Profile

Cover photo
Gagan Sharma Bhartiya
Worked at राष्ट्रहित व राष्ट्रनिर्माण हेतु प्रयासरत
Lived in भारत (Bharat)
10,430 followers|36,110,326 views
AboutPostsPhotos

Stream

Gagan Sharma Bhartiya
owner

विचार-विमर्श  - 
 
कल भारत ने विदेश नीति में वो कदम उठाया है जो इस से पहले कभी भारत ने नही किया था |

कल यू एन ह्यूमन राइट्स कौंसिल (UNHRC) में यू एन इन्क्वायरी कमीशन रिपोर्ट को स्वीकार करने के लिए वोट पड़ने थे | यह वोट पिछले वर्ष गाज़ा में इजराइल द्वारा किये गए 'ऑपरेशन प्रोटेक्टिव एज' नाम से सैन्य कार्यवाही की जांच पर थी और इसमें दोनों ही पक्ष इजराइल और फिलिस्तीन को उन लोगो पर कार्यवाही करने के लिए कहा गया था जो इस सैन्य कार्यवाही के दोषी है और उन्हें युद्ध अपराधी माना गया था |

इस रिपोर्ट की सबसे बड़ी कमी यह थी की इसमें हमास के आतंकवाद को अनदेखा कर दिया गया था |

कल भारत ने इजराइल का पक्ष लेते हुए वोटिंग में भाग लेने से अस्वीकार कर दिया | यह कदम दूरगामी परिणाम देगा | इस कदम से विश्व को संदेश चला गया है की जिस भारत को फिलिस्तीन और गाज़ा मामले में अंध समर्थक माना जाता है उसने अपने आँखों से फिलिस्तीनी चश्मा उतार दिया है |

इस कदम से भारत के सेकुलर प्रजाति को संदेश दे दिया है की बेटा भारत की अस्मिता पर आंतरिक बवाल होगा तो हम ठोंकेंगे |

इस कदम से भारत ने इजराइल के साथ मध्य पूर्व एशियाई और भारतीय उपमहाद्वीप के अभी तक के बने हुए सभी समीकरणों को तोड़ के, अपने को दीर्घकालीन रूप से जोड़ लिया हैं |

इस कदम से भारत ने कश्मीर और उत्तर पूर्व भारत में होने वाले उग्रवाद को सैन्य कार्यवाही से निपटने का वैश्विक स्तर पर अघोषित ऐलान कर दिया है | इस कदम से उन इजराइल समर्थको को भी उत्तर दे दिया है जो पिछले वर्ष बिना अंतराष्ट्रीय कूटनीति और परिदृश्य को समझे, भारत के एक दूसरे मामले में इजराइल के विरुद्ध मतदान को लेकर अप्रसन्न थे |

http://timesofindia.indiatimes.com/world/middle-east/In-a-first-India-abstains-in-vote-on-Israels-Gaza-op/articleshow/47932142.cms
 ·  Translate
61
9
Bharat Patel's profile photoMansha Ram Sahu's profile photoVijay Dabholkar's profile photomukesh patel's profile photo
18 comments
 
सत्य का साथ देना ही होगा ।
 ·  Translate
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

विचार-विमर्श  - 
 
कंधार विमान अपहरण कांंड का एक ऐसा पहलू है, जो अब तक विश्व की दृष्टि से छुपा हुआ है |  इस IC-814 में एक ऐसा व्यक्ति बैठा था, जिसके बारे में सुनकर आप दंग रह जाएंगे | कंधार विमान अपहरण कांंड पर भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व मुखिया ए. एस. दौलत से यह उम्मीद थी कि वो इसका खुलासा करते | लेकिन उन्होंने ने खुलासा करने के बजाय कई सनसनीखेज जानकारियों को छिपा लिया | यह सब जानते हैं कि कंधार विमान अपहरण में सरकार से यह गलती हुई कि इंडियन एयरलाइंस का प्लेन जब अमृतसर पहुंचा तो उसे वहीं रोक लेना था | जो नहीं हो सका | एक रॉ प्रमुख से और भी ज्यादा खुलासे की अपेक्षा थी | दौलत साहब से यह उम्मीद थी कि वो यह बताते कि एयर इंडिया के IC 814 के अंदर मौजूद वो इटालियन कौन था ? क्यों उसे बचाने के लिए विश्व भर से दबाव दिया गया ? उन्हें ये भी बताना चाहिए कि तालिबान को किसने पैसे दिए ? कितना दिया गया? पैसे को लेकर कंधार कौन गया ? उन्हें यह भी बताना चाहिए क्या इस हाइजैक के बारे में रॉ के पास कोई जानकारी थी ? अगर थी तो किसके पास थी ? कहां चूक हुई ? इन सारे सवालों का जवाब अपने आप में एक सनसनीखेज खुलासा है | 

इस देखिए :- https://www.youtube.com/watch?v=0b1ajyp1Od8

डॉ.मनीष कुमार
 ·  Translate
38
6
Debapriya Bhattacharya's profile photoHindu Garjana हिन्दु गर्जना's profile photoBharat Patel's profile photomukesh patel's profile photo
5 comments
 
जहॉ तक सरकार एन डी ऐ की थी
 ·  Translate
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

मन की बात  - 
 
शुभरात्रि सुखद निद्रा के साथ            Good night nice sleep

तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है, अंधेरों से भी मिल रही रौशनी है |

                                 जय हिन्द जय भारत
 ·  Translate
175
5
LABHASHANKAR RAVIYA's profile photoGirish Thakur's profile photoDharam Pal's profile photobaldev aashat's profile photo
11 comments
 
Indian Army is Great I salute our solders
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

संस्कृतं पठन्तु वदन्तु लिखन्तुश्च  - 
 
कृपया संस्कृत वाक्यों का अभ्यास करते रहें, रुकें नहीं, आप अवश्य ही संस्कृत में बातचीत करना सीख जाएंगे |  

संस्कृत वाक्य अभ्यासः 

हे मातः ! अद्य अहं पाठशालां न गामिष्यामि 
माँ , मैं आज पाठशाला नहीं जाऊँगा

किमर्थं वत्स ! किम् अभवत् ? 
क्यों बेटा, क्या हो गया ?

अम्ब ! एकः छात्रः मां पीनः पीनः इति उक्त्वा अर्दयति 
माँ, एक छात्र मुझे मोटू मोटू कहकर चिढ़ाता है (परेशान करता है )

अम्ब ! सः मां स्थूलः स्थूलः इति उक्त्वा पीड़यति 
माँ, वह मुझे जाड़ूपाड़ू कहकर सताता है

तर्हि कक्षायां त्वमेव स्थूलः असि
तो क्या कक्षा में तुम ही मोटे हो

अन्यः कोsअपि स्थूलः नास्ति 
और कोई मोटू नहीं है ?

नैव मातः, अन्ये सर्वे कृशा: सन्ति 
नहीं माँ, और सभी दुबले हैं

अहमेव स्थूलः = मैं ही मोटा हूँ

वत्स ! त्वं स्थूलः असि इति त्वमपि जानासि 
बेटा, तुम मोटे हो यह तो तुम भी जानते हो

यदा को अपि स्थूलः वदति तदा 
जब कोई मोटू बोलता है तब

त्वमपि तं कृशः कृशः इति वद
तुम भी उसको दुबला दुबला यह कह दो

सः पुनः त्वां स्थूलः न वदिष्यति 
वो दुबारा तुम्हें मोटू नहीं कहेगा


कृपया इन सभी वाक्यों की तरह से आप भी अन्य वाक्य बनाएँ | 
 ·  Translate
17
3
Dines Patak's profile photoMoni Baba's profile photo
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

धर्म  - 
 
आप सभी को  शुभ दिवस              Good day Everyone          
आपका दिन मंगलमय हो              Have a nice day    

दृढ़ आत्मविश्वास और कठिन परिश्रम से कुछ भी संभव है

                          सरस्वती माता की जय
 ·  Translate
148
9
Janmejay Mishra's profile photorituraj bhardwaj's profile photoMohit Sehgal's profile photoMukeshkumar Nirala's profile photo
6 comments
 
जय माँ सरस्वती, 
 ·  Translate
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

इतिहास  - 
 
हिंदू खटीक जाति :- एक धर्मभिमानी समाज की उत्पप्ति, उत्थान एंव पतन का इतिहास |

खटिक जाति मूल रूप से वो ब्राहमण जाति है, जिनका काम आदि काल में याज्ञिक पशु बलि देना होता था | आदि काल में यज्ञ में बकरे की बलि दी जाती थी | संस्कृत में इनके लिए शब्द है, 'खटिटक' |

मध्यकाल में जब क्रूर इस्लामी अक्रांताओं ने हिंदू मंदिरों पर हमला किया तो सबसे पहले खटिक जाति के ब्राहमणों ने ही उनका प्रतिकार किया | राजा व उनकी सेना तो बाद में आती थी | मंदिर परिसर में रहने वाले खटिक ही सर्वप्रथम उनका सामना करते थे | तैमूरलंग को दीपालपुर व अजोधन में खटिक योद्धाओं ने ही रोका था और सिकंदर को भारत में प्रवेश से रोकने वाली सेना में भी सबसे अधिक खटिक जाति के ही योद्धा थे | तैमूर खटिकों के प्रतिरोध से इतना भयाक्रांत हुआ कि उसने सोते हुए हजारों खटिक सैनिकों की हत्या करवा दी और एक लाख सैनिकों के सिर का ढेर लगवाकर उस पर रमजान की तेरहवीं तारीख पर नमाज अदा की | 

मध्यकालीन बर्बर दिल्ली सल्तनत में गुलाम, तुर्क, लोदी वंश और मुगल शासनकाल में जब अत्याचारों की मारी हिंदू जाति मौत या इस्लाम का चुनाव कर रही थी तो खटिक जाति ने अपने धर्म की रक्षा और बहू बेटियों को मुगलों की गंदी नजर से बचाने के लिए अपने घर के आसपास सूअर बांधना शुरू किया |

इस्लाम में सूअर को हराम माना गया है। मुगल तो इसे देखना भी हराम समझते थे | और खटिकों ने मुस्लिम शासकों से बचाव के लिए सूअर पालन शुरू कर दिया | उसे उन्होंने हिंदू के देवता विष्णु के वराह (सूअर) अवतार के रूप में लिया | मुस्लिमों की गौहत्या के जवाब में खटिकों ने सूअर का मांस बेचना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे यह स्थिति आई कि वह अपने ही हिंदू समाज में पददलित होते चले गए | कल के शूरवीर ब्राहण आज अछूत और दलित श्रेणी में हैं |

1857 की लडाई में मेरठ व उसके आसपास अंग्रेजों के पूरे के पूरे परिवारों को मौत के घाट उतारने वालों में खटिक समाज सबसे आगे था | इससे गुस्साए अंग्रेजों ने 1891 में पूरी खटिक जाति को ही वांटेड और अपराधी जाति घोषित कर दिया |

जब आप मेरठ से लेकर कानपुर तक 1857 के विद्रोह की कहानी पढेंगे तो रोंगटे खडे हो जाए्ंगे | जैसे को तैसा पर चलते हुए खटिक जाति ने न केवल अंग्रेज अधिकारियों, बल्कि उनकी पत्नी बच्चों को इस निर्दयता से मारा कि अंग्रेज थर्रा उठे | क्रांति को कुचलने के बाद अंग्रेजों ने खटिकों के गाँव के गाँव को सामूहिक रूप से फांसी दे दिया गया और बाद में उन्हें अपराधि जाति घोषित कर समाज के एक कोने में ढकेल दिया |

स्वतंत्रता से पूर्व जब मोहम्मद अली जिन्ना ने डायरेक्ट एक्शन की घोषणा की थी तो मुस्लिमों ने कोलकाता शहर में हिंदुओं का नरसंहार शुरू किया, लेकिन एक दो दिन में ही पासा पलट गया और खटिक जाति ने मुस्लिमों का इतना भयंकर नरसंहार किया कि बंगाल के मुस्लिम लीग के मंत्री ने सार्वजनिक रूप से कहा कि हमसे भूल हो गई | बाद में इसी का बदला मुसलमानों ने बंग्लादेश में स्थित नोआखाली में लिया | आज हम आप खटिकों को अछूत मानते हैं, क्योंकि हमें उनका सही इतिहास नहीं बताया गया है, उसे दबा दिया गया है |

आप यह जान लीजिए कि दलित शब्द का सबसे पहले प्रयोग अंग्रेजों ने 1931 की जनगणना में 'डिप्रेस्ड क्लास' के रूप में किया था | उसे ही बाबा साहब अंबेडकर ने अछूत के स्थान पर दलित शब्द में तब्दील कर दिया | इससे पूर्व पूरे भारतीय इतिहास व साहित्य में 'दलित' शब्द का उल्लेख कहीं नहीं मिलता है | मुस्लिमों के डर से अपना धर्म नहीं छोड़ने वाले, हिंसा और सूअर पालन के जरिए इस्लामी आक्रांताओं का कठोर प्रतिकार करने वाले एक शूरवीर ब्राहमण खटिक जाति को आज दलित वर्ग में रखकर अछूत की तरह व्यवहार किया है और आज भी कर रहे हैं |
भारत में 1000 ईस्वी में केवल एक फीसदी अछूत जाति थी, लेकिन मुगल वंश की समाप्ति होते-होते इनकी संख्या चौदह फीसदी हो गई | आखिर कैसे ?

सबसे अधिक इन अनुसूचित जातियों के लोग आज के उत्तर प्रदेश, बिहार, बंगाल, मध्य भारत में है, जहाँ मुगलों के शासन का सीधा हस्तक्षेप था और जहाँ सबसे अधिक धर्मांतरण हुआ | आज सबसे अधिक मुस्लिम आबादी भी इन्हीं प्रदेशों में है, जो धर्मांतरित हो गये थे |

डॉ सुब्रहमनियन स्वामी लिखते हैं, ''अनुसूचित जाति उन्हीं बहादुर ब्राह्मण व क्षत्रियों के वंशज है, जिन्होंने जाति से बाहर होना स्वीकार किया, लेकिन मुगलों के जबरन धर्म परिवर्तन को स्वीकार नहीं किया | आज के हिंदू समाज को उनका शुक्रगुजार होना चाहिए, उन्हें कोटिश: प्रणाम करना चाहिए, क्योंकि उन लोगों ने हिंदू के भगवा ध्वज को कभी झुकने नहीं दिया, भले ही स्वयं अपमान व दमन झेला |''

प्रोफेसर शेरिंग ने भी अपनी पुस्तक 'हिंदू कास्ट एंड टाईव्स' में स्पष्ट रूप से लिखा है कि भारत के निम्न जाति के लोग कोई और नहीं, बल्कि ब्राहमण और क्षत्रिय ही हैं | स्टेनले राइस ने अपनी पुस्तक "हिन्दू कस्टम्स एण्ड देयर ओरिजिन्स" में यह भी लिखा है कि अछूत मानी जाने वाली जातियों में प्रायः वे बहादुर जातियां भी हैं, जो मुगलों से हारीं तथा उन्हें अपमानित करने के लिए मुसलमानों ने अपने मनमाने काम करवाए थे |

 यदि आज हम बचे हुए हैं तो अपने इन्हीं अनुसूचित जाति के भाईयों के कारण जिन्होंने नीच कर्म करना तो स्वीकार किया, लेकिन इस्लाम को नहीं अपनाया |

धन्य हैं हमारे ये भाई जिन्होंने पीढ़ी दर पीढ़ी अत्याचार और अपमान सहकर भी हिन्दुत्व का गौरव बचाये रखा और स्वयं अपमानित और गरीब रहकर भी हर प्रकार से भारतवासियों की सेवा की | हमारे अनुसूचित जाति के भाइयों को पूरे देश का प्रणाम |

साभार :

1. हिंदू खटिक जाति: एक धर्माभिमानी समाज की उत्पत्ति, उत्थान एवं पतन का इतिहास, लेखक डॉ विजय सोनकर शास्त्री, प्रभात प्रकाशन
2. आजादी से पूर्व कोलकाता में हुए हिंदू मुस्लिम दंगे में खटिक जाति का जिक्र, पुस्तक 'अप्रतिम नायक :- श्यामाप्रसाद मुखर्जी' में आया है | यह पुस्तक भी प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित है।
 ·  Translate
145
40
nanji meghvanshi's profile photoOmprakash Mistry's profile photoManojkumar Dhurwe's profile photoDharam Pal's profile photo
33 comments
 
Thank you gaganji very nice sharing 
Add a comment...
Have him in circles
10,430 people
rajesh kumar's profile photo
samir hakimi's profile photo
dinesh tak's profile photo
KaptanSingh Nandal's profile photo
rampratapsingh rajput's profile photo
VGI Vishveshwarya's profile photo
Narayan Seva Sansthan's profile photo
Amit Bothra's profile photo
Gaurav Srivastava's profile photo

Gagan Sharma Bhartiya
owner

विचार-विमर्श  - 
 
वर्षों से देख रहा हूँ, हिन्दू को उसके श्रद्धा को ले कर शर्मिंदा करने का धंधा ज़ोरों पर है | हर सुविद्य हिन्दू के लिए अपने शिक्षित होने का सबूत होता है अपने धर्म का उपहास करना | पंडित, पूजापाठ, पूजा विधि, पद्धति, मंत्र, स्तोत्र, सब कुछ का मज़ाक उड़ाना | उन्हे अवैज्ञानिक साबित करके ही उनकी  विज्ञाननिष्ठा प्रमाणित होती है | 
 
ये अलग बात है कि जब भी कोई संकट झेलने की क्षमता से ज्यादा होता है तब इन्हें आप वही सब कुछ करते देख सकते हैं | लेकिन यह नोट न इनको कोस रही न ही श्रद्धा की झंडाबरदारी कर रही |
 
जरा ध्यान से देखते हैं कि यह सुविद्य हिन्दू को उसके धर्म को ले कर शर्मिंदा करने में सब से अग्रसर कौन है ? बहुत दूर ढूँढना जरूरी नहीं होगा, ये वही है जिन पर आप को भी शक आया ही होगा | जी वही - सेंट 420 हाईस्कूलों के प्राचार्य और शिक्षक वर्ग | कॉलेज में भी सेंट 420 कॉलेज कम नहीं हैं | और तो और, कोलेजों में हिन्दू नामधारी कौमनष्ट वामपंथी भी अपनी कामपंथी  में आप को लपेटने तैयार ही रहते हैं | हिन्दू लड़के को अपने श्रद्धा को ले कर हीनताग्रंथि अगर हो जाये तो समझ सकते हैं | 
 
ऊपर से जब पोंगापंडित और ढोंगी साधुओं से पाला पड़ जाये तो धर्म से नफरत भी होने लगती है | यह भी अस्वाभाविक नहीं है | कुल मिलाकर अगर यह सुविद्य हिन्दू नास्तिक नहीं बना तो कम से कम अश्रद्ध तो जरूर हो जाता है | यह भी स्वाभाविक है | 
 
लेकिन इस पूरे प्रक्रिया के दौरान वो एक बार भी यह देखता या पूछता नहीं कि उसे अपने धर्म के प्रति हीनता का अनुभव कराने वाले यही सेंट 420 हाईस्कूलों के शिक्षक वर्ग का आस्था तथा श्रद्धा के बारे में क्या रवैया है ? क्या वे बाइबल को ढकोसला मानते हैं ? या फिर कर्ण को ले कर कुंती पर कुटिल मुस्कान देने वाले येशु के जन्म के बारे में क्या सोचते हैं ? क्या हिन्दू साधुओं का उपहास करने वाले चमत्कार करने वाले स्थानीय और विदेशी  Brothers और sisters को भी उसी नजर से देखते हैं या नहीं ? 
 
उत्तर ये होगा कि ये सुविद्य हिन्दू हीनभावना से इतना मारा रहता है कि वो ये कभी देखता ही नहीं | और अगर कभी देखा भी होगा तो पूछने की हिम्मत नहीं | सेंट 420 से निकाल बाहर कर दिया तो माँ बाप की इज्जत मिट्टी में | अच्छे कॉलेज में दाखिला डांवाडोल ! चुप रहना ही बेहतर ! 
 
अब आप ये प्रश्न करेंगे कि उसको धर्मान्तरित (Converts) तो नहीं किया तो फिर आप को क्या आपत्ति है ?  इसका उत्तर भी देना आवश्यक है |
 
ये जानते हैं कि धर्मांतरण की मुहिम महंगी पड़ेगी, इसलिए इनका फॉर्मूला अलग होता है जो हमारा नहीं हो सकेगा उसे हम तुम्हारा भी नहीं होने देंगे | यह हीनताग्रंथि का आरोपण इसी के तहत एक सोची समझी दीर्घकालिक षड्‍यंत्र है |  
 
अब आते हैं शीर्षक के मुद्दे पर। क्यूँ हिंदुओं को सिद्धों की जरूरत है और इसका राजनीतिक आधार क्या है | 
 
मनुष्य आम तौर पर श्रद्धालु होता है | भारतीय मनुष्य और उसमें भी विशेषकर हिन्दू, कुछ ज्यादा ही श्रद्धालु होते हैं | लेकिन हिन्दू की श्रद्धा "चमत्कार को नमस्कार" होती है | उसे हमेशा ठगे जाने का डर रहता है कि जिसे  धन चढ़ा  रहा है वो भगवान या गुरु सही है या नहीं | बिना वांछित चमत्कार के वो दूसरी दुकान ढूँढता है |  खतरा यही है | यह दुकान चंगाई वाले ईसाई ठग कि या कोई झाड फूँकवाले कसाई की भी हो सकती है | और वहाँ जो गया, वहीं का हो गया |
 
ये चंगाईवालों को ले कर मुझे हमेशा यह खयाल आता है | कई विडियो देखे हैं उनके | थरथराती कांपती कोई बीमार हिन्दू महिला आती है फिर वो पादरी उस पर पानी छिड़कता है | पाँच-दस मिनट के नाटक के बाद वो ठीक हो जाती है | एक दक्षिण का  विडियो था उसमें येशु के नाम से पिशाच् उतारा जा रहा था | दक्षिणी  फिल्मों में हमेशा जोर से अभिनय (loud acting) होता है | यह बाधित महिला अपवाद न थी | तो मेरा विचार ये है कि उस स्टेज पर दस बड़े चूहे, चार पाँच छिपकलियाँ  और एक नाग भी छोड़ देना चाहिए | बिना जादू टोने के ही अपेक्षित चमत्कार होते दिखाई देगा, महिला टनाटन कूदते भागेंगी | चमत्कार ! https://www.facebook.com/video.php?v=10206476661498490
 
ये अंधश्रद्धा वाले कभी इनके पास गए देखे नहीं | उनकी "बेबाक और निस्वार्थ समाजसेवा" पर फिर कभी | 
 
तो मुद्दा यह है कि हिन्दू को ये ग्राहक बना रहे हैं, धर्मांतरण के धंधे में | इसीलिए अपने भाइयों को इन भेड़ियों से सुरक्षित रखने के लिए सिद्धों की आवश्यकता है जो सही में कुछ जानते हैं | ज्ञान वो भी होता है, ज्ञानी ही कम है, लुटेरे पोंगे ही ज्यादा मिल जाते हैं | लेकिन आज ज्ञाता सिद्धों की हिंदुओं को और पर्याय से  हिंदुस्तान को आवश्यकता है | जमीन यही अपनी जगह रहेगी लेकिन अगर हिन्दू न बचे तो अपना यह देश हिंदुस्तान नहीं रहेगा | 
 ·  Translate
30
10
Bharat Mahaan's profile photoDines Patak's profile photoHindu Garjana हिन्दु गर्जना's profile photoPravin Sherekar's profile photo
4 comments
 
Very Nice Sir...
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

धर्म  - 
 
आप सभी को  शुभ दिवस              Good day Everyone          
आपका दिन मंगलमय हो              Have a nice day    

                            ॐ शं शनैश्चराय नमः
 ·  Translate
63
3
Panna Lalsah's profile photoRajeev Chaudhary's profile photoRavindra Singh's profile photoomprakash chauhan's profile photo
3 comments
 
Jai Shanideo
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

विचार-विमर्श  - 
 
#खबरी_वेश्याएं जो कराये सो कम इस लश्कर-ए-मीड़िया ने हम सबको बताया एक मुस्लिम लड़की मरयम सिद्दीकी जिसने गीता प्रतियोगिता जीती, उसे ऐसे बड़ा चढ़ा के दिखाया कि उसे गीता कंठस्थ है और संस्कृत की विद्वान है |

आज खुलासा करते है गीता कांटेस्ट जीतने वाली मरियम सिद्दीकी को | जिसे गीता का ज्ञान तक नही और उसे कंठस्थ और ज्ञानी बताया गया |

अवश्य पढ़िए पूरी कहानी :- http://hindi.insistpost.com/expose-of-maryam-siddiqui/
 ·  Translate
50
5
Kanchan Gupta's profile photoAmit Mishra's profile photoSunil Gupta's profile photoAnil Vadgama's profile photo
4 comments
 
Bikao media 
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

विचार-विमर्श  - 
 
राजनैतिक घोटालो का हश्र. . .

जज प्रणाली (भारत)

एक हजार घोटालो खबरी वेश्याएं द्वारा पैसे लेकर न दिखाए जाने के कारण नौ सौ गायब | शेष सौ घोटालो में से नब्बे घोटाले दो-चार दिन #लश्कर_ए_मीड़िया पर विचार-विमर्श और आरोप प्रत्यारोप के बाद गायब | शेष दस पर हद से ज्यादा हल्ले के कारण FIR दर्ज |

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, जांच के लिए 'तैयार' | अदालत पर पूरा भरोसा, जो भी फैसला होगा फैसला स्वीकार करेंगे |

जांच शुरू :- अदालत में जाते ही, मामला लश्कर-ए-मीड़िया आदि से गायब |

नेता उवाच :- मामला अदालत में है, मैं निर्दोष हूँ |

कई वर्षो तक मुकदमे घिसटने के दौरान गवाहों की हत्या या खरीद फरोख्त, जांच अधिकारी की खरीद फरोख्त, फ़ाइले गुमना, सबूत नष्ट |

लश्कर-ए-मीड़िया में हल्ला. . .

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, जांच के लिए तैयार, अदालत के फैसले पर भरोसा |

नेता चुनाव जीत (या हार कर भी) पार्टी या सरकार के उच्च पदों पर आसीन |

नेता उवाच :- जांच जारी, मैं निर्दोष हूँ, अदालत के फैसले पर भरोसा |

दस-पंद्रह वर्ष बाद दस में से आठ मामलो में नेता बरी | शेष दो में नेता द्वारा उच्च न्यायलय में अपील |

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, अदालत पर भरोसा |

दो में से एक मामले में दस-पंद्रह वर्ष बाद उच्च न्यायलय से नेता बरी, एक में दोषी |

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, अदालत पर पूरा भरोसा, उच्च न्यायलय में अपील करेंगे |

एक मामला उच्चतम न्यायालय में विचारधीन. . .

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, अदालत पर भरोसा |

मामला अदालत में जारी. . .

नेता उवाच :- मैं निर्दोष हूँ, अदालत पर पूरा भरोसा |

सुविधा के लिए वाक्य 'अदालत पर पूरा भरोसा', को 'जज पर पूरा भरोसा पढ़े' |

जूरी प्रणाली (अमेरिका)

आज मामला दर्ज :- दो-तीन दिन में नागरिको की जूरी का गठन और सुनवाई शुरू | हर मुकदमे के लिए अलग जूरी होने से दस-पंद्रह दिन में फैसला | हाईकोर्ट में अपील, पाँच-सात दिन में उच्च न्यायालय ज्यूरी का फैसला | उच्चतम न्यायालय में अपील करने पर हफ्ते भर में फैसला | नेता जेल में राजनीति समाप्त |

नेता उवाच :- ज्यूरी सिस्टम बकवास है, भारत में यह लागू होने से प्रलय आ जायेगी, धरती उलट पलट हो जायेगी, देश बर्बाद हो जाएगा, क़यामत होगी, सूर्य ठंडा हो जाएगा, धरती चपटी हो जायेगी, चाँद समन्दर में गिर जाएगा, हिमालय से ऊँची सुनामी आ जायेगी | जज प्रणाली अच्छी है, हमे जजो पर पूरा भरोसा |
 ·  Translate
68
13
BRAJDEEV TIWARI's profile photoAmit Mishra's profile photoKanwar Sain's profile photopraful patel's profile photo
12 comments
 
modi raj me sabkuch thik hoga.bharosa rakhe.
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

धर्म  - 
 
शुभरात्रि सुखद निद्रा के साथ            Good night nice sleep

                      विषय विकार मिटाओं पाप हरो देवा 

                               स्वामी जय जगदीश हरें
 ·  Translate
142
1
dilubha gohil's profile photoUsha Singh's profile photogeeta rani's profile photoSachin Kumar's profile photo
7 comments
 
Shrdha bhakti badhao santan ki sewa
 ·  Translate
Add a comment...

Gagan Sharma Bhartiya
owner

धर्म  - 
 
आप सभी को  शुभ दिवस              Good day Everyone          
आपका दिन मंगलमय हो              Have a nice day    

ॐ नारायणाय विद्महे वासुदेवाय धीमहि तन्नो विष्णु प्रचोदयात्

                                      हरि ॐ
 ·  Translate
250
8
chacko pm's profile photoSubramaniam Kousik's profile photoSamik Koley's profile photomanis khetani's profile photo
6 comments
 
Radhe radhe 
Add a comment...
People
Have him in circles
10,430 people
rajesh kumar's profile photo
samir hakimi's profile photo
dinesh tak's profile photo
KaptanSingh Nandal's profile photo
rampratapsingh rajput's profile photo
VGI Vishveshwarya's profile photo
Narayan Seva Sansthan's profile photo
Amit Bothra's profile photo
Gaurav Srivastava's profile photo
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Previously
भारत (Bharat) - उत्तर प्रदेश - लखनऊ
Work
Employment
  • राष्ट्रहित व राष्ट्रनिर्माण हेतु प्रयासरत
    राष्ट्र सेवा में समर्पित
  • देशभक्त
Basic Information
Gender
Male