here at Oceaneering as a
Design Engineer. My father is a teacher, a strict teacher I should say. My
mother is a home maker and world's best cook. My elder brother is an IT
Engineer. Today, I am...

Post has attachment
My speech on Murphy’s Law
Last week, I was searching for
Inspirational Speeches on Youtube. I found one titled ‘Life is easy. Why do we make it so hard?’ by Jon Jandai, who is a
farmer from Thailand. His philosophical views on Life inspired me a lot. In
that speech of his, he talked...

Post has attachment
FERGUSON CASE: LET'S STRIVE FOR 'FAITH'!
Source: Reuters What connects
people? What unites them? I had this thought in my mind after reading about the
Ferguson Case. Indeed, it’s not easy, but, not that difficult either, I
believe. After thinking for a while, I finally got the answer. Faith , I be...
Wait while more posts are being loaded