Profile

Cover photo
विजयबहादुर सिंह
68 followers|323,708 views
AboutPostsCollectionsPhotosYouTubeReviews

Stream

 
बधाई हो सरकार में बैठे समाजवादियों और तुम्हारे कारकूनों ! तुम्हारे अटूट प्रयास आज फलीभूत हुए और नतीजा यह हुआ कि बीती रात एक मेडिकल छात्रा ने राजधानी के गुडम्बा कालोनी में अपने कमरे में पंखे से लटक कर खुद को मौत हवाले कर दिया। बधाई हो।
ताज़ा खबर है कि लखनऊ के एक डेंटल मेडिकल छात्रा ने छेड़खानी से त्रस्त होकर फांसी लगा ली। पिछले कई महीने से मोहल्ले से लेकर कॉलेज आसपास शोहदों ने उसका जीना हराम कर रखा था। मानसिक तनाव इतना बढ़ने लगा कि उसे खुद की जिंदगी ही अभिशाप लगाने लगी। उसे लगा कि उसका स्त्री-देह ही उसका सबसे बड़ा दुश्मन है। बस फिर क्या था। इस बच्ची ने उस कलंक-अभिशाप को ही हमेशा-हमेशा के लिए धो डाला।
यह बच्ची अवध क्षेत्र के बलरामपुर जिले की थी। उसके पिता वहां दवा की दूकान चलाते हैं। यह बच्ची होनहार थी, सो आगे की पढाई के लिए लखनऊ अपने चाचा के परिवार के साथ रहने लगी। जल्दी ही उसकी मेहनत रंग लायी और उसे डेंटल कालेज में प्रवेश मिल गया।
लेकिन आज.....
मेरी समझ में नहीं आता है कि महिला-शक्ति को सशक्तिकृत करने के दावे तो यूपी सरकार ने तो खूब किये। शुरुआत हुई महिला अपराधों पर कडा अंकुश लगाने के संकल्प से। योजना की संकल्पना तैयार की थी 2 साल पहले सुल्तानपुर की एक महिला युवा आईपीएस अधिकारी अलंकृता ने, जो उस वक्त वहां पुलिस कप्तान थी।
लेकिन शासन और पुलिस के बड़े हाकिमों ने उस संकल्पना को उस महिला से छीन लिया और लखनऊ के एसएसपी पद से हटाये गए नवनीत सिकेरा को उसका मुखिया बना डाला। जबकि होना तो यह था कि जिस अफसर ने उस योजना की रूप-रेखा बुनी थी, उसे ही उसका जिम्‍मा दिया जाता। इसलिए खास ताैर पर भी, कि महिला होने के चलते वह महिलाओं की इस हेल्‍पलाइन को बेहतर ढंग से समझ और क्रियान्वित कर सकती थी। लेकिन उस योजना को नयी रंगरोगन से लीपपोत कर उसे 1090 का नाम गया। सिकेरा को मुखिया इस लिए बनाया गया क्योंकि अखिलेश यादव परिवार से सिकेरा की बेहद करीबी है। कुछ भी हो, 1090 ने और कोई काम भले किया हो या नहीं, लेकिन इसको लेकर फर्जी डंके खूब बजवा दिया।
लेकिन अपने दो साल के प्रयोग के अंतराल यह 1090 का प्रयोग पूरी तरह असफल हो गया। महिलाओं में विश्वास उपजाने के बजाय अब किशोरियां-महिलाओं के सपनों में 1090 के दारुण-डरावने सपने दिखने लगे हैं। हाल ही 1090 के एक प्रभारी अधिकारी तो एक वादी युवती से ही वही करतूत करने लगे, जिसके खिलाफ ही 1090 डंका बजाने का दावा था। पीडि़त महिला जब महिला अधिकार प्रकोष्‍ठ की महानिदेशक सुतापा सान्‍याल के पास पहुंची तो उन्‍होंने तत्‍काल इस मामले की खुद जांच करने का ऐलान किया। लेकिन अचानक ही आला अफसरों ने सुतापा सान्‍याल से यह मामला खींच कर सीधे नवनीत सिकेरा को थमा दिया। बाकी आप-सब को यह बताने की जरूरत तो है नहीं कि करीब एक महीना होने के बावजूद यह मामला ठण्‍डे बस्‍ते में ही पड़ा हुआ है। इसके पहले एक 84 वर्षीय महिला को एक शख्‍स ने कई-कई बार फोन करके भद्दी गालियां दीं और जान से मार डालने की धमकियां दीं। इसकी शिकायत जब 1090 और नवनीत सिकेरा तक की गयी, लेकिन कई कोशिशों के बावजूद कुछ भी नहीं हुआ। बाद में पता चला कि इस शिकायत पर गाजीपुर के थानाध्‍यक्ष ने उक्‍त अभियुक्‍त से 15000 हजार रूपया वसूल कर मामला रफा-दफा कर दिया।
यह तब हुआ जब सूचना विभाग के एक बड़े बडबोले और महीन अफसर अशोक कुमार शर्मा पुलिस के प्रवक्‍ता बने घूम रहे थे और इस मामले पर उन्‍होंने खुद हस्‍तक्षेप करने का दावा किया था।
तो बोलो:- नवनीत सिकेरा जिन्‍दाबाद।
ऐसे में 1090 के प्रति आम महिला का विश्‍वास कैसे पनपता ?
एक ओर मुलायम सिंह यादव जब यह ऐलान करते घूम रहे थे कि लड़कों से गलतियां हो जाती हैं, ऐसे में यह मेडिकल छात्रा किससे अपनी फरियाद करती।
उस बच्‍ची ने फैसला किया। तय किया कि अब न बांस रहेगा और न बजेगी बांसुरी।
बीती रात उसने अपने दोपट्टे से पंखे से फांसी का फंदा बनाया और
झूल गयी फांसी पर वह होनहार बच्‍ची।
आओ, अब 1090 का डंका बजाया जाए कि 1090 निदान नहीं, बिलकुल ढपोरशंख है।
कुमार सौवीर
लखनऊ
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
क्या यह सिर्फ़ इत्तेफ़ाक है कि

केजरीवाल ईलाज करवाने जिस राज्य में गया है
उसका नाम 'कर-नाटक' है ।
😝😝😝😝😝😝😀😜
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
परम् आदरणीय मित्रों,

RTI लिखने का तरीका -

👉RTI मलतब है सूचना का अधिकार - ये कानून हमारे देश में 2005 में लागू हुआ।जिसका उपयोग करके आप सरकार और
किसी भी विभाग से सूचना मांग सकते है। आमतौर पर लोगो को इतना ही पता होता है।परंतु आज मैं आप को इस के बारे में कुछ और रोचक जानकारी देता हूँ -

👉RTI से आप सरकार से कोई भी सवाल पूछकर सूचना ले सकते है।
👉RTI से आप सरकार के किसी भी दस्तावेज़ की जांच कर सकते है।
👉RTI से आप दस्तावेज़ की प्रमाणित कापी ले सकते है।
👉RTI से आप सरकारी कामकाज में इस्तेमाल सामग्री का नमूना ले सकते है।
👉RTI से आप किसी भी कामकाज का निरीक्षण कर सकते हैं।
👉RTI में कौन- कौन सी धारा हमारे काम की है।

👉धारा 6 (1) - RTI का आवेदन लिखने का धारा है।
👉धारा 6 (3) - अगर आपका आवेदन गलत विभाग में चला गया है। तो वह विभाग
इस को 6 (3) धारा के अंतर्गत सही विभाग मे 5 दिन के अंदर भेज देगा।
👉धारा 7(5) - इस धारा के अनुसार BPL कार्ड वालों को कोई आरटीआई शुल्क नही देना होता।
👉धारा 7 (6) - इस धारा के अनुसार अगर आरटीआई का जवाब 30 दिन में नहीं आता है
तो सूचना निशुल्क में दी जाएगी।
👉धारा 18 - अगर कोई अधिकारी जवाब नही देता तो उसकी शिकायत सूचना अधिकारी को दी जाए।
👉धारा 8 - इस के अनुसार वो सूचना RTI में नहीं दी जाएगी जो देश की अखंडता और सुरक्षा के लिए खतरा हो या विभाग की आंतरिक जांच को प्रभावित करती हो।
👉धारा 19 (1) - अगर आप
की RTI का जवाब 30 दिन में नहीं आता है।तो इस
धारा के अनुसार आप प्रथम अपील अधिकारी को प्रथम अपील कर सकते हो।
👉धारा 19 (3) - अगर आपकी प्रथम अपील का भी जवाब नही आता है तो आप इस धारा की मदद से 90 दिन के अंदर दूसरी
अपील अधिकारी को अपील कर सकते हो।

👉RTIकैसे लिखे?

इसके लिए आप एक सादा पेपर लें और उसमे 1 इंच की कोने से जगह छोड़े और नीचे दिए गए प्रारूप में अपने RTI लिख लें
...................................
सूचना का अधिकार 2005 की धारा 6(1) और 6(3) के अंतर्गत आवेदन।
सेवा में,
(अधिकारी का पद)/
जनसूचना अधिकारी
विभाग का नाम.............
विषय - RTI Act 2005 के अंतर्गत .................. से संबधित सूचनाऐं।
अपने सवाल यहाँ लिखें।

1-..............................
2-...............................
3-..............................
4-..............................

मैं आवेदन फीस के रूप में 10रू का पोस्टलऑर्डर ........ संख्या अलग से जमा कर रहा /रही हूं।
या
मैं बी.पी.एल. कार्डधारी हूं। इसलिए सभी देय शुल्कों से मुक्त हूं। मेरा बी.पी.एल.कार्ड नं..............है।
यदि मांगी गई सूचना आपके विभाग/कार्यालय से सम्बंधित
नहीं हो तो सूचना का अधिकार अधिनियम,2005 की धारा 6 (3) का संज्ञान लेते हुए मेरा आवेदन सम्बंधित लोकसूचना अधिकारी को पांच दिनों के
समयावधि के अन्तर्गत हस्तान्तरित करें। साथ ही अधिनियम के प्रावधानों के तहत
सूचना उपलब्ध् कराते समय प्रथम अपील अधिकारी का नाम व पता अवश्य बतायें।
भवदीय
नाम:....................
पता:.....................
फोन नं:..................
हस्ताक्षर...................
ये सब लिखने के बाद अपने हस्ताक्षर कर दें।
👉अब मित्रो केंद्र से सूचना मांगने के लिए आप 10 रु देते है और एक पेपर की कॉपी मांगने के 2 रु देते है।
👉हर राज्य का RTI शुल्क अगल अलग है जिस का पता आप कर सकते हैं।
👉जनजागृति के लिए जनहित में शेयर करे।
👉RTI का सदउपयोग करें और भ्रष्टाचारियों की सच्चाई /पोल दुनिया के सामने लायें

🙏🌻🌹सुप्रभात🌹🌻🙏

🍃🍃🌺आपका दिन मंगलमय हों🌺🍃🍃
 ·  Translate
1
1
SANSKIRAN THORY's profile photo
Add a comment...

विजयबहादुर सिंह

विचार-विमर्श  - 
 
[16:39, 19/01/2016] ‪+91 85450 94619‬: "तुम कितने याकूब मारोगे? हर घर से याकूब पैदा होगा..." इस पोस्टर को हाथ में लिए रोहित वेमुला के मित्र अर्थात हैदराबाद विवि के छात्र... पोस्टर पर लिखा है ASA यानी "आंबेडकर स्टूडेंट्स यूनियन"... जी हाँ, ये लोग उन्हीं आंबेडकर के नकली अनुयायी(??) हैं, जो इस्लाम की रग-रग से वाकिफ थे (इसीलिए बौद्ध धर्म स्वीकारा)... जी हाँ वही बाबा साहेब आंबेडकर जिन्होंने भारत के संविधान को बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की... लेकिन "तथाकथित दलित छात्र" रोहित वेमुला, अम्बेडकर और उनके संविधान का सरेआम अपमान करते हुए याकूब मामले पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय और राष्ट्रपति को नकार रहा है... इसे कहते हैं "परफेक्ट ब्रेनवॉश". ईसाई मिशनरियों और शांतिदूतो के हाथों और गोद में खेलते दलित चिंतकों और दलित विमर्शवादियों इतिहास तुम्हें माफ नहीं करेगा... राजनैतिक रोटियाँ सेंकने वालों की तो खैर बात करना ही बेकार है... =========================== अलबत्ता रोहित वेमुल्ला "बहुत प्रतिभाशाली" था... वह गौमाँस भक्षण पार्टी का संयोजक था... वह स्वामी विवेकानन्द को जमकर गरियाता था... उसे "भगवा रंग" से नफरत थी... - मने के बेहद प्रतिभाशाली था... पढ़ाई के अलावा सब कुछ करता था... बिलकुल FTII के "मुफ्तखोर अधेड़" छात्रों(??) की तरह...
[16:39, 19/01/2016] ‪+91 85450 94619‬: क्या आप जानते हैं कि एक अच्छा खासा आदमी दलित कब हो जाता है ?
जब वह याकूब मेमन का समर्थन करता है तब वह सेक्युलर होता है
जब वह बीफ पार्टी देता है तब वह और सेक्युलर हो जाता है
जब वह किसी अन्य छात्र को पीट पीट कर ICU में भर्ती कर देता है तब भी वह दलित नहीं होता
परन्तु उसकी इस हरकत की वजह से अगर यूनिवर्सिटी उसे हॉस्टल से निकाल दे तो वह दलित हो जाता है
और जब वह आत्मग्लानि में आत्महत्या कर ले तो वह महादलित हो जाता है
कहीं आप रोहित वेमुला की बात तो नहीं समझ रहे जिसने हैदराबाद में आत्महत्या कर ली
अगर नहीं समझ रहे तो इसमे मेरी क्या गलती
 ·  Translate
3
Binay Kumar Jha's profile photoSangeeta  Das's profile photo
2 comments
 
Dalitgiri....sahi or bariya shabd....
Add a comment...

विजयबहादुर सिंह

विचार-विमर्श  - 
 
 
सुब्रमण्यन स्वामी का दावा-ISI के साथ मिले हुए हैं अभिनेता आमिर खान
 ·  Translate
भाजपा नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान पर निशाना साधा है। स्वामी ने आमिर पर गंभीर आरोप लगाए हैं। स्वामी ने दावा किया है कि आमिर ने अपनी फिल्म 'पीके' को प्रमोट करने के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ साठ-गांठ की थी।
23 comments on original post
16
1
Anitha Chavan's profile photoVinayak Shiv's profile photonitin lathwal's profile photoSuman Sharma's profile photo
3 comments
 
Aamir Khan ko sirf Hindustan ke lia dochns chshiye agar kahin se koi wrong efforts hui hein to,kahate hein ki subah ka bhula agar sham ko ghar vapas aa jaye to use bhula nahin kahate.
Add a comment...
Have him in circles
68 people
Debabrata Bhattacharya's profile photo
Choudhary Shyamveer's profile photo
Amit Kr Upadhyay's profile photo
SHAILESH GAUTAM's profile photo
Raj Saxena's profile photo
Kundan Uranw's profile photo
Mahesh Nandurkar's profile photo
vijay sinha's profile photo
Shashank Mitra's profile photo
 
सुप्रीम कोर्ट जी and Media कृपया बताएं, ये सबरीमाला और शनि शिंगनापुर पर यह विशेष प्रेम क्यों??
2000 सालों में 266 पोप बने, एक भी पोपनि नहीं बनी
क्यों ?
1400 सालों में हज़ारों इमाम बने, एक भी इमामनी नहीं बनी
क्यों ?
1400 सालों से विश्व की किसी भी मस्जिद मैं मुस्लिम महिला को प्रवेश क्यों नहीं मिला ?
और
तो और
हमारे अपने ही ख़ुद के सगे सिख भाइयों के 10 गुरु हुए, गुरुआइन एक भी नहीं
तो यह सारा ज्ञान हिंदुओं पर ही क्यों पेलते हो...
यही पर महिला सशक्तिकरण और आजादी चाहिये क्या??? गंदी राजनीति के ठेकेदारो...
इतना पक्षपात तो मत करिये जी तनिक वहां भी न्याय कीजिये न
हमारे धर्म के साथ ज्ञान मत बांटे शायद हमे अपनी आस्थाओं और तरीकों का सबसे ज्यादा पता है -

🚩🚩सिंहगर्जना🚩🚩
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
नई दिल्ली। दिल्ली के बाहरी इलाके से लेकर और उत्तराखंड की सीमा तक हिंदू स्वाभिमान सेना ट्रेनिंग देकर अपना विस्तार कर रही है और इस्लामिक स्टेट (आईएस) से लड़ने की तैयारी कर रही है। आईएस 2020 तक पश्चिमी यूपी पर कब्जा करना चाहता है। संगठन के नेता दावा करते हैं कि अभी तक 15 हजार सैनिक उनके साथ जुड़ चुके हैं और यह धर्म को बचाने के लिए जान देने के लिए तैयार हैं।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने सांप्रदायिक दृष्टि से बेहद संवेदनशील पश्चिमी यूपी में फैले इन कैंप्स का दौरा किया और पाया कि इसमें बाल सिपाही भी शामिल हैं, कुछ की उम्र तो 8 साल की है। ये सभी तलवार और बंदूक चलाना सीख रहे हैं। संगठन की हेडक्वार्टर गाजियाबाद के डासना के एक मंदिर में है। इसके नेताओं ने दावा किया कि हर हफ्ते संगठन की ताकत बढ़ रही है। हिंदू स्वाभिमान सेना के नेता बताते हैं कि इनके 50 ट्रेनिंग कैंप्स में से कुछ गुप्त रूप से काम कर रहे हैं जबकि कुछ बम्हैटा और रोडी गांव में है। यह खुले रूप से पुरुषों और महिलाओं को ट्रेनिंग दे रहे हैं। इसमें लड़के और लड़कियां भी हैं। यह सभी ‘दुश्मन के किसी भी हमले’ की सूरत में पलटवार के लिए तैयार किया जा रहा है।

ऐसे 3 ट्रेनिंग कैंप मेरठ शहर में और 5 मुजफ्फरनगर में है। हिंदू स्वाभिमान की एक नेता चेतना शर्मा ने कहा, ‘हमारा उद्देश्य साफ है, युवाओं को साथ जोड़ो। पश्चिमी यूपी में हमारे 50 ट्रेनिंग कैंप हैं। हमारे छात्र 8 साल से लेकर 30 साल की उम्र तक के हैं।’ चेतना ने बताया कि पहले 6 महीनों के लिए सभी को मानसिक रूप से शिक्षित किया जाता है। उन्हें गीता के श्लोक पढ़ाए जाते हैं। हिंदुओं को मृत्यु से डरना नहीं चाहिए क्योंकि उनका पुनर्जन्म होता है। संगठन के साथ जुड़े बच्चे निडर हैं। चेतना विश्व हिंदू परिषद की हिंदू युवा वाहिनी की भी सदस्य हैं।

8 साल की सीमा कुमारी (परिवर्तित नाम) ने कहा, ‘मैं लड़ना इसलिए सीख रही हूं क्योंकि हमारी माताओं और बहनों को धमकियां दी गई हैं। मुझे उन्हें भी और खुद को भी बचाना है।’ ट्रेनिंग में शामिल एक नौ साल के बच्चे ने भी यही बात दोहराई।

पूर्व सैनिक परमिंदर आर्या मोदीनगर के रोड़ी गांव में इस ट्रेनिंग कैंप को चला रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमारी ट्रेनिंग बेहद साफ है। हम युवाओं को देश में चल रही आतंकी गतिविधि के बारे में बताते हैं। उन्होंने आगे कहा, ‘पठानकोट जैसे हमले पर कैंप के युवा चर्चाएं करते हैं। हिंदुत्व के लिए खतरा बनी इस्लामिक कट्टरता को वह समझ रहे हैं।’ आर्या ने अपने सेवाकाल को याद करते हुए कहा कि मेरी नियुक्ति कश्मीर में थी। देश की आधी सेना कश्मीर में है लेकिन कश्मीरी पंडितों का विस्थापन कोई नहीं रोक सका। यह ऐसी चीजें हैं जिसे हमें खुद करना होगा।
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
 
दिल्ली और अर्धकुंभ में हमले की साजिश नाकाम, हरिद्वार से IS के चार आतंकी गिरफ्तार
 ·  Translate
उत्तराखंड दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रुड़की से अखलाक समेत आईएसआईएस के चार आतंकियों को पकड़ा है। रिपोर्ट के मुताबिक इनके निशाने पर राजधानी दिल्ली-एनसीआर के अलावा हरिद्वार का अर्धकुंभ भी था। मुख्य आरोपी आतंकी का नाम अखलाक बताया जा रहा है। इसके साथ ही तीन अन्य संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
4 comments on original post
1
Add a comment...
विजयबहादुर's Collections
People
Have him in circles
68 people
Debabrata Bhattacharya's profile photo
Choudhary Shyamveer's profile photo
Amit Kr Upadhyay's profile photo
SHAILESH GAUTAM's profile photo
Raj Saxena's profile photo
Kundan Uranw's profile photo
Mahesh Nandurkar's profile photo
vijay sinha's profile photo
Shashank Mitra's profile photo
Basic Information
Gender
Male
Looking for
Friends, Dating, A relationship, Networking
Apps with Google+ Sign-in
  • narendra modi
  • 건쉽배틀
Story
Tagline
#भारतनिर्माण
Bragging rights
जयहिंद जयभारत
Work
Occupation
भारत का स्वतंत्र नागरिक
Public - 3 months ago
reviewed 3 months ago
3 reviews
Map
Map
Map
कंपनी तो ठीकठाक बन गई है !SMS मेंEAF २२०टन क्रेनआपरेटर हूं लेकिन मेरी तनख्वाह बहुत कम है !
Public - 10 months ago
reviewed 10 months ago