Profile cover photo
Profile photo
mohammad anas
125 followers
125 followers
About
Posts

Post has attachment
मालदा के बहाने बैलेंसवादी सेक्युलरों और कथित नास्तिकों को पकड़ा जाए.
मालदा के बहाने तथाकथित नास्तिक और सो काल्ड सेक्यूलर तबके के मुँह पर तमाचा- हैलो मिस्टर ब्राह्मणवादी सेक्यूलर एंड मिस सेक्यूलराइन, हाऊ आर यू? अरे सुनो, सुन लो भाई। मालदा पर आप दोनों ने लेख लिखा था। ख़ूब चर्चा में रहा। प्वाइंट टू प्वाइंट समझाया की मुसलमान क्य...

Post has attachment
अब देखो, मैं हुआ न खुदा.
उसे लगने लगा था, ज़िंदगी माने कुछ भी नहीं. खुदा से जो खौफ
था वो भी ख़त्म ही हो गया था. जो बचा खुचा था वह शराब पी कर पूरा कर देता था. शराब
और तन्हाई में इस कदर डूबने लगा जैसे दुनिया का सबसे बड़ा जानकार हो. कोई उससे
मिलने जाता तो वो उसे बहुत देर तक घूरता रहता. स...

Post has attachment
गाय जितनी सीधी सादी ,गौ रक्षक उतने ही खूंख्वार
दादरी के बिसाहड़ा   गाँव में इन्डियन एयरफोर्स में कार्यरत
मोहम्मद सरताज के भाई दानिश और पचास वर्षीय पिता मोहम्मद अख़लाक़ की हत्या करने के
लिए दो हजार से ज्यादा लोग मंदिर से हुए उस एलान के बाद आये थे जिसमे कहा गया था
की अख़लाक़ की फ्रिज में गाय का मांस है. हजारों...

Post has attachment
हम हमेशा के लिए साथ नहीं
बहुत मुश्किल होता जा रहा है चुपचाप से यूँ खामोश बैठे रहना
और इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता भी नहीं हैं. क्या उसे नहीं पता कि हमारे दरम्यान
जो कुछ भी है वो इतनी आसानी से भुला देने वाला नहीं है या फिर उसे मेरी ख़ामोशी से
ऐसा सन्देश जा रहा है की मैं भी ऐसे ही हाल...

Post has attachment
ऑकलैंड रोड की ख़ामोशी काश बनावटी होती
मैं किसी पुराने अंग्रेज बंगले की सफ़ेद चूने से पुती दिवार
जैसा महसूस कर रहा हूँ जिसने अपने अतीत के वैभव और यश को खूब जिया और आज उन
दीवारों से जब सीलन और पपड़ी छूटने लगी थी भरभरा कर गिर जाती है. ऐसे तमाम बंगले और
ऐतहासिक धरोहरों के स्वर्णिम इतिहास का भविष्य इत...

Post has attachment
वर्चस्व,विस्तार और विकास की पूंजीवादी सोच एवं धार्मिक नैतिकता
एक व्यक्ति बेहद मज़हबी है दूसरा मज़हब के लिए अँधा और तीसरा धर्म को पूरी तरह नकार कर ईश्वर की सत्ता में विश्वास नहीं रखता। व्यक्तिगत स्तर पर यह तीनों हालात समझने लायक हैं।  इन स्थितियों से सहमत एवं असहमत हुआ जा सकता है।  इन सब स्थितियों की आलोचना भी की जा सकती...

Post has attachment
आप मेरा कार्टून बना सकते हैं.
फ्रेंच भाषा की व्यंगात्मक साप्ताहिक मैगजीन चार्ली हेब्दो के
दफ्तर पर हमला करके सम्पादक , चार कार्टूनिस्ट समेत एक दर्ज़न के करीब मीडियाकर्मियों
की हत्या कर दी गई. मीडिया में आ रही रिपोर्ट को आधार माना जाए तो ऐसा इसलिए हुआ
क्योंकि इस्लाम के पैगम्बर हज़रत मुहम्म...

Post has attachment
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाम सेक्यूलर दिखना है
मुख्यधारा की मीडिया स्त्रियों,दलितों ,शोषितों और
अल्पसंख्यकों के प्रति हमेशा से दोहरापन अख्तियार किए हुए है. यह कोई आरोप नहीं
बल्कि सिद्ध हुआ सच है. मुसलमानों के मुद्दों से जुड़ी हुई बातों के प्रति हिंदी और
अंग्रेजी की पत्रकारिता एवं मीडिया संस्थान जितने पूर...

Post has attachment
सौहार्द के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने की ज़रूरत नहीं है.
सौहार्द और भाईचारा न तो जेपी सीमेंट से टाईट होगा और न ही
बिरला व्हाईट पुट्टी से जर्जर और छिली हुई तहज़ीब की रंगाई पोताई हो सकती है.
सौहार्द का बस इतना सा मतलब है की हिंदू बनाम मुसलमान या फलाने बनाम ढिमकाने के
बीच में से ‘बनाम’ या ‘विरूद्ध’ शब्द और इसकी अवधार...

Post has attachment
बालीवुड के राष्ट्रवादी सिनेमाई चरित्र को ललकारता है हैदर
आपने कश्मीर को सनी देओल की फिल्मों में देखा है तो इस बार
इरफ़ान,तब्बू,शाहिद,श्रद्धा और के के मेनन की फिल्म ‘हैदर’ में देख आना बहुत ज़रूरी
हो जाता है. कश्मीर और कश्मीरियत अपने वजूद के वक्त से लगातार जिन संघर्षों के दौर
से गुजर कर, टूट कर, लड़खड़ा कर फिर से उठ खड़...
Wait while more posts are being loaded