Profile cover photo
Profile photo
Ajay Singh
50 followers
50 followers
About
Ajay's posts

Post has attachment

Post has attachment
नीति वचन
 नीति वचन   निन्दन्तु नीतिनिपुणा यदि वा स्तुवन्तु लक्ष्मीः स्थिरा भवतु गच्छतु वा यथेष्टम्। अद्यैव वा मरणमस्तु युगान्तरे वा न्याय्यात्पथः प्रविचलन्ति पदं न धीराः॥ नीति
में निपुण मनुष्य चाहे निंदा करें या प्रशंसा, लक्ष्मी आयें या इच्छानुसार
चली जायें, आज ही...

Post has attachment
कपूर के इन उपायों से नहीं होगी कभी पैसे की कमी
जीवन में उतार चढाव चलते रहते हैं। यदि आपकी किस्मत कभी आपका साथ न दे रही हो तो निराश न हों।  ज्योतिष शास्त्र के छोटे छोटे उपायों से जीवन की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कपूर का उपयोग बेहद लाभकारी है। कपूर के उपयोग से धन समस्या, ...

Post has attachment
ओशो रजनीश का महात्मा गाँधी के बारे में पढ़ने योग्य एक संस्मरण

Post has attachment
रामचरितमानस के बाण
रामचरितमानस की चौपाइयों में ऐसी क्षमता है कि इन चौपाइयों के जप से ही मनुष्य बड़े-से-बड़े संकट में भी मुक्त हो जाता है। इन मंत्रो का जीवन में प्रयोग अवश्य करे प्रभु श्रीराम आप के जीवन को सुखमय बना देगे। 1. रक्षा के लिए मामभिरक्षक रघुकुल नायक | घृत वर चाप रुचिर...

Post has attachment
सफलता के 100 सोपान
1. जीवन में वो ही व्यक्ति असफल होते है, जो सोचते है पर करते नहीं । 2 :- भगवान के भरोसे मत बैठिये क्या पता भगवान आपके भरोसे बैठा हो… 3 :- सफलता का आधार है सकारात्मक सोच और निरंतर प्रयास !!! 4 :- आओ मिलकर ख़ुशियाँ बांटे !!! 5 :- मेहनत इतनी खामोशी से करो की सफ...

Post has attachment
धर्म और विज्ञान
धर्म के बगैर  विज्ञानऔर विज्ञान के बगैर धर्म व्यर्थ है। धर्म और विज्ञानं दोनों एक दूसरे से जुड़ने के बाद  ही पूर्णता को प्राप्त  करते है।दोनों को एक दूसरे का पूरक कहना सर्वथा उचित होगा। साथ  भी की मनुष्य के लिए दोनों ही जरुरी है। धर्म मनुष्य को अंदर से सुन्द...

Post has attachment

Post has attachment
श्री कृष्ण जन्म का रहस्य:
                                               श्री कृष्ण जन्म का रहस्य:   कृष्ण का जन्म होता है अँधेरी रात में, अमावस में। सभी का जन्म अँधेरी रात
में होता है और अमावस में होता है। असल में जगत की कोई भी चीज उजाले में
नहीं जन्मती, सब कुछ जन्म अँधेरे में ही...

Post has attachment
गुरु महिमा
एक शिष्य ने बहुत प्यारी बात कही:--- गुरूजी,              जब आप हमारी 'शंका' दूर करते हैँ तब आप   "शंकर" लगते हैँ              जब 'मोह' दूर करते हैँ तो "मोहन" लगते हैँ              जब 'विष' दूर करते हैँ तो "विष्णु " लगते हैँ              *जब 'भ्रम'...
Wait while more posts are being loaded