Profile cover photo
Profile photo
shorya Malik
267 followers
267 followers
About
Communities and Collections
Posts

Post has attachment
**
ताऊ ने बुलाया है महफिल ये सजाया है बहाना है ब्लॉग दिवस बिछडो को मिलाया है सभी को राम मुकद्दर से मेरे मै लड़ ना सका था सच बात ये थी मैं कह ना सका था हुई गुलजार वो हर एक शाम थी महफिल में जब मैं जा ना सका था रुसवाई से डर के तन्हा रहा था कातिल थी नजरें बच ना सक...
Add a comment...

Post has attachment
''जानवरों की पहली पंचायत''
आज सुबह सुबह मेरे पास फोन आया की गाँव में सभी की भैस , गाय , बैल आदि पालतू जानवर लापता है, मुझे बड़ा गुस्सा आया मैं बोला तो फिर मैं किया करूँ , मैंने कोई जानवर पकड़ने का ठेका ले रखा है क्या  , उधर से आवाज आई ,, जनाब पूरी बात तो सुनो, मैंने कहा सुनाओ,वो बोला...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
**
मुकद्दर से मेरे मै लड़ ना सका था सच बात ये थी मैं कह ना सका था हुई गुलजार वो हर एक शाम थी महफिल में जब मैं जा ना सका था रुसवाई से डर के तन्हा रहा था कातिल थी नजरें बच ना सका था फना कर दिया खुद ही को तभी से जब तूने मुझ को ठुकरा दिया था वादा जो मैंने तुझसे कि...
Add a comment...

Post has attachment
shorya Malik commented on a post on Blogger.
Add a comment...

Post has attachment
बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है ...............................
दिल का सुखद एहसास सबकी आँखों का नूर हर घर की शान है जरूरते बहुत थोड़ी है बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है बिन बोले वो पढ़ लेती है मुझको उसके बिन जिंदगी अधूरी है कभी कोई गिला शिकवा नही जितना मिल जाये वही काफी है बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है उगता हुआ सूरज या चाँद...
Add a comment...

Post has attachment
बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है ...............................
दिल का सुखद एहसास सबकी आँखों का नूर हर घर की शान है जरूरते बहुत थोड़ी है बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है बिन बोले वो पढ़ लेती है मुझको उसके बिन जिंदगी अधूरी है कभी कोई गिला शिकवा नही जितना मिल जाये वही काफी है बस उसे थोडा सा प्यार जरुरी है उगता हुआ सूरज या चाँद...
Add a comment...

Post has attachment
मुहब्बत रहती कहाँ
कोई बता दे पता मुहब्बत रहती कहाँ ढूंढ़ रहा हूँ मैं वर्षो से उसका पता दिल की बेकरारी है राते जग कर गुजारी हैं तिस्नगी को भी बढाया तब भी ना पता लग पाया सूरज, तारो, चाँद, तारो से पूछा घूमते हो तुम पूरे जहाँ में कभी कही किसी मोड़ पर मिला तुम्हे मुहब्बत का पता प...
Add a comment...

Post has attachment
रल्धू 3
आज सुबह सुबह रल्धू मेरे घर आ गया और बोलया भाई तू मेरे ऊपर फिर से कुछ लिखणे वाला है , मैंने कहा हा भाई लिख रहा हूँ , तो वो बोला हमेशा मेरा मजाक उड़ाते हो , कभी तो कुछ अर्थपूर्ण बात लिख दिया करो , मैंने कहा ठीक है भाई इस बार हास्य कम और व्यंग्य ज्यादा है , जो...
Add a comment...

Post has attachment
पर हम तो यारो केले है
काफी दिनों के बाद ब्लॉग पर आया हूँ , आप सभी से दूर रहने के लिए माफ़ी चाहता हूँ, कोशिश करूँगा कि अब लगातार आप लोगो के सम्पर्क में रहूँ , एक छोटी सी गजल कहने की कोशिश की है, जो गलतियाँ हो कृप्या मुझे बताये ,आप सभी के कमेंट्स का इंतजार रहेगा दर्द सभी ने कुछ झे...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded