Profile cover photo
Profile photo
Smita Singh
896 followers
896 followers
About
Posts

Post has attachment
मेरा वादा है... हम फिर मिलेंगे
लगता है जैसे एक साथ विश्व के सारे शब्द शून्य हो गए हों...  जहां ह्रदय की उम्मीदें गुणा होकर शून्य हुई जा रही हैं  सूरज की मद्धम होती किरणें अगली सुबह तक प्रतीक्षा करेंगी  स्मृतियों के धागे बिछोह की आग में जलकर ख़ाक होने को सज्ज हैं  क्यों हुई थी वो तत्परता, ...

Post has attachment
बारिश तो उस बरस भी हुई थी
बारिश तो उस बरस भी हुई थी,  जब मेरे हाथों में तूने अंजलि भर-भर कर पानी डाला था,  बारिश आज भी हुई है और हर तरफ पानी है,  लेकिन मेरी हथेलियां सूखी पड़ी हैं  इन बूंदों से खेलना तो तुमने ही सिखाया  फिर अकेले कैसे खेलूं, ये क्यों नहीं बताया  हवाओं के चलने के साथ ...

Post has attachment
हो तो कुछ भी सकता है
ज़रूरी नहीं कि रोने को हर बार कोई कन्धा ही हो  अपने घुटनों में टूटकर बिखर जाना भी दिल को हल्का करता है  कोई हाथ थामकर आपको दिलासा दे, ये हमेशा तो नहीं होगा  खुद संभलकर लड़खड़ाते कदम उठाने से भी रास्ता कट ही जाता है  वादा किया जो ताउम्र फिक्र करने का उसने, सपना...

Post has attachment
हो तो कुछ भी सकता है
ज़रूरी नहीं कि रोने को हर बार कोई कन्धा ही हो  अपने घुटनों में टूटकर बिखर जाना भी दिल को हल्का करता है  कोई हाथ थामकर आपको दिलासा दे, ये हमेशा तो नहीं होगा  खुद संभलकर लड़खड़ाते कदम उठाने से भी रास्ता कट ही जाता है  वादा किया जो ताउम्र फिक्र करने का उसने, सपना...

Post has attachment
...ये तुमको भी पता होगा
किसी को पाकर खोना क्या होता है  किसी का होकर न होना क्या होता है  हंस-हंसकर रोना क्या होता है...  ये तुमको भी पता होगा जी-जीकर मरना क्या होता है  न चाहकर कुछ करना क्या होता है  दर्द रह-रहकर उभरना क्या होता है  ये तुमको भी पता होगा अपने हाथों कोई आग नहीं लगा...

Post has attachment
...ये तुमको भी पता होगा
किसी को पाकर खोना क्या होता है  किसी का होकर न होना क्या होता है  हंस-हंसकर रोना क्या होता है...  ये तुमको भी पता होगा जी-जीकर मरना क्या होता है   न चाहकर कुछ करना क्या होता है   दर्द रह-रहकर उभरना क्या होता है   ये तुमको भी पता होगा अपने हाथों कोई आग नहीं ...

Post has attachment
तुम होकर भी नहीं हो
मैं जानती हूँ इन रास्तों पर तुम्हारा होना तो दूर  निशाँ मिलना भी मुश्किल है  पर तकती रहती हूँ एकटक उसी तरफ  शायद तुम आ जाओगे इस भ्रम में हूँ ये खुशफहमी नहीं हो सकती  क्योंकि सत्य जानती हूँ मैं  तुम किसी अलग राह पर निकल पड़े हो  पर ये मेरी इबादत है जो ईश्वर क...

Post has attachment
वक़्त
वक़्त, जो किसी के लिए नहीं रुकता बस हौसलों का मोहताज होता है,  ताकि वो बन-बिगड़ सके कोशिशों के दरम्यान  और करवट ले सके ज़िन्दगी  उम्र के तमाम पथरीले रास्ते वक़्त ने भी तय किए हैं  वक़्त बदलते देर नहीं लगती,  ठोकरों पर रुककर वो पीछे नहीं देखता  बस आगे बढ़ जाता है ...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded