Profile cover photo
Profile photo
YourHindiBlog
6 followers
6 followers
About
Communities and Collections
View all
Posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has shared content

Post has attachment

Post has attachment
किसी ज़माने में अंगदेश मे यशकेतु नाम का राजा था। उसका दीर्घदर्शी नाम का बड़ा ही चतुर दीवान था। राजा बड़ा विलासी था। राज्य का सारा बोझ दीवान पर डालकर वह भोग में पड़ गया। दीवान को बहुत दु:ख हुआ। उसने देखा कि राजा के साथ सब जगह उसकी निन्दा होती है। इसलिए वह तीरथ का बहाना करके चल पड़ा। चलते-चलते रास्ते में उसे एक शिव-मन्दिर मिला। उसी समय निछिदत्त नाम का एक सौदागर वहाँ आया और दीवान के पूछने पर उसने बताया कि वह सुवर्णद्वीप में व्यापार करने जा रहा है। दीवान भी उसके साथ हो लिया।
पूरी कहानी यहाँ पढ़े https://goo.gl/Mb9jgS

Post has attachment

Post has shared content

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded