Profile cover photo
Profile photo
law kant Singh
31 followers
31 followers
About
law kant's posts

Post has attachment
सड़क के अरिया
सड़क के अरिया रहनी खाड़ा पसेना से भींजल तर बेचारा ताले लउकल अइसन दृश्य की बदल गइल मौसम सारा। उ लईकी ना रहली हूर रहली पाकत घामा में काहे मजबूर रहली सड़क के दोसरा ओरी ठार बाकि हमरा से बहुत दूर रहली। हम तकनी ह मुस्का के आ उ हंस देली चोना के मारनी मौका पर चौक हम ई...

Post has attachment
**
खदेरन के पाठशाला 8 (सभे क्लास में जहां तहां बईठल बा) खदेरन-जानत बारे ढोंढा भाई...एगो आउर नाया गाना हमार छोटका बाबूजी लिखले ह आ अपना दोस्त से गवईहें.. ढोंढा-सुनाओ मरदे तनी हमनियो के.. एतना त तुही गा लेबे अभी. लबेदा-रे धरिछ्ना के पोता केंवरिया ओठगा दे ना त मा...

Post has attachment
**
खदेरन के पाठशाला 7 (ढेलवा फाटक बाबा के लड़िका नथुनी के भुईयाँ पटक के मार रहल बा,बाकी लोग लिलकारता आ थपरी पीट-पीट के माजा ले रहल बा,मास्टर साहेब के साथे खदेरन के एंट्री होता,सब लोग भाग के अपना सीट पर पहुँच जाता आ ढ़ेलवा आ नथुनी धरा जाता) मास्टर साहेब-ऐ,काहे मा...

Post has attachment

Post has attachment
**
खदेरन के पाठशाला 6 (क्लास के सारा लईका भीड़ लगवले बारन स... खदेरन आ ढोंढा मिलके लबेदवा के हुंक रहल बा लोग..मास्टर साहेब के एंट्री) मास्टर साहेब-ए ई का भीड़ लगा के रखा है जी तुम लोग..(सब अपना-अपना सीट पर भागत बारन स) नहीं मानेगा का तुम लोग...इ लड़ाई काहे कर रहा...

Post has attachment
**
वो कॉलेज के दिन अधपकी जवानी शैतानियों का मौसम याद है मुझे। वो नए-नए दोस्त  नया-नया कैंपस  लड़कियों से मिलना  याद है मुझे। वो कैंटीन में साथ जाना इलायची चाय मंगाना पैसे पर उलझ जाना याद है मुझे। वो उनसे निगाहों का मिलना दिल में इश्क-कली खिलना पक्का आशिक बन जान...

Post has attachment
**
ऊ माई जौन अमृत पियवले रहली, आज अधे पेट काटत बारी रात। ऊ माई जौन अंचरा में लुकवले रहली, टुटही पलानी में झेलत बारी बरसात। ऊ माई जौन तेल-कुर कईले रहली, आज दिमाग के कमजोर बारी कहात। ऊ माई जौन काजर-टिका लगवले रहली, घर के चमक में करिया दाग बारी हो जात। ऊ माई जौन ...

Post has attachment
**
खदेरन के पाठशाला 5 (क्लास में लईका कौनो बेंच प बईठल बा कौनो खिड़की प बईठल बा,खदेरन बेंच बजावता आ ढोंढ़वा भोकार पार के गावत बा- शीलवा रहे की फूलमतिया,रतिया कहाँ बितावला ना...मास्टर साहेब के एंट्री) मास्टर साहेब-बताई हम...बता दी का की रतिया कहाँ बितवनी...चार-चा...
Wait while more posts are being loaded