Profile cover photo
Profile photo
Prakash Govind
1,255 followers
1,255 followers
About
Prakash's posts

Post has attachment
'आवाज़' ब्लॉग की सभी पोस्ट यहाँ देखें
View RSS feed

Post has attachment
गुरु और चेला :-)
घने जंगल से गुजरती हुई सड़क के किनारे एक ज्ञानी गुरु अपने चेले के साथ एक बोर्ड लगाकर बैठे हुए थे, जिस पर लिखा था :-  . "ठहरिये... आपका अंत निकट है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाये, रुकिए ! हम आपका जीवन बचा सकते हैं।"
--  --  एक कार फर्राटा भरते हुए वहाँ से गु...

Post has attachment
बेहतरीन थ्री डी चित्रकारी
वाह ... गज़ब का कलाकार   =========================== ----------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------- -----...

Post has attachment
जो भी है, बस यही एक पल है
जिस पल आपकी मृत्यु हो जाती है,  उसी पल से आपकी पहचान एक "बॉडी" बन जाती है।  -  अरे~~ "बॉडी" लेकर आइये,,, "बॉडी" को उठाइये,  -  ऐसे शब्दो से आपको पूकारा जाता है, वे लोग भी आपको आपके नाम से नही पुकारते,  जिन्हे प्रभावित करने के लिये आपने अपनी पूरी जिंदगी खर्च...

Post has attachment
ये तो रियल हीरो है ...
बेंगलुरु के विनीत विजियन ने एमबीबीएस स्टूडेंट की स्टोरी शेयर की है। विनीत विजयन नाम के शख्स ने फेसबुक पर लिखा है : - 'मैं बेंगलुरु मेडिकल कॉलेज के लिए ऑटो का इंतजार कर रहा था। दरअसल, वहां मेरे दोस्त की मां भर्ती थीं, जिन्हें मैं देखने जा रहा था। तभी एक ऑटो ...

Post has attachment
बिना किसी गाइडेंस, बिना किसी कोचिंग के बनी आई.ए.एस
3 मई की तारीख को रोज की तरह वंदना अपने घर में अपने पिताजी के ऑफिस में गई और आदतन सबसे पहले यूपीएससी की वेबसाइट खोली। वंदना को दूर-दूर तक अंदेशा नहीं था कि आज आईएएस का रिजल्ट आने वाला है, लेकिन इस सरप्राइज से कहीं ज्यादा बड़ा सरप्राइज अभी उसका इंतजार कर रहा ...

Post has attachment
"रामायण" : एक काल्पनिक कथा
"रामायण" एक काल्पनिक कथा है जो कि वास्तविक स्थानों श्रीलंका, अयोध्या, पर आधारित है, जैसे अरब मे विख्यात 'अलिफ़ लैला', 'हातिम ताई' नामक कथायें काल्पनिक हैं, परंतु उसमे दर्शाये गये स्थान 'आबे फारस जबले मक्नातीस', 'दरिया-ए-नील तूर सीना' नामक स्थान वास्तविक हैं...

Post has attachment
सत्यनारायण भगवान और मैं :-)
एक बार सत्यनारायण कथा की आरती का थाल मेरे सामने आने पर
मैंने छाँट कर जेब में से कटा-फटा पाँच रुपये का नोट निकाला और कोई देखे नहीं, इस तरह आरती-थाल में डाला दिया।  .  वहाँ अत्यधिक ठसाठस भीड़ थी।  .  मेरे कंधे पर ठीक पीछे वाले सज्जन ने थपकी मार कर मेरी ओर 500...

Post has attachment
**
एक आम आदमी सुबह जागने के बाद दाँत ब्रश करता है, नहाता है, कपड़े पहनकर तैयार होता है, अखबार पढता है, नाश्ता करता है, घर से काम के लिए निकल जाता है.....बाहर निकलकर रिक्शा करता है, फिर लोकल बस या ट्रेन पकड़कर ऑफिस पहुँचता है, वहाँ पूरा दिन काम करता है, साथियों...

Post has attachment
भारत का पक्का बदमाश : "महात्मा गांधी"
1939 अक्टूबर माह की एक दोपहर 12 बजे एक छोटे से स्टेशन पर रेल गाड़ियों की क्रासिंग हो रही थी। एक बंगाली युवक गांधी से भेंट करने सेवाग्राम जा रहा था। तभी उसे गाड़ी में पता चला कि गांधी तो क्रासिंग के लिए बाजु खड़ी ट्रेन से दिल्ली जा रहे हैं।  ......  वह फटाफट उत...
Wait while more posts are being loaded